Bokaro Steel Plant: स्टील मेल्टिंग शॉप ने रचा कीर्तिमान, इधर-जुगाड़ टेक्नोलॉजी से फोर्कलिफ्ट चालू

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। बोकारो इस्पात संयंत्र के एसएमएस-न्यू ने एक और कीर्तिमान रच दिया है। एक ही सिक्वेंस में 26 हीट कास्टिंग का नया रिकार्ड बनाया है। इससे पहले एसएमएस-न्यू की टीम ने एक ही सिक्वेंस में 24 हीट कास्टिंग कर रिकॉर्ड बनाया था। निदेशक प्रभारी अमरेन्दु प्रकाश के नेतृत्व और मुख्य महाप्रबंधक(एसएमएस-1) अरविन्द कुमार के मार्गदर्शन में एक ही सिक्वेंस में 26 हीट कास्टिंग का नया रिकार्ड बनाया है।

ये खबर भी पढ़ें:MP Vijay Baghel BSP Visit: कंसल्टेंसी एजेंसी सास्या पर 22 करोड़ उड़ाने के बजाय रेस्ट रूम, कैंटीन, टॉयलेट, बाथरूम पर होना था खर्च, बीटीआई नहीं हॉट शॉप पर हो ट्रेनिंग, आखिर 21 नंबर लॉकर पर क्यों रुके सांसद, पढ़ें पूरी खबर

टीम एसएमएस-न्यू ने इस उपलब्धि को सभी संबद्ध विभागों के साथ बेहतर समय प्रबंधन एवं आपसी समन्वयन द्वारा हासिल किया है। उल्लेखनीय है कि एसएमएस-न्यू ने गत वर्ष 13 अप्रैल को रिकॉर्ड 74 दिनों में ही कास्टर की कमिशनिंग की गई थी। कमिशनिंग के उपरान्त एसएमएस-न्यू से लगातार बेहतर उत्पादन का सिलसिला जारी है। वरीय अधिकारियों ने टीम एसएमएस-न्यू की इस उपलब्धि पर सभी संबद्ध विभागों को बधाई दी है।

ये खबर भी पढ़ें:एसीसी-अंबूजा सीमेंट को टेकओवर करते छंटनी करने जा रहा अडानी ग्रुप!

इधर-सीबीआरएस विभाग में फोर्कलिफ्ट के जीर्णोधार के बाद कमिशनिंग

बीएसएल के ओजी एवं सीबीआरएस विभाग में फोर्कलिफ्ट के जीर्णोद्धार के उपरांत शुक्रवार को अधिशासी निदेशक (सामग्री प्रबंधन) वीके पाण्डेय द्वारा कमिशनिंग की गई। इस अवसर पर अधिशासी निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन) संजय कुमार, मुख्य महाप्रबंधक (अनुरक्षण) एस मुखोपाध्याय, मुख्य महाप्रबंधक (सामग्री प्रबंधन) अनिल कुमार, मुख्य महाप्रबंधक (मैकेनिकल) वीके सिंह सहित केन्द्रीय यांत्रिक अनुरक्षण एवं सामग्री प्रबंधन विभाग के अन्य अधिकारी एवं कर्मी उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें:SAIL ED: बोकारो स्टील प्लांट ने नारी शक्ति को किया आगे, सेल ईडी का प्रमाण पत्र पत्नियों को सौंपा, देखें फोटो

सामग्री प्रबंधन विभाग में इस्तेमाल होने वाले इस फोर्कलिफ्ट में इंजन सम्बंधित खराबी आ जाने के कारण ब्रेक डाउन हो गया था, जिससे सामग्री प्रबंधन के कार्यों में कठिनाई आ रही थी। इंजन की खराबी को दूर करने के लिए ओजी एवं सीबीआरएस विभाग के अधिकारियों ने इस फोर्कलिफ्ट के इंजन की मरम्मत करने की कोशिश की, पर इसके स्पेयर पार्ट्स की अनुपलब्धता के कारण संभव नहीं हो पाया। ओजी एवं सीबीआरएस विभाग के अधिकारियों ने आपसी विचार मंथन के उपरान्त इस पुराने इंजन की जगह आंतरिक संसाधनों से इसी क्षमता का दूसरा इंजन लगाने का निर्णय लिया।

दूसरे इंजन को लगाने के क्रम में इंजन स्थापना के लिए इंजन माउंटिंग का मॉडिफिकेशन, फ्लाईव्हील में पायलट बियरिंग का प्रावधान, कपलिंग प्लेट का मॉडिफिकेशन इत्यादि करने के उपरान्त ट्रायल किया गया। ट्रायल में संतोषजनक प्रदर्शन के उपरान्त इसकी कमिशनिंग की गई। इस कार्य को पूरा करने में प्रबंधक (ओजी एवं सीबीआरएस) प्रशांत किशोर, एमटीटी (ओजी एवं सीबीआरएस) सचिन गर्ग एवं अन्य अधिकारियों तथा कर्मियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!