तिलमिलाए बीडब्ल्यूयू का बीएमएस पर कटाक्ष, कहा-पैराशूट नेताओं की पृष्टभूमि से सब परिचित, भाजपा समर्थक का नहीं चाहिए किसी से सर्टिफिकेट

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। बीएसपी वर्कर्स यूनियन और बीएमएस के बीच जुबानी जंग बढ़ती जा रही है। इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते का कार्यक्रम कैंसिल होने से तिलमिलाए बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने एक बार फिर बीएमएस को आड़े हाथ लिया है। बीडब्ल्यूयू पर पलटवार करते हुए बीएमएस ने शुक्रवार को कांग्रेस समर्थित और तृणमूल का करीबी बताया था। बीएमएस के कार्यकारी अध्यक्ष व महामंत्री का जवाब देने के लिए बीडब्ल्यूयू ने पर्दे के पीछे रहने वाले पदाधिकारियों को आगे किया। महासचिव खूब चंद वर्मा ने कहा कि बीएसपी वर्कर्स यूनियन केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री को कर्मियों के लंबित मुद्दों के समाधान हेतु बुला रहा था। जिनमे प्रमुख रूप से कोरोना काल के भीषण त्रासदी के बावजूद भिलाई इस्पात संयंत्र में उत्पादन का नया कीर्तिमान गढ़ने वाले कर्मियों का सम्मान करना शामिल था।

ये खबर भी पढ़ें:    पब्लिक सेक्टर यूनिट में ओएनजीसी से शुरू होगी नई परंपरा, चेयरमैन तक बन सकेगा निजी कंपनी का एक्सपर्ट, सेल भी आएगा दायरे में

इन मुद्दों को रखना था मंत्री के सामने

बीडब्ल्यूयू का कहना है कि मंत्री के सामने कर्मचारी विरोधी MOU को रद्द करवाकर 15, 35 और 9 की जायज मांग को रखना, 18 महीने का लंबित पर्क्स के एरियस की जल्द भुगतान, 39 महीने के लंबित एरियर का पर्क्स सहित भुगतान, ग्रेच्युटी सीलिंग पर रोक लगाना, नए कर्मियों के सम्मानजनक पदनाम, 2003 बैच के कर्मचारियों का प्रशिक्षण अवधि को कार्यकाल में जोड़ना, कर्मियों के ट्रांसफर जैसे प्रमुख मुद्दे को मंत्री के समक्ष रखना था। परंतु, जिस प्रकार से कर्मियों के हित में होने वाले इस कार्यक्रम के विरोध में एक कर्मचारी विरोधी श्रमिक संगठन ने बिना सोचे-समझे दिल्ली तक दौड़ लगा कर कार्यक्रम को निरस्त कराया। यूनियन द्वारा अपनी पीठ थपथपाने का प्रयास किया जा रहा है। अपनी पहुंच का धौंस दिखाया जा रहा है। अच्छा होता यदि थोड़ा सा भी प्रयास संयंत्र कर्मी के हित में लंबित मुद्दों को हल करने में लगाता।

ये खबर भी पढ़ें: SAIL Chairman Interview: सोमा मंडल का अप्रैल 2023 में रिटायरमेंट, चयन प्रक्रिया होने जा रही शुरू, डायरेक्टर इंचार्ज अमरेंदु प्रकाश, अनिर्बान, बीपी सिंह व डायरेक्टर पर्सनल केके सिंह होंगे दावेदार

पैराशूट नेताओं के पुरानी पृष्टभूमि से भिलाई की जनता परिचित

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के संघठन मंत्री तोरण चंद्राकर ने कहा कि बीएमएस के नेता बीएसपी वर्कर्स यूनियन पर मिथ्या आरोप-प्रत्यारोप कर रहे है। झूठे व्यक्तिगत बयानबाजी पर उतर आए हैं। उन्हें यह समझ लेना चाहिए कि बीएसपी वर्कर्स यूनियन विशुद्ध रूप से एक श्रमिक संगठन है, जो कर्मियों के हितों को हमेशा सर्वोपरि रखते हुए काम करता रहा है और हमेशा करता रहेगा। हम उनके जैसे बरसाती मेढक नहीं हैं, जो चुनाव के समय नजर आते हैं। हम एनजेसीएस यूनियन के द्वारा मनमाने ढ़ग से लगातार जिस प्रकार से कर्मचारी विरोधी फैसले किए जा रहे हैं, इसे ही ध्यान में रखकर नॉन एनजेसीएस फोरम का गठन किया गया है, ताकि ऐसे कर्मचारी विरोधी फैसला करने से इन्हें रोका जा सके और इनके मनमानी पर रोक लगाया जा सके। यह कर्मियों का संघठन है, इसका किसी पार्टी विशेष से कोई लेना देना नहीं है। इन पैराशूट नेताओं के पुरानी पृष्टभूमि से भिलाई की जनता परिचित है।

ये खबर भी पढ़ें: बीएसपी में हादसा रोकने सबकुछ किया, लेकिन रिजल्ट में फेल, बाहर हो रही बदनामी…अब ओए और यूनियन ने गिनाई खामियां, दिए बेहतर सुझाव

हमें किसी से भाजपा के समर्थक का सर्टिफिकेट नहीं चाहिए

यूनियन के वरिष्ठ सचिव बेनी राम साहू ने कहा कि हमें किसी से भाजपा के समर्थक का सर्टिफिकेट लेने की आवश्कता नहीं है। भिलाई की जनता जानती है कौन किस विचारधारा का समर्थक है। जिस प्रकार एनजेसीएस समिति में कांग्रेस,मार्क्सवादी एवं अन्य राजनीतिक विचार धारा के संगठन एक साथ एक मंच में है। उसी प्रकार नॉन एनजेसीएस फोरम में भी विभिन्न राजनैतिक विचार धाराओं के संगठन एक साथ हैं। एनजेएससी के नेता तो कांग्रेस के पूर्व सांसद भी रहे हैं और वर्तमान में कांग्रेस के राष्टीय पदाधिकारी भी हैं तो क्या एनजेसीएस में शामिल अन्य सदस्यों को कांग्रेस में शामिल मान लिया जाए?

ये खबर भी पढ़ें:बीएसपी कर्मचारियों ने राजनीतिक दलों को मुहब्बत से समझाया, संभल जाएं, वरना छह विधानसभा क्षेत्र में नहीं मिलेगा संभलने का मौका

पैराशूट नेताओं के कृत्यों से इन्हीं के संगठन में आपसी विरोध

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के कार्यकारणी सदस्य लक्ष्मीनारायण साहू ने कहा कि किसी पर व्यक्तिगत आरोप-प्रत्यारोप करने वाले बीएमएस नेता स्वयं ही अपने संगठन के रीति-नीति से परिचित नहीं है। अन्यथा ये इस प्रकार की ओछी हरकतों से दूर रहते। इन पैराशूट नेताओं के कृत्यों से इन्हीं के संगठन में आपसी विरोध है।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई टाउनशिप के कब्जेदारों का सामने करने बनेगी सभी ट्रेड यूनियन-आफिसर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों की संयुक्त टीम, पहुंचेगी मौके पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!