भिलाई स्टील प्लांट में मानवीय के साथ इंजीनियरिंग चूक से हो रहे हादसे, रिपोर्ट गायब

सीटू नेता सहायक महासचिव एसएसके पनिकर ने कहा कि पिछले दिनों ब्लास्ट फर्नेस-7 एवं एसएमएस-2 में घटी दुर्घटना ने दो ठेका श्रमिकों की जान ले ली। पिछले 10 दिनों में संयंत्र के अंदर जितनी भी दुर्घटनाएं हुई हैं, उन सभी में मानवीय चूक के साथ-साथ इंजीनियरिंग चूक की बात सामने आ रही है।


सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सीटू के मेकेनिकल जोन के सचिव शांतनु मरकाम ने बताया कि सीटू कर्मियों के बीच मौजूद है। मान्यता काल हो या सामान्य काल हो। यूनियन हमेशा से ही विभिन्न मुद्दों को लेकर कर्मियों के बीच संवाद करता रहा है। इसी क्रम में मौजूदा समय के सबसे ज्वलंत मुद्दे 39 माह का एरियर, ग्रेच्युटी सीलिंग रोकने सहित, एनईपीपी एवं सुरक्षा को लेकर बुधवार को मेकेनिकल जोन के ऑटो रिपेयर शॉप पहुंच कर वहां के कर्मियों से चर्चा की एवं कर्मियों के द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब दिया।

ये खबर भी पढ़ें: बोकारो के ईडी वर्क्स होंगे बीके तिवारी, बीएसपी के ईडी प्रोजेक्ट बने एस.मुखोपाध्याय, ईडी प्रोजेक्ट एके भट्‌टा संभालेंगे ईडी एमएम का कामकाज, ये सीजीएम बने सीजीएम इंचार्ज, कार्यक्षेत्र भी बदला

लगातार घट रही है दुर्घटनाएं और सुरक्षा समितियां नदारद

दुर्घटनाओं को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में सीटू नेता सहायक महासचिव एसएसके पनिकर ने कहा कि पिछले दिनों ब्लास्ट फर्नेस-7 एवं एसएमएस-2 में घटी दुर्घटना ने दो ठेका श्रमिकों की जान ले ली। पिछले 10 दिनों में संयंत्र के अंदर जितनी भी दुर्घटनाएं हुई हैं, उन सभी में मानवीय चूक के साथ-साथ इंजीनियरिंग चूक की बात सामने आ रही है। किंतु सांविधिक सुरक्षा समितियों की कोई रिपोर्ट अभी तक सामने नहीं आई है। यह कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं होगा कि इस पूरे कार्यकाल में सुरक्षा समितियां नदारद रही है। यह बता दें कि सांविधिक सुरक्षा समितियां मान्यता यूनियन एवं प्रबंधन के प्रतिनिधियों को लेकर बनाई जाती है।

ये खबर भी पढ़ें:  बीएसपी के पांच सीजीएम बने ईडी, छह महीने के लिए तपन सूत्रधार है ईडी माइंस, फिर होगी नए की तलाश, नए ईडी पीएंडए गद्रे की चुनौतियां बढ़ी

सुरक्षा समिति को लेकर सीटू ने उठाया कई सवाल

सीटू नेता टी. जोगा राव ने सवाल किया कि मौजूदा मान्यता यूनियन के कार्यभार संभालते ही सीटू ने प्रबंधन को यह सूचित कर दिया था कि जीती हुई यूनियन अर्थात मान्यता यूनियन को लेकर ही सुरक्षा समितियों का गठन करें। इसमें सीटू कोई दखल नहीं देगा। जिस पर प्रबंधन ने तेजी से अमल भी किया। किंतु पिछले 3 सालों में जितनी भी घटनाएं दुर्घटनाएं हुई है, उस पर कभी भी मौजूदा मान्यता प्राप्त यूनियन के द्वारा बनाई गई सुरक्षा समितियों की कोई भी रिपोर्ट सामने नहीं आई है। यहां तक कि किसी दुर्घटना में किसी कर्मी की मौत हो जाने पर भी इन सुरक्षा समितियों के तरफ से कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है। ना ही उन दुर्घटनाओं से बचने के लिए इनकी तरफ से कोई सुझाव सामने आया है।

ये खबर भी पढ़ें:  विश्वेश्वरैया स्टील प्लांट को चार-चांद लगाने ईडी बीएल चांदवानी आए सामने, बीएसपी के सीजीएम से ईडी बने चांदवानी का पढ़ें पहला इंटरव्यू

चार्जमैन पद को लेकर ऑटो रिपेयर शॉप के कर्मियों ने उठाए सवाल

संवाद के दौरान ऑटो रिपेयर शॉप के कर्मियों ने कहा कि चार्जमैन रिटायर हो जाने के बाद भी नए चार्जमैन नहीं बनाया जा रहा है, जिसके चलते कार्य संचालन में बाधा उत्पन्न हो रही है। इस सवाल का जवाब देते हुए डीवीएस रेड्डी ने कहा कि 25 जून 2021 को प्रबंधन एवं तत्कालीन मान्यता प्राप्त यूनियन ने जिस नॉन एग्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी पर हस्ताक्षर किए हैं, उसमें यह स्पष्ट दर्ज है कि चार्जमैन के पद को डिमिनिशिंग में डाल दिया गया है। अर्थात मौजूदा चार्जमैन के सेवानिवृत्त होने अथवा अगले प्रमोशन में जाने के साथ ही उस चार्जमैन का पद समाप्त होता चला जाएगा। जो भी वरिष्ठ कर्मी उस विभाग में कार्यरत हैं, उन्हें इस चार्जमैन की जिम्मेदारी को निभाना होगा। पॉलिसी में दर्ज इन नियमों का सीटू पुरजोर तरीके से विरोध करते हुए इस पूरे नॉन एक्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी को वापस लेने एवम पुनः समीक्षा करने की मांग की है।

ये खबर भी पढ़ें:  SAIL ED Interview: बीएसपी, राउरकेला, इस्को बर्नपुर, दुर्गापुर, अलॉय, सेलम, बोकारो, विश्वेश्वरैया और कारपोरेट आफिस को मिला ईडी का तोहफा, जानिए नाम, बोकारो में ईडी वर्क्स का पद रिक्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!