कोविड-19 से जान गंवाने वाले कर्मचारियों के आश्रितों को वेतन समझौते का मिला एरियर, रिवाइज्ड बेसिक-डीए का अब भी इंतजार

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। कोविड-19 से भिलाई इस्पात संयंत्र के मृत कर्मचारियों के आश्रित परिवारों के सदस्यों की बैठक अंबेडकर उद्यान सेक्टर-1 में हुई। भिलाई श्रमिक सभा-एचएमएस यूनियन के महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र और प्रवक्ता साजिद खान भी इस बैठक में शामिल हुए। आश्रित परिवार के सदस्यों ने जानकारी दी कि अप्रैल 2020 से वेज रिवीजन के एरियर्स की राशि उन्हें मिल गई है, लेकिन रिवाइज्ड बेसिक-डीए देने की प्रक्रिया प्रबंधन द्वारा अभी तक शुरू नहीं की गई है।

ये खबर भी पढ़ें:रिसाली में अब तक 90 कब्जेदार बेदखल, दलालों ने फ्रूट्स वेंडरों को बसाया था, सेक्टर-6 में चलेगा ऑपरेशन-नटवरलाल

आश्रित परिवार के सदस्यों द्वारा बोकारो इस्पात संयंत्र के प्रबंधन का एक पत्र का जिक्र किया, जिसमें रिवाइज्ड बेसिक डीए देने की प्रक्रिया वहां शुरू की गई है। लेकिन भिलाई इस्पात प्रबंधन द्वारा इसकी शुरुआत नहीं की जा रही है। महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र ने आश्वस्त करते हुए कहा कि इसके लिए यूनियन जल्द ही प्रयास करेगी। एक पत्र अधिशासी निदेशक कार्मिक एवं प्रशासन को आईआर विभाग के माध्यम से दिया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें:नान फाइनेंसियल मोटिवेशन का गिफ्ट दें स्टील प्लांट का प्रोडक्ट

उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि जिन 12 प्रकरणों में सस्पेक्टेड कोविड-19 के कारण सेवा के द्वारा 4 लाख रुपए की राशि का भुगतान नहीं हो पाया था, इसके लिए यूनियन का प्रतिनिधिमंडल जिसमें सेवा के संयुक्त सचिव एवं यूनियन के उप महासचिव हरिराम यादव भी शामिल थे, अधिशासी निदेशक कार्मिक एवं प्रशासन से मिला था। पीड़ित परिवारों को मदद करने की मांग की थी।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई, राउरकेला और बोकारो के स्टील पर टिका है भारत का स्वदेशी युद्धपोत आईएनएस ‘उदयगिरी’ व ‘सूरत’, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्र को किया समर्पित

उच्च प्रबंधन ने इसे गंभीरता से लेते हुए सभी प्रकरणों का निराकरण करते हुए 4 लाख रुपए राशि का भुगतान सेवा के माध्यम से किया है। सभी 268 प्रकरण, जिन्होंने आवेदन दिया था सभी को 4 लाख रुपये का भुगतान किया गया है। उपस्थित सभी परिवार के सदस्यों एवं यूनियन ने प्रबंधन को साधुवाद दिया। कहा कि हम आशा करते हैं कि प्रबंधन जल्द ही रिवाइज्ड बेसिक डीए भुगतान करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!