सेक्टर-9 हॉस्पिटल में 15 और डाक्टरों की होगी भर्ती, ऑनलाइन होगी मेडिकल रिपोर्ट और प्रतिपूर्ति का भुगतान भी

बीएसपी की सीजीएम पर्सनल निशा सोनी की अध्यक्षता में बैठक हुई। इंटक, सीटू, बीएमएस, एटक, मंच, बीडब्ल्यूयू, एचएमएस, लोकतांत्रिक इंजीनियरिंग मजदूर यूनियन और स्टील वर्कर्स यूनियन के पदाधिकारी मौजूद रहे। एक्टू गैर हाजिर।

अज़मत अली, भिलाई। भिलाई टाउनशिप के आवास और चिकित्सा सुविधा को बेहतर बनाने के लिए बीएसपी प्रबंधन और नौ यूनियनों के बीच ज्वाइंट मीटिंग का बेहतर नतीजा सामने आया है। दो घंटे तक चली बैठक में अस्पताल की सेवा को बेहतर किए जाने की जानकारी दी गई है। डाक्टरों की कमी को दूर करने, दवा खरीदी की प्रतिपूर्ति और ऑनलाइन मेडिकल रिपोर्ट के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई।

सीजीएम पर्सनल निशा सोनी की अध्यक्षता में यूनियन पदाधिकारियों के बीच चर्चा का दौर जारी रहा। चीफ मेडिकल ऑफिसर डाक्टर रविंद्र नाथ ने बिंदुवार जानकारी साझा की। बैठक में उन्होंने बताया कि पिछले दिनों आउटसोर्स के माध्यम से 12 डाक्टरों की भर्ती की गई है। इनके अलावा विशेषज्ञ डाक्टरों की कमी को दूर करने के लिए 15 और चिकित्सकों की भर्ती प्रक्रिया को जल्द ही शुरू किया जाएगा। सेल प्रबंधन ने 15 डाक्टरों की भर्ती को मंजूरी दे दी है। वहीं, दवाइयों की उपलब्धता पर फोकस किया गया है। किसी तरह की कोई कमी नहीं होने दी जा रही है।

दवा प्रतिपूर्ति (Reimbursement) पर उन्होंने बताया कि इस सुविधा के लिए ऑनलाइन सिस्टम बनाया जा रहा है। ई-सहयोग के जरिए पर्ची को स्कैन करके अपलोड किया जा सकेगा। इसे डाक्टर चेक करके ओके करेंगे, जिसके बाद बिल स्वीकृत हो जाएगा। अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसे जल्द लागू किया जाएगा। वहीं, मेडिकल रिपोर्ट भी ऑनलाइन हो जाएगी। डाक्टर के पास रिपोर्ट ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि रिपोर्ट ऑनलाइन रहेगी। बैठक में आइआर विभाग के महाप्रबंधक जेएन ठाकुर, महाप्रबंधक सूरज सोनी, महाप्रबंधक सीजा मैथ्यू मौजूद रहीं।

ये खबर भी पढ़ें:सेल के पंक्चर की दुकान से कर्मचारियों-अधिकारियों को मिली राहत, बढ़ रहे ग्राहक, जानिए रेट लिस्ट और दुकान खुलने का समय

मरीजों को देखने में न हो भेदभाव

बैठक के दौरान इंटक के अतिरिक्त महासचिव संजय साहू ने चिकित्सकों के रवैये पर सवाल उठाया। कहा-एक ही विभाग के चिकित्सक दूसरे डाक्टर के मरीज को हाथ नहीं लगाते हैं। बेहतर उपचार के लिए दूसरे चिकित्सक से सलाह लेना भी भारी पड़ता है। इस व्यवस्था को सुधारा जाए, ताकि कोई भी डाक्टर किसी दूसरे मरीज को देख सके।

मृतक आश्रित के परिवार को मिलती रहे मेडिकल सुविधा

आश्रित परिवार का भी मुद्दा उठाया गया। कर्मचारी की मौत के बाद परिवार से मेडिकल बुक को वापस ले लिया जाता है। मांग की गई है कि जब तक नौकरी की अवधि है, तब तक मेडिकल सुविधा आश्रित परिवार को दी जाए।भिलाई टाउनशिप के आवास और चिकित्सा सुविधा को बेहतर बनाने के लिए बीएसपी प्रबंधन और 8 यूनियनों के बीच पहली ज्वाइंट मीटिंग हो रही है। करीब 12 बजे शुरू हुई बैठक, अब भी जारी है। सीजीएम पर्सनल निशा सोनी की अध्यक्षता में यूनियन पदाधिकारियों के बीच चर्चा का दौर जारी है।

जानिए किस यूनियन से कौन रहा बैठक में शामिल

इम्प्लाइज वेलफेयर को लेकर हुई ज्वाइंट मीटिंग में मान्यता प्राप्त यूनियन इंटक के अतिरिक्त महासचिव संजय साहू, पूरन वर्मा, सीटू अध्यक्ष सविता मालवीय, महासचिव एसपी डे, मंच से राजेश अग्रवाल, बीएसपी वर्कर्स यूनियन के खूबचंद्र वर्मा, डी. राव, स्टील वर्कर्स यूनियन के नंद कुमार गुप्ता, एटक से विनोद कुमार सोनी, लोकतांत्रिक इंजीनियरिंग मजदूर यूनियन से प्रभाकर दास व बंदन लाल गेंद्र, एचएमएस के महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र, बीएमएस से रवि सिंह व आइपी मिश्र मौजूद रहे। बता दें कि बैठक में एक्टू से कोई भी प्रतिनिधि नहीं शामिल हुआ

ये खबर भी पढ़ें: सावधान! भिलाई इस्पात संयंत्र के हृदय स्थल इस्पात भवन में है जहरीला सांप, आप रहें सतर्क

खबर अपडेट की जा रही है…।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!