कोल इंडिया के करीब 500 कर्मचारी होंगे निलंबित, अनिश्चितकालीन हड़ताल की तैयारी में एचएमएस

सूचनाजी न्यूज, नागपुर। कोल इंडिया के करीब 500 कर्मचारियों पर नौकरी संकट आ गया है। इन्हें बाहर करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। आश्रितों को नौकरी देने के बाद अब वापस लेने के आदेश से हड़कंप मचा हुआ है। मामला, वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड-डब्ल्यूसीएल का है। साल 2012 के बाद गंभीर बीमारी के चलते मेडिकल अनफिट पश्चात उनके आश्रितों को नौकरी दी गई थी। कंपनी ने इसे गलत प्रक्रिया बताते हुए नौकरी वापस लेने का आदेश जारी कर दिया है। इससे कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

देश में दौड़ी 134 किलोमीटर की रफ्तार से ट्रेन, ट्रैक से लेकर सिग्नल तक सब सहीhttps://suchnaji.com/the-train-ran-at-a-speed-of-134-km-in-the-country-everything-right-from-the-track-to-the-signal/

ज्यादातर यूनियनों ने चुप्पी साध ली है। लेकिन कोयला श्रमिक सभा-एचएमएस खुलकर सामने आ गया है। एचएमएस ने वेस्टर्न कोल फ़ील्ड्स लिमिटेड के सीएमडी को चिट्‌ठी लिखकर अवगत कराया कि सभी लोगों ने नियमों के तहत ही नौकरी प्राप्त की है, इसलिए उनके ख़िलाफ़ अनुशासनात्मक कार्यवाही नहीं होना चाहिए। साथ ही चेतावनी दी है कि अगर, कंपनी किसी को भी बाहर करती है तो खदानों में अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।
राम मंदिर की दीवारों में समा रहा भिलाई स्टील प्लांट का भूकंपरोधी सरिया

एचएमएस के अध्यक्ष शिवकुमार यादव का कहना है कि नेशनल कोल वेज एग्रीमेंट-एनसीडब्ल्यू-6 में मेडिकल अनफिट का जिक्र है। जिसके क्लाज़ 9.4.0. (i) के तहत कर्मचारियों को गंभीर बीमारी के चलते मेडिकल अनफिट पश्चात् उनके एक आश्रित को नौकरी देने का प्रावधान कंपनी ने तय किया है। किंतु NCWA-6 में 9.4.0 के क्लाज़ (ii) में शारीरिक दुर्बलाता के कारण भी कर्मचारियों को मेडिकल अनफ़िट पश्चात् एक आश्रित को नौकरी दिए जाने का प्रावधान है। जिसमें शारीरिक दुर्बलता के कारण मेडिकल अनफ़िट होने वाले कर्मचारियों की आयु 58 साल या इससे कम की समय सीमा दर्ज है।

इस दायरे में आने वाले 58 से अधिक उम्र के करीब 350-500 लोग मेडिकल अनफिट हुए। इसके बाद आश्रितों को नौकरी भी कंपनी ने दी। इसके बाद यह मामला विजलेंस और सीबीआई तक पहुंचा। सीबीआई ने क्लीन चिट तक दे दी। वर्ष 2015-16 से कोल इंडिया ने अनौपचारिक रूप से इस प्रावधान (मेडिकल अनफ़िट) के तहत भर्ती पर रोक लगा दी गई।
बताया जा रहा है कि 58 साल से अधिक का नौकरी का प्रावधान ही नहीं है।

इस संबंध में विजलेंस से लेटर आने के बाद डब्ल्यूसीएल प्रबंधन अपने बचाव में आ गया है। आनन-फानन में डब्ल्यूसीएल के कार्मिक विभाग की तरफ से लेटर जारी किया गया है कि आश्रितों को जो नौकरी दी गई है कि वह अवैध है। मेडिकल अनफ़िट पश्चात नौकरी कर रहे सभी आश्रितों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया। वहीं ज्ञात हुआ है कि वेस्टर्न कोल फ़ील्ड्स लिमिटेड, नागपुर आगे चलकर लगभग 350 से 500 ऐसे सभी कर्मचारियों की सेवा समाप्ति का मन बना चुकी है।

20 साल तक पानी में डूबा रहा चूना खदान, लक्ष्मण सेतु बनाकर निकाला पानी, अब 20 लाख टन से ज्यादा निकलेगा चूना, सेल को करोड़ों की बचत

इधर, शिव कुमार यादव ने स्पष्ट कर दिया है कि मजदूरों की कहीं कोई गलती नहीं है। कर्मचारियों द्वारा नियमों का पालन करते हुए अनफिट के लिए आवेदन प्रक्रिया पूर्ण की है। आगे अब कमेटी ने क्या देखा और क्या किया यह अभी अज्ञात है। 9.4.0 के क्लाज-1 के तहत ही आश्रितों को नौकरी दी गई है। ऐसे केस में क्लास-2 लागू नहीं होता है। 1994 में भी छह बीमारियों पर मेडिकल अनफिट का सर्कुलर जारी किया गया है, जिसमें कहीं भी इस हेतु आयु की समय सीमा आदि का उल्लेख नहीं है। इसलिए एचएमएस संगठन पूर्णतः कर्मचारियों के साथ है। कंपनी अगर, मनमाना फैसला करती है तो अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!