Exclusive News: BSP में ऑनलाइन अटेंडेंस फीड होते ही 14 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ी ठेका मजदूरों की संख्या, अब बायोमेट्रिक की तैयारी

0
Attendance of contract workers increased by 14 percent in Bhilai Steel Plant
कुछ ऑपरेटिंग अथॉरिटी ने समय पर फीड नहीं की हाजिरी। ईडी वर्क्स ने दी चेतावनी। व्यवस्था सुधारने में सहयोग की अपील।
AD DESCRIPTION

भिलाई स्टील प्लांट में 24 घंटे के भीतर ठेका मजदूरों की हाजिरी ऑनलाइन फीड करने की व्यवस्था का दिखा असर।

अज़मत अली, भिलाई। सेल-भिलाई स्टील प्लांट के ठेका मजदूरों का शोषण रोकने के लिए उठाए गए कदम का असर दिखना शुरू हो गया है। ऑनलाइन अटेंडेंस होते ही करीब 14 प्रतिशत से ज्यादा मजदूरों की संख्या बढ़ गई है। पहले की तुलना में अब अधिक मजदूरों की हाजिरी नजर आने लगी है। इसके लिए सीटू ठेका यूनियन लगातार संघर्ष करता रहा है। शोषण के कारण को प्रबंधन को बताते रहे। महासचिव योगेश सोनी का कहना है कि संयंत्र को मुनाफे में लाने के लिए ठेका मजदूरों का भरपूर सहयोग रहा। अब प्रबंधन भी सहयोग कर रही है। उत्पादन में 70 प्रतिशत ठेका मजदूरों का योगदान है।

ये खबर भी पढ़े …SAIL-राउरकेला स्टील प्लांट में हादसा, प्रशिक्षु समेत कर्मचारी झुलसा

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

नई व्यवस्था का श्रेय भिलाई इस्पात संयंत्र के औद्योगिक संबंध विभाग-आइआर को जाता है। प्रतिदिन हाजिरी को ऑनलाइन फीड कराने की व्यवस्था से अब ठेकेदारों और कुछ ऑपरेटिंग अथॉरिटी की दाल नहीं गल पा रही है। हर दिन की हाजिरी को फीड करना पड़ रहा है। नई व्यवस्था लागू होने से पहले और सितंबर के अटेंडेंस में करीब 14 प्रतिशत का अंतर है। इससे यह जाहिर होता है कि मजदूरों का शोषण किया जा रहा था। लगातार मजदूरों की हाजिरी में कटौती हो रही थी।

ये खबर भी पढ़े …BSP-रेलवे, ED वर्क्स और CGM के बीच दीवार खड़ी कर दी बरसात के पानी ने, देखिए वीडियो

मजदूरों की संख्या में आए अंतर ने अब सबूत भी पेश कर दिया है। कहीं न कहीं भ्रष्टाचार का बड़ा खेल हो रहा था। अब लगाम लगनी शुरू हुई है। इसकी अगली कड़ी ठेका मजदूरों के बायोमेट्रिक की है। प्लांट के हर प्वाइंट पर ठेका मजदूरों के लिए बायोमेट्रिक अनिवार्य किया जाएगा। इसकी खरीदी आदि की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। जल्द ही यह भी व्यवस्था भी हो जाएगी। इसके बाद पूरी तरह तरह से एक-एक मजदूरों की कुंडली प्रबंधन के पास मौजूद रहेगी।

ये खबर भी पढ़े… SAIL-BSP के ईडी वर्क्स का बायकॉट, SEFI-OA ने खोला मोर्चा, कहा-प्लांट टर्मिनेट, सस्पेंड और रिजाइन से नहीं चलता…

बीएसपी के कुछ विभागों के ऑपरेटिंग अथॉरिटी ने व्यवस्था को तोड़ने के लिए मजदूरों की हाजिरी तय समय पर नहीं भरी। इसके लिए कई मजदूर गैर हाजिर दिखने लगे। इसके बाद यह अधिकार मांगा गया कि एक दिन के बजाय चार-पांच दिन की मोहलत दी जाए, ताकि मजदूरों की हाजिरी आराम से भरी जा सके। यह मामला ईडी वर्क्स अंजनी कुमार तक पहुंचा। ईडी वर्क्स ने खुद कइयों की क्लास ले ली। इसके बाद आखिरी चेतावनी तक जारी कर दी गई है।

ये खबर भी पढ़े…भिलाई स्टील प्लांट की 12 एकड़ जमीन पर कब्जेदार कर रहे थे खेती और बनाया फॉर्म हाउस, 60 करोड़ की जमीन कब्जामुक्त

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here