गंदे पानी और साफ-सफाई के मुद्दे पर बीएमएस पहुंचा सीजीएम के पास

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात मजदूर संघ-बीएमएस के एक प्रतिनिधिमंडल ने सीजीएम टाउनशिप यूके जा से मुलाकात कर टाउनशिप में लगभग 1 वर्ष से आ रहे गंदे पानी के मुद्दे पर एक ज्ञापन सौंपा। यूनियन के प्रतिनिधियों ने उन्हें बताया कि एक समय भिलाई के पानी की क्वालिटी वर्ल्ड क्लास स्तर की थी। अभी पिछले वर्ष से दूषित पानी संयंत्र के नलों में आ रहा है, जिसे संयंत्र बासी पीने को मजबूर है या उन्हें बाहर से खरीद कर पानी पीना पड़ रहा है। प्रबंधन को इस पर गंभीर होना ही पड़ेगा। अन्यथा लोगों का गुस्सा कभी भी फूट सकता है।

ये खबर भी पढ़ें:बीएसपी के डिप्लोमा इंजीनियर ने थाईलैंड, फिनलैंड, बांग्लादेश और तुर्की के कलाकारों को दी मात, मिला नाट्य विभूषण का पुरस्कार

इसी प्रकार टारफेल्टिंग के मामले वर्षों से लंबित है। उन्हें बारिश से पहले सुलझाया जाना चाहिए, जिससे रहवासियों को छत लीकेज की शिकायतों से मुक्ति मिले। जर्जर क्वार्टर, बैक लाइन की सफाई और छज्जा ढहने की शिकायतें लगातार यूनियन प्रतिनिधियों को मिल रही है, उस पर शीघ्र कार्य करने की आवश्यकता है। पदाधिकारियों ने जल्द से जल्द उपरोक्त समस्याओं के निराकरण की मांग की है। अन्यथा श्रमिक हित यूनियन उग्र प्रदर्शन करने को बाध्य होगी।

ये खबर भी पढ़ें:Director Incharge Trophy: एनआईपीएम ने 68 रन और सीएसवीटीयू-1 ने 8 विकेट से जीते लीग मैच

सीजीएम झा ने गंभीरता से बातों को सुना और दिए ज्ञापन को पढ़कर उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है। प्रतिनिधिमंडल में अध्यक्ष आईपी मिश्रा, कार्यकारी अध्यक्ष चन्ना केशवलू, उपाध्यक्ष शारदा गुप्ता, एविशन वर्गीस, विनोद उपाध्याय, संयुक्त महामंत्री सनी इप्पन, अशोक माहौर, प्रदीप पाल, महेंद्र सिंह, नेता धनंजय चतुर्वेदी, आरके पांडे, सचिव भूपेंद्र बंजारे, संतोष सिंह आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!