रेफरी की सीटी लेकर महिला कबड्डी खिलाड़ियों के बीच पहुंचे भूपेश बघेल, लंगड़ी, भौंरा, कंचा और पिट्ठुल पर आजमाया हाथ

मुख्यमंत्री ने रेफरी बन खेल की शुरूआत की, पारंपरिक खेलों में खुद आजमाए हाथ।

सूचनाजी न्यूज, रायपुर। छत्तीसगढ़ की संस्कृति और सभ्यता की चर्चा पुरातन काल से होती आ रही है। बीते कुछ समय तक इस संस्कृति को लगभग भुला दिया गया था। लेकिन छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद से ही भूपेश बघेल ने यहां की संस्कृति और पुरातन सभ्यता को विश्व पटल पर लाने की योजना पर काम शुरू किया।

ये खबर भी पढ़ें… Chhattisgarhia Olympics 2022-23: गांव से शहर और युवा से बुजुर्ग तक होंगे प्रतिभागी, खेलों का नाम सुनकर हो जाएंगे दंग, सीएम बघेल 6 को दिखाएंगे झंडी

स्थानीय त्यौहारों के अवसर पर अवकाश, बोरे-बासी को वैश्विक पहचान दिलाना, स्थानीय त्यौहारों के प्रति लोगों को जागरुक करना मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल का परिणाम है। इसी कड़ी छत्तीसगढ़ की संस्कृति से लोगों को जोड़ने के लिए छत्तीसगढ़िया ओलंपिक की शुरूआत की गई है जिसकी संकल्पना खुद मुख्यमंत्री बघेल ने की है।

ये खबर भी पढ़ें… राज्यपाल अनुसुईया उइके और सीएम भूपेश बघेल रंगे आस्था के रंग में, शस्त्र पूजा कर की सुख-समृद्धि की कामना

मुख्यमंत्री की सादगी,संजीदगी और स्थानीय संस्कृति के प्रति लगाव का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि छत्तीसगढ़िया ओलंपिक के शुभारंभ के अवसर पर मुख्यमंत्री खुद रेफरी की सीटी लेकर महिला कबड्डी खिलाड़ियों के बीच पहुंच गए और मैच में निर्णायक की भूमिका निभाने लगे। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने लंगड़ी, भौंरा, बाटी (कंचा) और पिट्ठुल जैसे खेलों मे खिलाड़ी के रूप में खुद भी हाथ आजमाया और अन्य खिलाड़ियों के साथ खुद को एक खिलाड़ी के रूप में प्रस्तुत किया और खिलाड़ियों का उत्साह वर्धन किया।

ये खबर भी पढ़ें… हद हुई! पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन के भवन में खड़ी कार से बैटरी चोरी

गौरतलब है कि छ्त्तीसगढ़ की संस्कृति से लोगों को जोड़ कर रखने के लिए स्थानीय खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री की पहल पर छत्तीसगढ़िया ओलंपिक की शुरूआत 6 अक्टूबर से की गई है। 6 जनवरी 2023 तक चलने वाले इस ओलंपिक में दलीय एवं एकल श्रेणी में 14 प्रकार के पारंपरिक खेलकूदों को शामिल किया गया है जिसमें 18 वर्ष से कम, 18 से 40 वर्ष एवं 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोग शामिल हो रहे हैं। इससे स्थानीय लोगों को एक तरफ खेल का मंच मिलेगा। वहीं, उनमें खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ेगी और खेल भावना का भी विकास होगा।

ये खबर भी पढ़ें…भिलाई स्टील प्लांट में फिर हादसा, 20 फीट ऊंचाई से गिरा क्रेन ऑपरेटर, दोनों हाथ टूटे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!