64 कोयला खदान की नीलामी, थर्मल कोयले का आयात रोकने पर फोकस

0
exhibition prahlad joshi 1
कोयला मंत्रालय ने कोयला खदानों के दस सफल बोलीदाताओं के साथ समझौता किया। शीघ्र उत्पादन में निजी क्षेत्र के साथ प्रतिस्पर्धा का आग्रह किया।
AD DESCRIPTION

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने दिल्ली में राष्ट्रीय कोयला सम्मेलन और प्रदर्शनी-2022 का उद्घाटन किया।

सूचनाजी न्यूज,दिल्ली। केंद्रीय कोयला, खान और संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लादजोशी ने सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों से कोयला खदान की नीलामी और शीघ्र उत्पादन में निजी क्षेत्र के साथ प्रतिस्पर्धा करने का आग्रह किया। नई दिल्ली में राष्ट्रीय कोयला सम्मेलन और प्रदर्शनी-2022 को संबोधित करते हुए प्रल्हाद जोशी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कीमतों में अभूतपूर्व वृद्धि के बावजूद, कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने घरेलू कोयले के मूल्यों में वृद्धि नहीं की है और हाल के दिनों में कोयले के उत्पादन को काफी हद तक बढ़ाया है और वह ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले की कमी से उबरने में कामयाब रहा है।

ये खबर भी पढ़े …भारतीय रेलवे ने सितंबर तक स्क्रैप की बिक्री से 2500 करोड़ रुपये से अधिक की आय अर्जित की

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

प्रह्लाद जोशी ने कहा कि 2020 में शुरू की गई वाणिज्यिक नीलामी के अंतर्गत अब तक 64 कोयला खदानों की सफलतापूर्वक नीलामी की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि 2024 तक थर्मल कोयले के आयात को रोकने के लिए सभी प्रयास जोरों पर हैं और कमर्शियल के तहत कोयले के जल्द उत्पादन के लिए प्रोत्साहन दिया जा रहा है। कोल इंडिया लिमिटेड के अच्छे प्रदर्शन पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि कम्पनी के स्वामित्व में आने वाली कैप्टिव खदानों से इस साल 125 मिलियन टन (एमटी) कोयले के उत्पादन होने की संभावना है।

ये खबर भी पढ़े …इस दिपावली सेल के अधिकारियों की झोली रहेगी खाली, नहीं मिलेगा एडवांस पीआरपी

कोयला मंत्रालय ने सम्मेलन के दौरान दूसरे प्रयास के तहत 15वें चरण और 13वें और 14वें चरण में कोयले की बिक्री के लिए 10 सफल कोयला खदानों के बोलीदाताओं के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए। जिन खदानों के लिए कोयला खदान/ब्लॉक उत्पादन और विकास समझौते निष्पादित किए गए हैं उनमें कस्ता (पूर्व), मार्की बारका, बररा, कोयागुडेम ब्लॉक III, मैकी नॉर्थ, अलकनंदा, बसंतपुर, बंधा उत्तर, मार्की मंगली IV और जितपुर शामिल हैं।

ये खबर भी पढ़े …SAIL Bonus Meeting Updates: सेल बोनस पर अब तक विवाद, पांच साल का फॉर्मूला आया सामने, लंच के बाद दोबारा होगी बैठक

सफल बोलीदाताओं में जीतसोल डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, बिड़ला कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारत एल्युमिनियम कंपनी लिमिटेड, ऑरो कोल प्राइवेट लिमिटेड, मैकी साउथ माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड, रूंगटा संस प्राइवेट लिमिटेड, गंगारामचक माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड, जयप्रकाश पावर वेंचर्स लिमिटेड, सौभाग्य मर्केंटाइल लिमिटेड और टेरी माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं।

ये खबर भी पढ़े …Share Market: शेयर मार्केट में Electronics Mart India लिस्टेड, दूसरे दिन भी धनवर्षा, कमाई का मौका…

