BSP Workers Union Live: अबकी बार 51 प्रतिशत लाओ…श्रमिकों का सारा काम कराओ, एनजेसीएस यूनियनों को भगाओ…

अज़मत अली, भिलाई। घड़ी की सुई रात 8.15 बजे पहुंच चुकी थी। रात ढलती जा रही थी और बीएसपी वर्कर्स यूनियन के पदाधिकारी हौसलों से जवां होते जा रहे थे। नॉन एनजेसीएस फोरम का ठप्पा लगने से उत्साहित पदाधिकारियों के साथ ही समर्थकों की संख्या बढ़ती दिखी। सामने अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता और अतिरिक्त महासचिव शिव बहादुर सिंह अपने अनुभवों को साझा कर रहे थे। एक-एक बूथ और मैनेजमेंट पर गंभीरता से बात रखने और समझाने में मशगूल रहे। कोई हेलमेट पर स्टीकर चिपकाने तो कोई आइआर विभाग की दीवारों पर ही यूनियन का स्टीकर चस्पा करने की वाहवाही बटोरता रहा।

ये खबर भी पढ़ें: क्रेडिट सोसाइटी के आप भी बन सकते हैं मालिए, बस करना होगा ये काम

चुनावी बतकही और रणनीति समय के साथ आगे बढ़ती रही और अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता खड़े हुए। शब्दों का बाण छोड़ना शुरू किया। कहा-बहुत हो गया। हर बार कोशिश करते रहे, इस बार जीत पक्की है। इस बार बार फाड़कर आओ, 51 प्रतिशत वोट लाओ…सारा काम कराओ…। एनजेसीएस के नाम पर सभी यूनियनों ने पैसे और सम्मान का नुकसान कर्मचारियों का किया है। कर्मचारी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं कि कब मतदान हो और वह एनजेसीएस नेताओं को निपटा दें।

ये खबर भी पढ़ें:सेल के कर्मचारियों को नहीं मिलेगा एक जनवरी 2017 से 17 नवंबर 2021 तक के पर्क्स का एरियर, अधिकारियों को मिला है 18 माह का एरियर

इन सब बातों के बीच बादल की गड़गड़ाहट…। बिजली की चमक…और मौसम बारिश के लिए बेताब रहा…। इसी बीच सहायक महासचिव विमल कांत पांडेय को मौका मिल गया…। सूचनाजी.कॉम यूनियन लाइव में ज्यादा स्थान घेरने के लिए जो बोलना शुरू किया…थमने का नाम ही नहीं ले रहे थे। मझे हुए राजनीतिज्ञ की तरह सामने बैठे दीपेश कुमार, जगदीश पाढी, सी. नरसिंह राव, लक्ष्मी नारायण, राहुल सागर, डी.शंकर राव, संतोष बरनवाल को प्रचार का टिप्स दिए जा रहे थे। एनजेसीएस नेताओं को कोसते रहे। आशीष श्रीवास्तव सबसे आखिर में पहुंचे और सीटू के पोल-खोल अभियान में जुट गए। एक व्यक्ति के द्वारा पुरानी यूनियन पर आए संकट का बखान शुरू कर दिया।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई से लेह और लद्दाख तक पर्यावरण-जल संरक्षण का मंत्र देंगे सेल के चार कर्मचारी

एनजेसीएस से इस्तीफा क्यों नहीं दिया।

अचानक से बारिश शुरू हुई और लोग कुर्सी छोड़ खड़े हो गए। अपने-अपने घरों की ओर कूच कर गए। कुछ बचे तो दोबारा चुनाव प्रचार पर मंथन शुरू कर दिया। सहायक महासचिव संदीप सिंह-बार-बार फोन रिसीव करने के झंझट से उबर नहीं पा रहे थे। अध्यक्ष चेहरा देखते रहे…। 56 की उम्र पार कर चुके महासचिव खूबचंद वर्मा टाइट जींस और टी-शर्ट में युवाओं के सामने युवा तुर्क की तरह डटे रहे। बोले-कर्मचारियों के खिलाफ गलत फैसला हुआ है तो सीटू-बीएमएस ने आखिर क्या किया…। कोर्ट गए। प्रदर्शन किया। एनजेसीएस से इस्तीफा क्यों नहीं दिया।

