रातभर इंतजार के बाद भोर में बीएसपी ने तोड़ी 70 दुकानें, दोपहर बाद से कब्जेदारों ने शुरू की दुकानदारी

कब्जेदारों को उखाड़ फेंकने बीएसपी करता रहा सुबह का इंतजार, साढ़े 5 बजे किया प्रहार, सुपेला रेलवे फाटक तक 70 दुकानें ध्वस्त होने के बावजूद कब्जेदारों के हौसले बुलंद।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। कब्जेदारों के हौसले बुलंद है। बीएसपी की कार्रवाई का इनकी सेहत पर कोई असर नहीं पड़ रहा है। बीएसपी ने रातभर इंतजार के बाद 70 दुकानों के बाहरी हिस्से को तोड़ दिया। बांस-बल्ली को उखाड़ फेंका। दोपहर बाद से कब्जेदार फिर से सक्रिय हो गए। दुकानों को सेट किया। दरी बिछानी शुरू कर दी। झाड़ू लगाकर कचरे को साफ किया। फिर, दुकानदारी में मगन हो गए। शाम 4.15 बजे सूचनाजी.कॉम ने कब्जेदारों के हौसले को कैमरे में कैद किया। एक कब्जेदार रेड मैट बिछाने में मगन था।

बीएसपी कार्रवाई के बारे में पूछने पर जवाब मिला-ऐसी बहुत सी कार्रवाई हम लोगों ने देखी है। पांच-दस साल में एक-दो बार इस तरह की कार्रवाई होती रहती है। दो-चार दिन दब-दबाकर दुकान खोलेंगे। इसके बाद फिर से बाजार गुलजार हो जाएगी। वहीं, तीन दुकानों के लाइन से ताले खुले दिखे। बकायदा ग्राहक भी पहुंच रहे थे। वहीं, अवैध कपड़ा के दुकानदार बांस-बल्ली न होने के गम में आगे की तैयारी में मंथन कर रहे थे। कोई बोल रहा था कि बीएसपी जमीन देगी, कारोबार के लिए तो वहां बोर्ड लगा देंगे। फिर कोई अवैध नहीं बोलेगा। वैसे, दो-चार दिन बीतने का इंतजार किया जा रहा है ताकि मामला ठंडा हो जाए। फिर से दुकान लगेगी।

संपदा न्यायालय से आदेश पर बेदखली की हुई कार्रवाई, पर असर नहीं

भिलाई टाउनशिप में कब्जेदारों के खिलाफ कार्रवाई का ताजा मामला हैरान करने वाला है। कब्जेदारों से टाउनशिप को मुक्त कराने का जुनून बीएसपी के इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट पर चढ़ा हुआ है। संपदा न्यायालय से आदेश पारित होने और जिला पुलिस से मदद मिलते ही फोन में पांच बजे से अभियान शुरू करने का प्लान सेट किया गया। सुबह होने का इंतजार होता रहा। जैसे ही सुबह हुई। बीएसपी का अमला फोर्स के साथ 25 मिलियन चौक से सुपेला रेलवे फाटक तक अभियान शुरू किया। एक साथ 70 दुकानों को तोड़ दिया। कब्जेदारों के खिलाफ यह सेक्टर-6 एरिया में अब तक की बड़ी कार्रवाई है।

ये खबर भी पढ़ें:  BSP Task Force: हादसा रोकने 4 नहीं अब साढ़े 7 करोड़ का होगा सेफ्टी बजट, दो ग्रुप में बनी कमेटी करेगी सर्वे और दस दिनों में देगी रिपोर्ट

बीएसपी का कहना है कि सेक्टर-6 मार्ग पर कब्जेदारों की वजह से आयेदिन एक्सीडेंट हो रहे थे। सड़क किनारे कपड़ा मार्केट तक बसा दिया था। वहीं, धीरे-धीरे कब्जे बढ़ते जा रहे थे। सड़क जाम और सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए सुपेला चौक से सेक्टर-2 तक जेसीबी द्वारा 70 अवैध दुकानें तोड़ी गई। कार्यपालिक मजिस्ट्रेट और कोतवाली व भट्टी टीआई सहित भारी पुलिस बल की उपस्थिति में कार्रवाई की गई।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई नगर निगम ने सेक्टर-7 के 11 मकानों से लिया पानी का सैंपल, सभी रिपोर्ट ओके, बीएसपी बोला-हर स्ट्रीट पर रहेगा फोकस, 9109169759 पर आप करें शिकायत