इन 10 कोयला खदानों से 10.39 मिलियन टन प्रति वर्ष की सर्वोत्तम क्षमता के उत्पादन को देखते हुए कुल 1077.67 करोड़ रुपये के राजस्व का अनुमान है। एक बार पूरी तरह से चालू हो जाने के बाद, इन खदानों से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 14,047 लोगों के लिए रोजगार सृजित होने की सम्भावना है। खदानों के संचालन पर कुल 1558.50 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। इन खानों के लिए उपार्जित राजस्व की हिस्सेदारी 6.48 प्रतिशत की औसत प्रतिशत राजस्व हिस्सेदारी के साथ 5 प्रतिशत से 15.75 प्रतिशत तक है।

ये खबर भी पढ़े …सोशल मीडिया की अदालत में सेल बोनस पर बहस जारी, बोनस की रकम ₹…. पर फैसला 18 को

कोयला मंत्रालय के संरक्षण में, भारतीय राष्ट्रीय समिति विश्व खनन कांग्रेस ने “आत्मनिर्भर भारत की ओर भारतीय कोयला क्षेत्र -टिकाऊ खनन” विषय पर पहली बार राष्ट्रीय कोयला सम्मेलन और प्रदर्शनी – 2022 का आयोजन किया है।

ये खबर भी पढ़े …खुर्सीपार में 5 करोड़ में बिछेगा सड़कों का जाल, विधायक देवेंद्र ने दिया दीपावली गिफ्ट

कोयला मंत्रालय में सचिव डॉ. अनिल कुमार जैन, खान मंत्रालय में सचिव विवेक भारद्वाज और कोल इंडिया लिमिटेड के सीएमडी प्रमोद अग्रवाल ने इस सम्मेलन को संबोधित किया जिसमें नीति निर्माताओं, सार्वजनिक और अन्य हितधारकों की सक्रिय भागीदारी देखी गई जो निजी क्षेत्र की खनन कंपनियों, शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों और भारतीय कोयला क्षेत्र को आत्मनिर्भर भारत के राष्ट्रीय मिशन के साथ संरेखित करने के लिए आवश्यक कार्ययोजना तैयार करने के लिए बातचीत कर रहे हैं। सम्मेलन में कोयला, खान, बिजली, इस्पात, आपदा प्रबंधन, कोयला खनन कंपनियों के मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा खनन इंजीनियरिंग क्षेत्र के लगभग 150 छात्रों ने भी भाग लिया।

ये खबर भी पढ़े …बोकारो स्टील प्लांट में एयर टर्बो कंप्रेसर का उद्घाटन, इधर- बीएसएल में इन्वेंट्री चैम्पियन से कई सम्मानित

तकनीकी सत्रों और परस्पर विचार-विमर्शों का फोकस तीन प्रमुख विषयों, बिजली क्षेत्र में ईंधन आत्मनिर्भरता, कोयले के लिए इस्पात निर्माण में आत्मनिर्भर भारत और प्रौद्योगिकी और स्थिरता के आसपास केंद्रित था।

ये खबर भी पढ़े …नक्सलियों के गढ़ में भिलाई स्टील प्लांट ने दिव्यांगों के लिए लगाया शिविर
आकर्षक और सूचनात्मक प्रदर्शनी में प्रौद्योगिकी को शामिल करने, सतत विकास, सूचना प्रौद्योगिकी पहल, खनन सुरक्षा में सर्वोत्तम प्रथाओं आदि के लिए कोयला खनन क्षेत्र की पहल को प्रदर्शित किया गया था। भारतीय कोयला खनन क्षेत्र द्वारा उपयोग की जाने वाली नवीनतम तकनीकों तथा आईटी-सक्षम उपकरण भी प्रदर्शित किए गए।

ये खबर भी पढ़े …राउरकेला स्टील प्लांट: जूनियर और सीनियर ग्रुप के 450 से अधिक छात्र-छात्राओं ने मनवाई अपनी प्रतिभा

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here