ये खबर भी पढ़ें: लंबित मुद्दों पर तिलमिलाए नेताजी बोले-1985 में चेयरमैन-जीएम को करा चुके सस्पेंड, न्याय नहीं मिला तो सेल चेयरमैन के चेंबर पर करेंगे चढ़ाई

एनजेसीएस को बाइकॉट कर कर्मचारी बीएसपी वर्कर्स यूनियन को जीताएंगे

पीछे से आवाज आई और नरसिंह राव ने कहा-इस बार इतिहास रचना है…। एनजेसीएस को हराकर नॉन एनजेसीएस को जीताने के लिए कर्मचारी इंतजार कर रहे हें। एनजेसीएस को बाइकॉट कर कर्मचारी बीएसपी वर्कर्स यूनियन को जीताएंगे। यह सुनते ही शिव बहादुर सिंह तपाक से बोल पडे़, देखिए भाई आप लोग सिस्टम से काम करोगे, तभी कुछ होगा। सफलता का मूलमंत्र दे रहे थे। ठहर कर बात करने का अंदाज अपनाते हुए कहा-जो जिम्मेदारी मिली…उसका निर्वहन करें, यही सबसे बड़ी बात है। मेहमानों के सम्मान के साथ कोई समझौता न करें। हम सब मेहमान की अगुवाई करें…। हालचाल लेते रहें…। अपनेपन का एहसास कराते रहें।

ये खबर भी पढ़ें: Breaking News: ग्रेच्युटी सिलिंग पर सेल की बढ़ी मुसीबत, सीटू की याचिका पर कोलकाता हाईकोर्ट में 28 को पहली सुनवाई

बाकी यूनियनों के पदाधिकारी 55 पार

एक बार फिर पांडेयजी फड़फड़ा उठे, बोले-बाकी यूनियनों के पदाधिकारी 55 पार वाले हैं। प्रचार के लिए चल ही नहीं पाते हैं। बीडब्ल्यूयू में युवाओं की फौज है…प्लांट से लेकर टाउनशिप और अस्पताल तक प्रचार में भागदौड़ कर रहे हैं। सुरेश सिंह स्टीकर को लगाने और चिपकाने पर माथापच्ची करते रहे। इधर-दफ्तर परिसर में चुनावी बिंदुओं पर मंथन किया जा रहा था। वहीं, बंद कमरे में वरिष्ठ सचिव मनोज डडसेना और लुमेश कुमार पर्चे की डिजाइन और ड्राइंग पर गोपनीय मीटिंग में मशगूल रहे।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई की बेटियों ने पॉवर लिफ़्टिंग में जीते स्वर्ण और रजत पदक, दुर्ग स्टेशन से घर तक होता रहा स्वागत

घटिया वेतन समझौता हुआ है…

काफी देर बाद कमरे से बाहर आए और बाहर चल रही बतकही में हां में हां मिलाते हुए बोले-प्रबंधन सिर्फ अधिकारियों को पैसा बांट रहा है। अब तक का सबसे घटिया वेतन समझौता हुआ है…। हम लोग जिसके बीच पहुंच रहे हैं, वहां सबका दर्द सामने आ रहा है। नॉन एनजेसीएस यूनियन भिलाई में विकल्प के रूप में आ रहा है। सिर्फ एक महीने की मेहनत और जीत पक्की है…।

ये खबर भी पढ़ें: SAIL चेयरमैन से लेकर बोकारो के डायरेक्टर इंचार्ज तक आए कर्मचारियों के राडार पर, सड़क पर मुर्दाबाद के लगे नारे…

भइया सीटू वाला अपनी तरफ मत लेना, बहुत बड़ा सर्किट है…

यह सुनकर उज्ज्वल दत्ता एक बार फिर कुर्सी छोड़ खड़े हुए और सामने मौजूद-युवा कर्मचारियों को शब्दों से साधा। कहा-जब जीत के करीब हम लोग होते हैं तो ईश्वर अपना दूत भेजता है। आप लोग यूनियन के लिए ईश्वर के दूत बनकर सामने आए हैं…। अध्यक्ष की बात को आगे बढ़ाते हुए एक पदाधिकारी ने धीरे से कहा-भइया विरोधी गुट का एक बंदा आने वाला है। इसी बीच एक आवाज आई, भइया फला यूनियन के नेता को अपनी तरफ मत लेना, बहुत बड़ा सर्किट है…।

"AD DESCRIPTION";

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!