छत्तीसगढ़ के राज्योत्सव पर नृत्य महोत्सव शुरू, संस्कृति के रंग में रंगे सीएम भूपेश बघेल, विदेशी कलाकार दिखा रहे आदिम संस्कृति, देखें तस्वीरें

0
Chhattisgarh Rajyotsav and National Tribal Dance Festival begin
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आदिवासी नृत्य महोत्सव का शुभारंभ राजधानी रायपुर स्थित साइंस कॉलेज मैदान में किया।
AD DESCRIPTION

साइंस कॉलेज मैदान में विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, आबकारी मंत्री कवासी लखमा बने साक्षी।

सूचनाजी न्यूज, रायपुर। छत्तीसगढ़ के राज्योत्सव के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आदिवासी नृत्य महोत्सव का शुभारंभ किया। राजधानी रायपुर स्थित साइंस कॉलेज मैदान में विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, आबकारी मंत्री कवासी लखमा, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया सहित अन्य जनप्रतिनिधि इसके साक्षी बने।

ये खबर भी पढ़े … SAIL MTT Recruitment: स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड में 245 पदों पर भर्ती, बनना है अधिकारी तो 3 नवंबर से करें आवेदन

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़े …कैश कलेक्शन में पिछड़ा SAIL, 9655 करोड़ का लक्ष्य, बमुश्किल 8743 करोड़ जुटा पाए, बीएसपी टॉप पर

राज्य गीत, अरपा पैरी के धार से राज्योत्सव 2022 का शुभारंभ हुआ। राज्योत्सव एवं राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं सभी राज्यों के नर्तक दल और विदेशी मेहमानों का हार्दिक स्वागत करता हूं।

ये खबर भी पढ़े …बोकारो स्टील प्लांट ने क्रूड स्टील प्रोडक्शन में रचा कीर्तिमान, कर्मियों को चाहिए बेहतर इनाम

ये खबर भी पढ़े … छत्तीसगढ़ के राज्योत्सव पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का बड़ा तोहफा, अब एक कॉल पर घर बैठे बनेगा 5 साल तक के बच्चों का आधार कार्ड

सभी प्रदेश वासियों को राज्य स्थापना दिवस और तीसरे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की बहुत बहुत बधाई। दुनियाभर के आदिवासी समाज के नृत्य की कलाएं बहुत हद तक समान हैं। आदिवासियों की छोटी सी इच्छा यही है कि प्रकृति पर पूरी मनुष्यता का समान अधिकार हो और मिलजुलकर संरक्षण करें।

ये खबर भी पढ़े …23वें राज्य स्थापना दिवस की बधाई हो, सीएम भूपेश बघेल बोले-पुरखों के सपनों के अनुरूप गढ़ रहे नवा छत्तीसगढ़

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का उद्देश्य आदिम संस्कृति को बचाये रखना है। छत्तीसगढ़ की संस्कृति को बचाये रखने के लिए हमने बहुत कार्य किया है। आज का क्षण हमारे लिए आत्म गौरव का है।

ये खबर भी पढ़े …छत्तीसगढ़ राज्योत्सव-आदिवासी नृत्य महोत्सव: रायपुर एयरपोर्ट पर उतरते ही संस्कृति की गोद में बैठे विदेशी कलाकार, मस्ती का कराया एहसास

ये खबर भी पढ़े …बीएसपी के खेल मैदानों का भिलाई नगर निगम कर रहा सौदा, यूनियन विरोध में, बोलने से बचते रहे महापौर

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य समारोह का ये तीसरा आयोजन है, लेकिन इसमें देश विदेश के 1500 कलाकार प्रस्तुति देंगे, इससे आदिवासी संस्कृति के प्रसार और विनिमय का दायरा बढ़ेगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि मनुष्य का इतिहास जितना पुराना है, उतना ही पुराना नृत्य का इतिहास है। दुनियाभर के आदिवासियों की नृत्य शैली, वाद्ययंत्र में समानता है। आदिम नृत्य की यह परंपरा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक आई है, इस तरह से हम आज यहां पहुंचे हैं। समय के बदलाव के साथ जीवन के तौर तरीके में बदलाव आया है।

ये खबर भी पढ़े …सतर्कता जागरूकता सप्ताह 2022: भिलाई स्टील प्लांट में भ्रष्टाचार के खात्मे का बुलंद हुआ नारा, लगाई दौड़

इस महोत्सव का मुख्य उद्देश्य आदिवासियों की परंपरा को बचाए रखने और पूरी दुनिया की आदिम संस्कृति आगे बढ़ाने और उनका संवर्धन करने से है। प्रकृति पर पूरी मनुष्यता का एक जैसा अधिकार हो, सभी प्रकृति का संरक्षण करें। विकास की गलत अवधारणा के कारण आज प्रकृति ही खतरे में पड़ गयी है।

ये खबर भी पढ़े …छत्तीसगढ़ की ग्राम पंचायतों की कुंडली देखिए वेब पोर्टल SFC&eInfo व मोबाइल एप पर 

छत्तीसगढ़ आदिवासियों और किसानों का प्रदेश है। राज्य के आंदोलन में जिन मूल्यों को लेकर आंदोलन हुआ, हमारी सरकार उस सोच को लेकर आगे बढ़ रही है।

ये खबर भी पढ़े …छत्तीसगढ़ के कृषकों को स्थापना दिवस का तोहफा, 1 नवंबर से धान खरीदी का महा अभियान, अबकी 61 हजार बढ़े किसान

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here