ये खबर भी पढ़ें:  इस्पात राज्यमंत्री से अधिकारियों ने कहा-एफएसएनएल को बेचने से बचाइए, मंत्री का जवाब-मामला आगे बढ़ चुका…दिल्ली में करेंगे चर्चा

इधर-मरौदा में तीन दुकानें हो चुकी ध्वस्त

भिलाई स्टील प्लांट की जमीन और मकानों पर कब्जेदारों की नजर लंबे समय से रही है। गुंडई करते हुए जमीन पर घेराबंदी और दुकान बनाने वालों का ग्राफ तेजी से बढ़ा। अब इस पर लगाम लगनी शुरू हो चुकी है। दूसरी ओर मरौदा सेक्टर में मना करने और तोड़ने के बाद दोबारा कब्जेदारों ने तीन दुकान बना ली। थी अतिक्रमणकारियों की इस गुंडई से बौखलाए बीएसपी के इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट ने जेसीबी लगाकर तीनों दुकानों को मंगलवार को ध्वस्त कर दिया। वहीं बीएसपी ने सेक्टर-6 के 40 आवासों में रह रहे कब्जेदारों को नोटिस सर्व कर दिया है।

ये खबर भी पढ़ें:  सेना में आई ‘अग्निपथ’ योजना, इस साल 46,000 दसवीं पास युवाओं की भर्ती, रैलियां 90 दिनों में होगी शुरू, 30 से 40 हजार मिलेगा मानदेय

बीएसपी इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट द्वारा मरौदा बस्ती शिव पारा में कब्जेदारों द्वारा बीएसपी भूमि पर अवैध रूप से निर्मित तीन दुकानों को जेसीबी की सहायता से ढहा दिया गया। पूर्व में इस अवैध कब्जेधारी को नोटिस देकर काम बंद करवाया गया था। किंतु अवैध कब्जेधारी द्वारा हठधर्मिता दिखाते हुए अवैध निर्माण जारी रखा। प्रवर्तन विभाग का कहना है कि कब्जेदारों और भू-माफ़ियाओं के विरुद्ध निरंतर कार्यवाही जारी रहेगी।

ये खबर भी पढ़ें:  बीएमएस की गुहार-मंत्रीजी निलंबित कर्मचारियों की वापसी और प्रोत्साहन के रूप के 50 ग्राम सोना दिलाइए

सेक्टर-6 में चल रहा ऑपरेशन नटवरलाल

सेक्टर-6 में आपरेशन मिस्टर नटवरलाल के तहत चालीस अवैध कब्जेधारियों को नोटिस सर्व किया गया है। साथ ही करोड़ों की भूमि पर भी इन अवैध कब्जेधारियों और भू-माफ़ियाओं द्वारा कब्जा कर मकान, दुकान व झुग्गियों कुछ दलालों के समर्थन से बनाया जा रहा है। अधिकांश अवैधकब्जेधारी विभिन्न अपराधों में लिप्त है, जिसमे चोरी, डकैती, मर्डर, बलि, नशे के कारोबार में संलिप्त रहे हैं। संयंत्र कर्मियों द्वारा कब्जेदारों की हरकतों से परेशान होकर प्रवर्तन विभाग में कई बार शिकायत किया गया है। अभियान को ऑफिसर्स एसोसिएशन, संयुक्त ट्रेड यूनियन, विभिन्न सामाजिक संगंठनों व बीएसपी कर्मियों का समर्थन प्राप्त है।

ये खबर भी पढ़ें:   आरआईएनएल, सेल, नगरनार, एनएमडीसी, मेकॉन का रणनीतिक विलय कर बनाएं एक मेगा स्टील पीएसयू

खबर अपडेट की जा रही है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!