भिलाई टाउनशिप के कब्जेदारों का सामने करने बनेगी सभी ट्रेड यूनियन-आफिसर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों की संयुक्त टीम, पहुंचेगी मौके पर

अज़मत अली, भिलाई। भिलाई टाउनशिप के कब्जेदारों के खिलाफ इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट बड़ी कार्रवाई कर रहा है। कब्जे की राजनीति की वजह से आयेदिन विवाद की स्थिति बनती है। ट्रेड यूनियनों और आफिसर्स एसोसिएशन ने बेदखली की कार्रवाई का समर्थन किया है। अब एक कमेटी गठित की जाएगी, जिसमें आफिसर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों के अलावा सभी यूनियन के प्रतिनिधि शामिल होंगे। कब्जेदारों के खिलाफ होने वाली कार्रवाई के समर्थन में संयुक्त टीम मौके पर पहुंचेगी। कर्मचारियों और अधिकारियों का हौसला बढ़ाया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें:बीएसपी कर्मचारियों ने राजनीतिक दलों को मुहब्बत से समझाया, संभल जाएं, वरना छह विधानसभा क्षेत्र में नहीं मिलेगा संभलने का मौका

बीएसपी के डायरेक्टर इंचार्ज अनिर्बान दासगुप्ता शुक्रवार को इस्पात भवन में सभी यूनियन व ओए प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर रहे थे। इस दौरान बीएसपी वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता ने यह मुद्दा उठाया। कब्जेदारों के खिलाफ संयुक्त टीम बनाने का प्रस्ताव दिया, जिस पर प्रबंधन ने सहमति दे दी है। आफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एनके बंछोर ने भी हामी भर दी है।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई स्टील प्लांट में हादसा रोकने 22 करोड़ खा गई कंसल्टेंसी एजेंसी, डेढ़ साल में 10 की मौत, डायरेक्टर इंचार्ज आज यूनियनों से लेंगे फीडबैक

नगर सेवाएं विभाग द्वारा अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई का सभी यूनियनों ने समर्थन किया। साथ ही प्रबंधन से मांग की है कि एक कमेटी बनाई जाए, जिसमें आफिसर्स एसोसिएशन और यूनियन के प्रतिनिधियों को शामिल किया जाए। यह टीम इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट की कार्रवाई के समर्थन में मौके पर मौजूद रहेगी। फिलहाल, व्यक्तिगत संबंधों के आधार पर ही यूनियन के प्रतिनिधि समर्थन में पहुंचते हैं। किसी तरह का विवाद होने की स्थिति से बचने के लिए अधिकारी रूप से मौजूदगी की मांग की गई। इस पर भी प्रबंधन ने हामी भर दी है।

ये खबर भी पढ़ें: Director Incharge Trophy Final: सीएसवीटीयू-1 ने एनआईटी रायपुर को पांच विकेट से हराया, रात्रे ने पांच छक्के मारकर एनआईटी का छुड़ाया छक्का

इधर, ओए-यूनियन के सदस्य शामिल होंगे सेफ्टी कमेटी में

डायरेक्टर इंचार्ज की तरफ से कहा गया कि सेफ्टी प्रोग्राम में ओए और यूनियन प्रतिनिधियों को शामिल किया जाएगा। यूनियन के माध्यम से जन जागरुकता फैलाया जा सकता है। यूनियन की तरफ से सुझाव आया कि हर यूनियन से कम से कम 10 लोगों को शामिल किया जए, एक-दो पदाधिकारियों को शामिल करने से कोई खास असर नहीं होने वाला है। प्रबंधन ने इस पर हामी भरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!