Suchnaji

BSP के भगौड़े नेताओं ने काम करने वाले का ही कराया ट्रांसफर, फंसा 3 बार स्टेंट लगवाने वाला बेचारा कर्मी

BSP के भगौड़े नेताओं ने काम करने वाले का ही कराया ट्रांसफर, फंसा 3 बार स्टेंट लगवाने वाला बेचारा कर्मी
  • भिलाई स्टील प्लांट के रेल मिल में नेतागिरी के चक्कर में ईमानदार कर्मचारियों में आक्रोश।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल (Steel Authority of India Limited-SAIL) के भिलाई स्टील प्लांट (Bhilai Steel Plant) से बड़ी खबर आ रही है। काम नहीं करने वाले नेताओं ने काम करने वाले का ट्रांसफर करा दिया है। इसको लेकर हड़कंप मचा हुआ है।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant में पहला सर्विलांस ऑडिट, पढ़िए डिटेल

AD DESCRIPTION

जी हां यह घटना रेल मिल की है। वैसे भी रेल मिल नेताओं का अड्डा है। लेकिन पिछले दिनों एक अजीब-ओ-गरीब घटना घटी। घटना यह है कि एक नेता का एक चार्जमेन के साथ किसी विषय को लेकर विवाद हो गया। बात इतनी बढ़ी कि नेताजी ने कहा मैं तुम्हारा ट्रांसफर करा कर रहूंगा।

ये खबर भी पढ़ें : नक्सल प्रभावित रावघाट आयरन ओर माइंस एरिया में बेहतर काम पर मिला Kalinga CSR-Sustainability Excellence Award 2023

और लगभग पिछले तीन माह से उसके पीछे पड़े रहे और कुछ कर्मचारियों को ले जाकर इसकी शिकायत भी कर दी। लेकिन प्रबंधन के नीचे स्तर के अधिकारियों को बखूबी मालूम था वह कर्मचारी काम के प्रति ईमानदार है। 3 महीने के बाद प्रबंधन ने उसका ट्रांसफर करने से मना कर दिया। उसके बाद नेताजी से रहा नहीं गया।

ये खबर भी पढ़ें : नक्सल प्रभावित रावघाट आयरन ओर माइंस एरिया में बेहतर काम पर मिला Kalinga CSR-Sustainability Excellence Award 2023

अपने बड़े नेताओं को लेकर रेल मिल प्रबंधन (Rail Mill Management) के पास पहुंचे और उसके बाद फिनिशिंग के एक बड़े अधिकारी ने उन्हें दूसरे ब्रिगेड में जाने का आदेश दे दिया। लेकिन इसमें और एक बात यह है जो दूसरे आदमी का उनकी जगह ट्रांसफर किया जा रहा था, उनकी भी तबीयत पिछले कई महीने से खराब है।

ये खबर भी पढ़ें : Big News: SAIL पदनाम पर बवाल, नए लड़के करते रहे आंदोलन, सीनियर को मिला जूनियर इंजीनियर, भड़कीं यूनियनें

वह भी अस्पतालों के चक्कर लगा रहे हैं। उन्होंने अपनी सारी बात रखी और कहा पिछले 6 महीना में मुझे तीन बार स्टेंट लग चुका है। लेकिन प्रबंधन ने एक ना सुनी, क्योंकि उन्हें नेताजी की बात जो मानना है।

अधिकारियों से ज्यादा नेताओं से डरे कर्मचारी

रेल मिल में इस बात को लेकर अब चर्चा है कि एक काम करने वाले आदमी की एक हाजिरी लगाकर घर जाने वाले ने ट्रांसफर कराया तो हम क्यों कम करें। कुल मिलाकर बात वहीं आ गई, अधिकारियों से ज्यादा नेताओं से डरे कर्मचारी।

ये खबर भी पढ़ें : Big News: SAIL पदनाम पर बवाल, नए लड़के करते रहे आंदोलन, सीनियर को मिला जूनियर इंजीनियर, भड़कीं यूनियनें

नेताजी आए ही थे यूनियन में इंटक नेता (INTUC Leaders) को काम पर लगाने, पर जब उन्हें काम पर नहीं लगा पाए तो खुद ही नेताजी हाजिरी लगाकर घर भागने लगे। नेताजी यूनियन जॉइन किए थे कसम खाकर की इंटक नेता को मैं काम पर लगाऊंगा। लेकिन जब उन्हें काम पर नहीं लगा पाए तो खुद ही उन्ही के राह पर चल पड़े।

ये खबर भी पढ़ें : Breaking News: SAIL के कर्मचारियों का बदला पदनाम, अब कहलाएंगे जूनियर इंजीनियर

अधिकारियों और कर्मचारियों में चर्चा

फिनिशिंग के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों में चर्चा का विषय यही है कि आखिर काम करने वाले का ट्रांसफर क्यों किया गया? वह भी एक नेता के कहने पर…। नीचे स्तर के अधिकारी के समझाने पर भी ऊपर के अधिकारी समझने को तैयार नहीं। कुल मिलाकर नेताजी के साथ-साथ रेल मिल प्रबंधन की भी फजीहत हो रही है।

ये खबर भी पढ़ें : BSP प्रबंधन से नाराज BMS नेता पहुंचे छत्तीसगढ़ सरकार के पास, गिनाई खामियां, दिया न्यौता