बोकारो स्टील प्लांट का मेन गेट समय पर बंद, देरी से आने वाले कार्मिक फंसे, अब भिलाई की बारी, देखें बीएसएल गेट का वीडियो

0
sail bsl gate clossed
बीएसएल प्रबंधन ने पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू किया। कर्मचारियों को समय पर पहुंचना होगा ड्यूटी।
AD DESCRIPTION

सूचनाजी न्यूज, बोकारो। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल कर्मचारियों को समय पर ड्यूटी पहुंचने का आदेश जारी होता रहा है। अब इसके लिए सख्ती शुरू हो गई है। बोकारो स्टील प्लांट ने तय समय के बाद मेन गेट को ही बंद कर दिया है। सोमवार सुबह बोकारो से आई तस्वीर ने कर्मचारियों को बेचैन कर दिया है।

ये खबर भी पढ़े …सेल कर्मचारियों के ताउम्र टेक्नीशियन रहने से कॅरियर तबाह

समय पर ड्यूटी न पहुंचने वाले कर्मचारियों की लंबी लाइन लग गई। शोर-शराबा होता रहा। काफी देर तक गेट पर ही कर्मचारी ठहरे रहे। कुछ कर्मचारी घर की तरफ लौट गए। कर्मचारियों की लंबी लाइन होती गई। पास सेक्शन तक लाइन लगने की वजह से सीआइएसएफ ने चेतावनी देते हुए गेट को खोल दिया है। मंगलवार से समय पर गेट बंद कर दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि इस तरह की व्यवस्था जल्द ही भिलाई में भी लागू की जा सकती है।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़े … Gold-Silver Price Update: सोने और चांदी के दाम में लगी लगाम, 2000 तक गिर गए दाम

बोकारो स्टील प्लांट के जनसंपर्क अधिकारी मणिकांत का कहना है कि कोरोना काल के समय राहत दी गई थी। सरकार की गाइडलाइन पर अमल किया जा रहा था। गेट को फ्री किया गया था। सरकार ने अब सारे प्रतिबंध को वापस ले लिया है। इसलिए बीएसएल प्रबंधन ने पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू कर दिया है। सुबह 8.30 से लेकर शाम पांच बजे तक जनरल शिफ्ट में गेट बंद रखने का प्रावधान है।

ये खबर भी पढ़े …बोकारो स्टील प्लांट में गैस लगने से ठेका मजदूर की मौत…! कर्मचारियों ने कोक ओवन बैटरी में कामकाज किया ठप

साथ ही इमरजेंसी में किसी को बाहर निकलना होगा तो उसे एचओडी से पास लेना होगा। इसी पास के आधार पर कर्मचारी या अधिकारी को गेट से बाहर निकलने की अनुमति होगी। बता दें कि बीएसएल के नॉन वर्क्स एरिया में बायोमेट्रिक लगा हुआ है। प्लांट के कुछ एरिया में भी बायोमेट्रिक लगाया गया है। लेकिन इसका उपयोग फिलहाल, नहीं किया जा रहा है। जल्द ही बायोमेट्रिक को अनिवार्य कर दिया जाएगा।

ये खबर भी पढ़े …भिलाई स्टील प्लांट के अधिकारियों और कर्मचारियों ने जुटाई रकम, पत्नी के इलाज के लिए ठेका मजदूर का गम हुआ कम

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here