एलटीसी कटौती के विरोध में बीएमएस भी कूदा, कहा-क्या तीन दिन की छुट्‌टी और इनकम टैक्स कटौती की राशि वापस करेगा प्रबंधन

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात मजदूर संघ के पदाधिकारियों ने जनसंपर्क अभियान के दौरान एचआरडी और एक्सपेंशन ऑफिस के कर्मचारियों से संपर्क किया। एलटीए रिकवरी को लेकर कर्मचारियों ने नाराजगी जाहिर की। प्रबंधन द्वारा 2021-23 के दौरान जिन कर्मचारियों ने एलटीसी-एलटीए लिया है, उनकी राशि पेमेंट से रिकवर की जाएगी। इस पर संयंत्र कर्मचारियों की तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा एलटीसी अप्रैल 2021 से ली गई है जबकि वेतन समझौता अक्टूबर 2021 से किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें: इस्पात मंत्री आरसीपी का कटा पत्ता, इधर-छत्तीसगढ़ से रंजीत रंजन और राजीव शुक्ला जाएंगे राज्यसभा, दोनों बाहरी प्रत्याशी से सोशल मीडिया गर्म, तुलसी साहू करती रह गईं इंतजार

कर्मचारियों ने एलटीसी-एलटीए कटौती पर उठाया सवाल, ये कहा…

  • प्रबंधन ने वेतन समझौता अक्टूबर 2021 से किया है।
  • प्रबंधन ने अप्रैल 2020 से दिए एरियर में पर्क्स का भुगतान नहीं किया है।
  • प्रबंधन अगर बोलता है कि अक्टूबर 2021 से पर्क्स में ही एलटीसी समाहित की गई है तो अप्रैल 2021 से अक्टूबर 2021 तक की एलटीसी की राशि का क्या होगा।
  • ली गई एलटीसी का प्रबंधन ने इनकम टैक्स काटा था, क्या प्रबंधन उस टैक्स को वापस दे रहा है।
  • एलटीसी के दौरान 3 दिन की छुट्टी लेने का प्रावधान था, क्या प्रबंधन एलटीसी राशि रिकवरी के साथ उन कर्मियों का छुट्टी वापस करेगा।

ये खबर भी पढ़ें: Paradip Port: माल ढुलाई की लागत घटेगी, स्टील निर्यात को मिलेगा बढ़ावा और कोयले का आयात होगा सस्ता

फुल एनजेसीएस बैठक बुलाकर मुद्दे करें हल

कर्मचारियों ने हैरानी जताई कि इस वर्ष सेल ने 12015 का शुद्ध लाभ प्राप्त किया है। इसके बावजूद इस प्रकार की अन्याय पूर्ण कटौती निश्चित ही कर्मचारियों का मनोबल गिराती है, जबकि अभी वेज रिवीजन अधूरा है। मुद्दे सॉल्व नहीं हुए हैं। प्रबंधन को चाहिए कि फुल एनजेसीएस बुलाकर 39 महीने का एरियर, पर्क्स, नाइट शिफ्ट एलाउंस, वॉशिंग एलाउंस, यूनिफॉर्म एलाउंस जैसे बहुत सारे मुद्दे जल्दी-जल्दी सुलझाएं, जिससे कर्मचारियों में आक्रोश कम हो सके।

ये खबर भी पढ़ें: आईएनएस गोमती नौसेना से कार्यमुक्त, लखनऊ गोमती नदी के तट पर म्यूजियम में दिखेंगी यादें, सेल का कर्मचारी छह साल तक कर चुका है जहाज की सेवा, आखिरी पल का बना साक्षी

तो क्या सेल अधिकारियों का संयंत्र बनकर रह गया

कर्मचारियों ने यह भी कहा कि आज सेल अधिकारियों का संयंत्र बनकर रह गया है। जहां सिर्फ अधिकारियों के हक में ही फैसले लिए जाते हैं। यह प्रबंधन की हठधर्मिता का ही परिणाम है कि इस प्रकार के फैसलों पर एकतरफा निर्णय लेकर कर्मचारियों को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्होंने हस्ताक्षर करने वाली यूनियनों को भी घेरा कहा कि जल्दबाजी में साइन करने के बाद अब लोगों के बीच चेहरा छुपाते घूम रहे हैं। उन यूनियनों को चाहिए कि प्रबंधन से जवाव मांगे कि एक तरफा निर्णय क्यों लिए जा रहे हैं।

ये खबर भी पढ़ें: 67th National Railway Awards 2022: 156 रेलकर्मियों को उत्कृष्ट सेवा सम्मान, राजस्व, सुरक्षा और प्रोजेक्ट पर बेहतर काम करने वालों का बढ़ा मान, मंत्री ने बड़े लक्ष्य पर दिलाया ध्यान

दो वक्त पानी सप्लाई की मांग

कुछ कर्मचारियों ने जिनके घरों में पानी स्टोर करने की सुविधा नहीं है। उन्होंने ऐसी भीषण गर्मी में दिन मे 2 बार पीने का पानी देने की प्रबंधन से अपील की है। प्रचार अभियान के दौरान अध्यक्ष आईपी मिश्रा, कार्यकारी अध्यक्ष चन्ना केशवलू, सोम भारती, रामजी सिंह, शारदा गुप्ता, अशोक माहोर, धनंजय चतुर्वेदी, प्रदीप पाल, महेंद्र सिंह, भागीरथी चंद्राकर, कृष्णा साहू, सुरेंद्र चौहान, जगजीत सिंह, सुरेंद्र गजभिए, आरडी पांडे, संदीप पांडे, पूरन साहू, प्रकाश अग्रवाल, नवनीत हरदेल, आरके पांडे, अवधेश पांडे, राज नारायण सिंह, प्रमोद राय, अनुराग महुलकर, एलपी दीक्षित, मोहनदास आदि शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!