कोयले की बोली लगाने और एक्सचेंज में बिजली बेचने वाले निजी उत्पादकों के लिए आयातित कोयले के साथ 10 प्रतिशत की ब्लेंडिंग अनिवार्य

सूचनाजी न्यूज, दिल्ली। विद्युत मंत्रालय ने सीईए को शक्ति बी (viii) (ए) के तहत कोयले का उपयोग करने वाले बिजली संयंत्रों के लिए ब्लेंडिंग के लिए 10 प्रतिशत आयातित कोयले को ध्यान में रखते हुए घरेलू कोयले की उपयुक्त मात्रा निर्धारित करने का निर्देश दिया है, जो ऊर्जा के संदर्भ में घरेलू कोयले के लगभग 15 प्रतिशत के बराबर है। शक्ति बी (viii)(ए) कोयले के लिए बोली लगाने, इस कोयले का उपयोग करके बिजली पैदा करने और इसे डे अहेड मार्केट (डीएएम) या डीईईपी पोर्टल के तहत शॉर्ट टर्म पीपीए के लिए एक्सचेंज में बेचने के लिए बिजली संयंत्रों के लिए एक प्रकार का विन्डो है।

ये खबर भी पढ़ें: टाटा के कर्मचारियों के लिए ‘56 का समझौता’ गीता-बाइबिल और कुरआन के कम नहीं, 94 साल से एक भी हड़ताल नहीं, औद्योगिक शांति ही शांति

ऐसे संयंत्रों के लिए, मंत्रालय ने सीईए को 15 जून से आरंभ हो कर 31 मार्च 2023 तक की अवधि के दौरान उत्पादन के लिए भार द्वारा 10 प्रतिशत की अनिवार्य ब्लेंडिंग के आधार पर खपत (शक्ति बी(viii)(ए) विंडो के तहत खरीदे गए कोयले) की मात्रा की गणना करने का निर्देश दिया है। इससे इन संयंत्रों को आयातित कोयले की खरीद के लिए लगभग 3 सप्ताह का समय (विन्डो) मिलेगा।

ये खबर भी पढ़ें:वाह! चीन की चाल को सेल-बीएसपी ने किया चित, थाईलैंड, नेपाल, यूएई तक भेजा एक लाख टन से ज्यादा स्टील

बिजली की बढ़ती मांग और घरेलू कोयला कंपनियों से कोयले की आपूर्ति के कोयले की खपत से मेल नहीं खाने पर विचार करते हुए, विद्युत मंत्रालय ने 28.04.2022 को आईपीपी सहित सभी जेनको को बिजली उत्पादन के लिए आयातित कोयले के 10 प्रतिशत की ब्लेंडिंग करने का सुझाव दिया। यह कदम घरेलू कोयला आपूर्ति में सहयोग देने के लिए उठाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!