वेतन समझौते की एक और खामी पे-अनामली को अधिकारियों ने कराया दूर, कर्मचारी फांक रहे धूल

सेफी ने इस दिशा-निर्देश को जारी करने के लिए सेल प्रबंधन को धन्यवाद दिया। उम्मीद जाहिर की कि 2008 व 2010 के जूनियर अधिकारियों के पे-फिक्सेशन का निवारण भी प्रबंधन के द्वारा इसी माह कर दिया जाएगा।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के अधिकारियों के लिए अच्छी खबर है। वेतन समझौते की खामियों की वजह से पे-अनामली से जूझ रहे करीब 10 प्रतिशत अधिकारियों को अब राहत मिलेगी। पेमेंट को लेकर होने वाली शिकायत का समाधान प्रबंधन करेगा। अधिकारियों के आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। इसके लिए आवश्यक दिशा-निर्देश सेल प्रबंधन की तरफ से जारी कर दिया गया है। इसकी पुष्टि स्टील एग्जीक्यूटिव फेडरेशन ऑफ इंडिया-सेफी के चेयरमैन नरेंद्र कुमार बंछोर ने की है। वहीं, कर्मचारी वर्ग 39 माह के बकाया एरियर के लिए दर-दर भटक रहे हैं। प्रबंधन को कोसने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं। बावजूद मायूसी ही हाथ लगती है।

ये खबर भी पढ़ें:    पब्लिक सेक्टर यूनिट में ओएनजीसी से शुरू होगी नई परंपरा, चेयरमैन तक बन सकेगा निजी कंपनी का एक्सपर्ट, सेल भी आएगा दायरे में

एक ही ग्रेड के अधिकारी पे-अनामली की समस्या से जूझ रहे थे। वेतन समझौते के बाद इसे हल करने के लिए मांग उठ रही थी। सेफी ने मार्च में ही सेल चेयरमैन सोमा मंडल से मिलर इसमें सुधार की बात रखी थी, जिसे स्वीकार कर लिया गया है। वहीं, जनवरी से ही आवेदन आना शुरू हो गए थे। स्टडी करने के बाद प्रबंधन ने आदेश जारी किया है। एनके बंछोर का कहना है कि सेल प्रबंधन के द्वारा तीसरे वेतनमान से उत्पन्न पे-अनामली के निवारण हेतु आवश्यक दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। इस आदेशानुसार अधिकारियों को अपने समकक्ष ग्रेड पर कार्यरत अन्य अधिकारी से उत्पन्न पे-अनामली को सुधारने के लिए आवश्यक प्रक्रिया निर्धारित की गई है।

ये खबर भी पढ़ें:SAIL Chairman Interview: सोमा मंडल का अप्रैल 2023 में रिटायरमेंट, चयन प्रक्रिया होने जा रही शुरू, डायरेक्टर इंचार्ज अमरेंदु प्रकाश, अनिर्बान, बीपी सिंह व डायरेक्टर पर्सनल केके सिंह होंगे दावेदार

तीसरे वेतनमान के लागू करने के पश्चात सेफी एवं ओए बीएसपी ने अधिकारियों के बीच उत्पन्न पे-अनामली के संबंध में प्रबंधन को अवगत कराया था। जिसमें अनेक अधिकारियों को अपने समकक्ष ग्रेड में कार्यरत अन्य अधिकारियों से कम वेतनमान का लाभ दिया गया था। विदित हो कि पे-रिवीजन लागू होने पर इस प्रकार की स्थिति हर बार उत्पन्न हो जाती है, जिसमें कुछ अधिकारियों को उसी ग्रेड में कार्यरत अन्य अधिकारियों से कम वेतनमान का लाभ प्राप्त होता है। जिसे सुधारने हेतु पे-अनामली की प्रक्रिया डीपीई दिशानिर्देश अनुसार हर पे-रिवीजन के पश्चात की जाती है।

सेफी ने इस दिशानिर्देश को जारी करने के लिए सेल प्रबंधन को धन्यवाद दिया। उम्मीद जाहिर की कि 2008 व 2010 के जूनियर अधिकारियों के पे-फिक्सेशन का निवारण भी प्रबंधन के द्वारा इसी माह कर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!