ब्लास्ट फर्नेस-8 की क्षमता 8400 टन, उत्पादन किया 9229 टन, चेकोस्लोवाकिया के हॉट ब्लास्ट वॉल्व ने दिखाया असर

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट के ब्लास्ट फर्नेस-8 (महामाया) ने एक और कीर्तिमान बनाया है। एक दिन में सर्वाधिक उत्पादन का नया रिकॉड कायम किया है। नौ जून को 9229 टन हॉट मेटल का उत्पादन कर नया दैनिक रिकॉर्ड दर्ज किया, जो कि 19 सितम्बर 2020 को हासिल किए गए 9150 टन हॉट मेटल के पिछले सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड को पार करते हुए बनाया गया। भिलाई इस्पात संयंत्र के उच्च प्रबंधन ने ब्लास्ट फर्नेस-8 और संबंधित सहयोगी शॉप्स के पूरी टीम को नया रिकॉर्ड बनाने पर बधाई दी।

ये खबर भी पढ़ें: बीएसपी में हादसा रोकने सबकुछ किया, लेकिन रिजल्ट में फेल, बाहर हो रही बदनामी…अब ओए और यूनियन ने गिनाई खामियां, दिए बेहतर सुझाव

बता दें कि ब्लास्ट फर्नेस-8 के खराब हो चुके हॉट ब्लास्ट वॉल्व की वजह से पिछले दिनों उत्पादन काफी कम हो गया था। यह यूरोप से आना था, लेकिन रूस-यूक्रेन वार की वजह से भिलाई स्टील प्लांट वॉल्व मंगा नहीं पा रहा था। इसका असर हॉट मेटल प्रोडक्शन पर पड़ रहा था। ब्लास्ट फर्नेस-8 के खराब हो चुके हॉट ब्लास्ट वॉल्व को चेकोस्लोवाकिया से जल मार्ग से मंगाया गया था। इसे भिलाई आने में चार माह का समय लगा। पहले फ्लाइट से मंगाने का इंतजार किया जा रहा था। लेकिन युद्ध न रुकने से वॉल्व नहीं पहुंच पा रहा था। इस वजह से उत्पादन गिरता गया। बीएसपी प्रबंधन ने जल मार्ग से ही हॉट ब्लास्ट वाल्व मंगाने का फैसला किया। बताया जा रहा है कि इसकी कीमत करीब साढ़े तीन करोड़ है।

ये खबर भी पढ़ें:बीएसपी कर्मचारियों ने राजनीतिक दलों को मुहब्बत से समझाया, संभल जाएं, वरना छह विधानसभा क्षेत्र में नहीं मिलेगा संभलने का मौका

भिलाई स्टील प्लांट के ब्लास्ट फर्नेस-8 महामाया की उत्पादन क्षमता 8400 टन की है। सितंबर 2020 में सर्वाधिक 9150 टन हॉट मेटल का उत्पादन हुआ था। इसके बाद उत्पादन का ग्राफ गिरता ही गया था। पिछले दिनों करीब साढ़े छह से सात हजार टन तक ही उत्पादन हो रहा था। बताया जा रहा है कि फर्नेस को हॉट ब्लास्ट वाल्व से गर्म हवा मिलती है, लेकिन फरवरी में इसमें खामी आ गई। उत्पादन का प्रेशर नहीं बढ़ाया जा रहा था। फर्नेस को नुकसानी से बचाने के लिए इसे लो-प्रेशर पर ही चलाया जा रहा था।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई टाउनशिप के कब्जेदारों का सामने करने बनेगी सभी ट्रेड यूनियन-आफिसर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों की संयुक्त टीम, पहुंचेगी मौके पर

रूस-यूक्रेन वार की वजह से स्पेयर पार्ट्स भारत नहीं आ पा रहा था। ब्लास्ट फर्नेस के जिम्मेदारों का कहना है कि हॉट फर्नेस वॉल्व की खराबी की वजह से उत्पादन तेजी से घट रहा था। करीब 60 फीसद ही हॉट मेटल का उत्पादन हो रहा था। वाल्व लगने बाद पूरी क्षमता से उत्पादन हो रहा है। खराबी की वजह से फर्नेस का प्रेशर नहीं बढ़ा पा रहे थे। गर्मी में अधिक प्रोडक्शन पर जोर रहता है। ऐन वक्त पर दिक्कत आ गई थी। फर्नेस-7 भी कैपिटल रिपेयर पर है। इसका उत्पादन बहाल होने में करीब दो माह और लगेगा। बता दें कि फर्नेस-1, 4, 5, 6 और 8 का उत्पादन बहाल है।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई स्टील प्लांट में हादसा रोकने 22 करोड़ खा गई कंसल्टेंसी एजेंसी, डेढ़ साल में 10 की मौत, डायरेक्टर इंचार्ज आज यूनियनों से लेंगे फीडबैक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!