बीएसपी के कर्मचारियों ने गिफ्ट का किया बहिष्कार, प्रबंधन बोला-996 रुपए में बेहतर गिफ्ट दिया, कुछ कमियों को सुधार रहे…

अज़मत अली, भिलाई। सेल कर्मचारियों को नॉन फाइनेंसियल स्कीम का अवॉर्ड दिया जा रहा है। कहीं थर्मस तो कहीं सेलम स्टील प्लांट का डीनर सेट कर्मचारियों को बतौर उपहार भेंट किया जा रहा। भिलाई स्टील प्लांट के यूनिवर्सल रेल मिल-यूआरएम के कर्मचारियों ने उपहार का बहिष्कार करना शुरू कर दिया है।

यूआरएम में लैपटॉप बैग और एप्रन उपहार के रूप में दिया जा रहा है। कर्मचारियों ने इसकी क्वालिटी पर सवाल उठाते हुए इसे लेने से ही इन्कार कर दिया है। जो उपहार ले चुके थे, उन्होंने वापस कर दिया है। सामूहिक रूप से बहिष्कार की घोषणा करने का दावा किया जा रहा है।

इस पूरे घटनाक्रमण पर भिलाई इस्पात संयंत्र के जनसंपर्क विभाग का पक्ष सामने आ गया है। विभाग के महाप्रबंधक का कहना है कि संयंत्र के यूनिवर्सल रेल मिल में नॉन फाइनेंशियल स्कीम के तहत गिफ्ट खरीदने के लिए कमेटी गठित की गई थी। मिल के इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल और ऑपरेशन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने मिलकर तय किया कि 996 प्रति व्यक्ति के राशि से अच्छी क्वालिटी का क्या गिफ्ट लिया जा सकता है। अधिकारी सहित सभी कर्मियों को अच्छी गुणवत्ता की लैपटॉप बैग और एप्रेन खरीद कर दिया गया है। कुछ एप्रेन के साइज छोटी पाई गई है, जिसे जिसे ठीक किया जा रहा है।

फुल एनजेसीएस को लेकर दुर्गापुर स्टील प्लांट से निकली चिंगारी, दिनभर ईडी पीएंडए रहे बंधक, शुरू होगी भूख हड़ताल

इस्पात उत्पादन लक्ष्य को हासिल करने पर बीएसपी प्रबंधन कर्मचारियों को नॉन फाइनेंसियल स्कीम के तहत उपहार दे रही है। यूआरएम के कर्मचारियों ने सूचनाजी.कॉम को बताया कि एक-एक कर्मचारियों के हिस्से में करीब 1500 रुपए का उपहार आता है। लेकिन यहां करीब 300 रुपए का ही उपहार भेंट किया गया है। डी-मार्ट में करीब 80 से 100 रुपए में मिलने वाला एप्रन और करीब डेढ़ सौ रुपए का बैग दिया गया है।

तो क्या इस्पात मंत्री को सौंपा ज्ञापन डस्टबिन में ही गया, कर्मचारी बने बेवकूफ, ये है पूरा मामला

उपहार की क्वालिटी हद से ज्यादा खराब है। इसलिए कर्मचारियों ने इसे लेने से इन्कार कर दिया है। बताया जा रहा है मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल और फिनिशिंग एरिया के कर्मचारियों ने उपहार लेने से सबसे पहले मना किया। इसके बाद देखते-देखते दूसरे कर्मचारी भी इन्कार करने लगे हैं। गुरुवार को करीब 70 कर्मचारियों ने उपहार को वापस कर दिया है। वहीं, विभागीय अधिकारी इस विषय पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!