Chhattisgarh Tourism: बाघ और तेंदुआ देखने का है शौक तो आएं Achanakmar और Indrawati टाइगर रिजर्व, दिखेगी उड़ने वाली गिलहरी भी…

0
tiger reserve
AD DESCRIPTION

बाघ, तेंदुआ, बाइसन, उड़ने वाली गिलहरी, चिंकारा, चीतल, भारतीय विशाल गिलहरी, पक्षियों की 150 से ज्यादा प्रजाति देखने को मिलेंगी।

सूचनाजी न्यूज़, छत्तीसगढ़। छत्तीसगढ़ धान का कटोरा कहलाता है। साथ ही हरियाली की छठा भी बिखेरे हुए है। वन प्राणी इसकी पहचान हैं। तेंदुआ और बाघ देखने का मौका आपको यहां बहुत ही नजदीक से मिल जाता है। बाघ, तेंदुआ, बाइसन, उड़ने वाली गिलहरी, चिंकारा, चीतल, भारतीय विशाल गिलहरी, पक्षियों की 150 से ज्यादा प्रजाति देखने को मिल जाएगी। इसलिए छत्तीसगढ़ घूमने का प्लान बना रहे हैं तो यहां के टाइगर रिजर्व के बारे में जरूर जानें।

अचानकमार टाइगर रिजर्व एक उष्णकटिबंधीय नम पर्णपाती और उष्णकटिबंधीय शुष्क पर्णपाती वन है। रिजर्व भी बहुत बड़े अचानकमार-अमरकंटक बायोस्फीयर रिजर्व का एक हिस्सा है। साल, बीजा, साजा, हल्दू, सागौन, तिनसा, धवरा, लेंदिया, खमार और बांस यहां औषधीय पौधों की 600 से अधिक प्रजातियों के साथ फलते-फूलते हैं।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़े …दस लाख कर्मियों के लिए भर्ती अभियान, प्रधानमंत्री ने रोजगार मेला किया लांच

घुमावदार मनियारी नदी जो कि रिजर्व के बीच से होकर बहती है, इसकी जीवन रेखा है। यहां पाए जाने वाले जंगली जीवों में बाघ, तेंदुआ, बाइसन, उड़ने वाली गिलहरी, भारतीय विशाल गिलहरी, चिंकारा, जंगली कुत्ता, लकड़बग्घा, सांभर, चीतल और पक्षियों की 150 से अधिक प्रजातियां शामिल हैं। यहां तक कि इस पार्क के माध्यम से एक छोटा सा ट्रैक भी इसकी असाधारण सुंदरता और जैव विविधता को आसानी से प्रकट करता है।

ये खबर भी पढ़े …सबसे जवाब मांगने वाला BWU पहले ये बताए, खुद क्या किया कर्मियों के लिए: CITU

Amazon(cargo pent click to see)

ये खबर भी पढ़े …SAIL में 90 और Coal India में 35 रुपए में सारी रात गुजार देते हैं कर्मचारी, पॉवर ग्रिड देता है 650 रुपए नाइट एलाउंस

अचानकमार वन्यजीव अभयारण्य का गठन वर्ष 1975 में किया गया था, जिसमें बिलासपुर वन मंडल के उत्तर पश्चिम वन खंड में 557.55 वर्ग किलोमीटर शामिल है। वन वनस्पति में मुख्य रूप से साल, साजा, तिनसा, बीजा, बांस शामिल हैं। अभयारण्य अमरकंटक के करीब है, जो नर्मदा नदी का उद्गम स्थल है। यह एकमात्र अभयारण्य है जहां बाघ देखे जाते हैं।

ये खबर भी पढ़े …भगवान श्रीराम के नाम से भिलाई में बनेगा स्पोर्ट्स एडं एजुकेशन कैंपस

इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान छत्तीसगढ़ का सबसे बेहतरीन और सबसे प्रसिद्ध वन्यजीव पार्क है। इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में स्थित है। पार्क का नाम इंद्रावती नदी से लिया गया है, जो पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है और भारतीय राज्य महाराष्ट्र के साथ रिजर्व की उत्तरी सीमा बनाती है। लगभग 2799.08 वर्ग किलोमीटर के कुल क्षेत्रफल के साथ, इंद्रावती ने 1981 में एक राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा प्राप्त किया और 1983 में भारत के प्रसिद्ध बाघ अभयारण्यों में से एक बनने के लिए भारत के प्रसिद्ध टाइगर रिजर्व के तहत एक टाइगर रिजर्व प्राप्त किया।

ये खबर भी पढ़े …सेक्टर-9 हॉस्पिटल के अटेंडेंट को नहीं मिला बोनस, काम से भी निकाला, धनतेरस की शाम सड़क पर झाम

Amazon(comouflag bag click to see)

ये खबर भी पढ़े …भिलाई स्टील प्लांट के मर्चेंट मिल फर्नेस में लगी आग, अफरा-तफरी

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here