बीएसपी की मेन पाइपलाइन को काटकर पानी ले जा रहे थे 80 कब्जेदार, दो टंकिया फुल न होने से झेल रहा था कर्मचारियों का परिवार

सेक्टर-5 नाला के समीप करीब 80 से ज्यादा कब्जेदारों का परिवार रह रहा है। इन्होंने अपने लिए पानी का बंदोबस्त मेन पाइपलाइन को काटकर कर लिया था।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई टाउनशिप में कब्जेदारों की गुंडई नई बात नहीं है। पूरा साम्राज्य फैला हुआ है। बिजली-पानी फ्री में इस्तेमाल करने की आदत हो चुकी है। इस वजह से खुलेआम गुंडई करने से भी कब्जेदार बाज नहीं आ रहे। सेक्टर-5 नाला के समीप करीब 80 से ज्यादा कब्जेदारों का परिवार रह रहा है। इन्होंने अपने लिए पानी का बंदोबस्त मेन पाइपलाइन को काटकर कर लिया था। पानी की पाइपलाइन को नुकसान पहुंचाकर चोरी का पानी इस्तेमाल करने का खामियाजा सेक्टर एरिया के लोगों को भुगतना पड़ रहा था।

ओवर हेड टैंक फुल नहीं होने की वजह से पानी का प्रेशर भी डाउन रहता था। आयेदिन इस को लेकर किचकित होती थी। बीएसपी के पीएचई डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने सर्वे किया। पाइपलाइन की खुद जांच की तो सच्चाई सामने आ गई। जेपी सीमेंट के समीप नाला के पास पाइपलाइन को ही काटकर कनेक्शन किया था, जिस वजह से पानी टंकियों तक प्रेशर के साथ पानी नहीं पहुंच पा रहा था। इधर-पानी की बर्बादी हो रही थी।

मेन पाइनलाइन होने की वजह से यहां चौबीस घंटे पानी की सप्लाई हो रही थी। इसका फायदा कब्जेदार उठा रहे थे, बाकी सेक्टरवासी झेल रहे थे। पीएचई का कहना है कि इस वजह से इस्टर्न ग्रिड प्रभावित हो रही थी। सेक्टर-2 व सेक्टर-4 के ओवर हेड टैंक में भरपूर पानी नहीं भर पा रहा था, जिसकी वजह से घरों तक कम प्रेशर का पानी पहुंच रहा था।

मंगलवार को इसे सुधारा गया। सात घंटे तक मरम्मत कार्य किया गया है। बताया जा रहा है कि बुधवार को जलापूर्ति प्रभावित रह सकती है। इधर-अवैध रूप से जोड़ी गई पाइपलाइन को पीएचई ने निकाल दिया है। साथ ही लोहे की पाइपलाइन को सही कर लिया गया है। इसके साथ ही पानी की बर्बादी भी रोक ली गई है। मरम्मत कार्य करने वाले कर्मचारियों ने बताया कि यह कार्य अत्यंत मुश्किल भरा था। नाले के ऊपर खड़े होकर कार्य करना था। बीच में थोड़ी देर के लिए बारिश आ गई। सुबह से लेकर शाम तक लगातार यह कार्य किया गया। उसके बाद में वेल्डिंग करके लाइन को चार्ज किया गया। यह बहुत ही मुश्किल कार्य था, पूरी पीएचई की टीम बधाई की पात्र है।

लीकेज-दूषित जल की शिकायत इन नंबरों पर करें…

भिलाई टाउनशिप में दूषित पानी और लीकेज की शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। नगर सेवाएं विभाग ने टाउनशिप वासियों की सुविधा के लिए नंबर जारी किया है ताकि किसी को दफ्तरों का चक्कर न लगाना पड़े। ईस्ट एरिया यानी सेक्टर-1,2,3,4,5, 6 के रहवासियों के लिए हेल्पलाइन नंबर-0788 285 8642 जारी किया गया है। इसी तरह वेस्ट एरिया सेक्टर-7, 8, 9, 10, रिसाली और मरोदा वासी 0788 285 6414 पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

ये खबर भी पढ़ें: इस्पात मंत्री आरसीपी का कटा पत्ता, इधर-छत्तीसगढ़ से रंजीत रंजन और राजीव शुक्ला जाएंगे राज्यसभा, दोनों बाहरी प्रत्याशी से सोशल मीडिया गर्म, तुलसी साहू करती रह गईं इंतजार

बुधवार को पानी सप्लाई हो सकती है प्रभावित

भिलाई इस्पात संयंत्र के जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी द्वारा जेपी सीमेंट चौक के पास 350 मिमी व्यास पाइप लाइन में लीकेज का सुधार कार्य मंगलवार को किया गया। इस कार्य के लिए इस्टर्न ग्रिड को पूर्णतया बंद किया किया गया। इस वजह से सेक्टर-1 से सेक्टर-6 तक एक जून बुधवार को नियमित पानी सप्लाई आंशिक रुप से बाधित रहने की संभावना है।
जलापूर्ति बाधित होने की वजह से आप घरों में पानी स्टोर करके रख लें ताकि आपात स्थिति में आपको दिक्कत न होने पाए।

ये खबर भी पढ़ें: आईएनएस गोमती नौसेना से कार्यमुक्त, लखनऊ गोमती नदी के तट पर म्यूजियम में दिखेंगी यादें, सेल का कर्मचारी छह साल तक कर चुका है जहाज की सेवा, आखिरी पल का बना साक्षी

बरसात से पहले नाला सफाई अभियान तेज

बरसात का पानी बीएसपी आवासों में न घुसने पाए, इसलिए नाला सफाई अभियान तेज कर दिया गया है। सेक्टर-6 नाला की सफाई युद्धस्तर पर की जा रही है। गंदगी को निकाला जा रहा है ताकि बरसात का पानी का बहाव प्रभावित न होने पाए। वहीं, भिलाई इस्पात संयंत्र के टाउन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग द्वारा वार्षिक रखरखाव योजना 2022-2023 के तहत टाउनशिप में विद्युतीय मेंटेनेंस कार्य संपादित किए जा रहे हैं। यह कार्य प्रतिदिन योजनानुसार पूर्ण किए जाते हैं। इस कार्य के तहत टाउनशिप में 31 मई को विद्युत आपूर्ति प्रभावित रही। मंगलवार को सेक्टर-6 का पश्चिमी भाग, रूआबांधा तथा मरोदा वाटर पम्प हाउस (एमडब्ल्यूपी) में विद्युत आपूर्ति प्रभावित रही। सुबह 6 बजे से 8 बजे तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहने से लोगों को खासा परेशानी हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!