सेल आवास आवंटन प्रक्रिया डिजिटाइज, खाली आवासों की सूची में से 20 च्वाइस दे सकते हैं कर्मी, छह नहीं अब 4 साल में बदल सकते हैं आवास

सूचनाजी न्यूज, बोकारो। बोकारो टाउनशिप क्षेत्र के आवास आवंटन प्रक्रिया को सरल कर दिया गया है। बेहतरी के लिए विगत दिनों नगर प्रशासन विभाग के सिविल, इलेक्ट्रिकल और जन-स्वास्थ्य की टीम द्वारा कई पहल किए गए हैं, जिनके सकारात्मक परिणाम दिखने लगे हैं। इसी कड़ी में अब आवास आवंटन नियमावली में भी कई अहम संशोधन कर आवंटन प्रक्रिया को अधिक सुगम और पारदर्शी बनाया गया है।

इस पूरी प्रक्रिया में विभिन्न स्टेक होल्डर्स के साथ वार्ता एवं बैठकों के क्रम में प्राप्त उनके उपयोगी सुझावों को ध्यान में रखा गया है। बीएसएल शीर्ष प्रबंधन के दिशा-निर्देश में इस चुनौतीपूर्ण कार्य को नगर प्रशासन के आवास आवंटन की टीम ने गहन मंथन के बाद सफलतापूर्वक संपादित किया है। “इम्प्लाई फ़र्स्ट” यानी कर्मचारी हित सर्वोपरि की मूल भावना पर आधारित आवास आवंटन नियमावली में सुधार किए गए हैं।

ये खबर भी पढ़ें: बोकारो स्टील प्लांट ने अपनाया सीएनजी और पीएनजी, डायरेक्टर इंचार्ज के घर में पीएनजी का लगा पहला कनेक्शन

आप भी जानिए आखिर क्या किए गए सुधार

-डी-टाइप क्वार्टर आवंटन में वरीयता का निर्धारण अब ग्रेड के अनुसार किया जाएगा, यानी उच्चतर ग्रेड के कर्मचारी, वरीयता सूची में ऊपर होंगे।

  • अधिशासियों की तरह अब अनधिशासी को भी च्वाइस के आधार पर आवास का आवंटन किया जाएगा।
    -डी एवं ई प्रकार के आवास के लिए कर्मी खाली आवासों की सूची में से अधिकतम 20 च्वाइस दे सकते हैं।
    -खाली आवासों की सूची बीएसएल के इंट्रानेट पर डिस्प्ले किया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें:ठेका मजदूरों का प्रदर्शन सेल की हर इकाइयों में, लेकिन बवाल सिर्फ भिलाई में, धक्का-मुक्की से बिगड़े हालात, देखिए तस्वीरें

एक माह के अंदर आवास खाली करना अनिवार्य होगा

सहज अनुरक्षण के तहत बीएसएल कर्मचारियों के लिए फ्रेश क्वार्टर आवंटन में “सहज अनुरक्षण” की प्रक्रिया अपनाई जाएगी।
-इसके तहत क्वार्टर अनुरक्षण संपन्न होने से पूर्व पैनल रेंट की कटौती नहीं की जाएगी। तथापि, अनुरक्षण के उपरांत एक माह के अंदर पूर्व में रह रहे आवास को खाली करना अनिवार्य होगा, अन्यथा पैनल रेंट देय होगा।

आवंटन प्रक्रिया को डिजिटाइज़

सुगम तकनीक अपनाई जा रही है। समस्त आवंटन प्रक्रिया को डिजिटाइज़ करने का निर्णय लिया गया है। क्वार्टर दखल एवं खाली करने की पूरी प्रक्रिया “सुगम तकनीक” के तहत सीएंडआईटी विभाग के सहयोग से ऑनलाइन की जा रही है। इससे संबंधित प्रक्रिया सहज और पारदर्शी हो जाएगी, जिससे आवंटी काफी लाभान्वित होंगे।

ये खबर भी पढ़ें: सेल कर्मचारियों से 43 हजार तक होगी रिकवरी, हो जाइए तैयार

आवास परिवर्तन की समय सीमा अब 6 नहीं चार साल

एक और महत्वपूर्ण सुधार के तहत आवास परिवर्तन (क्वार्टर चेंज) के मामलों में भी सामान्य वरीयता सूची अपनाने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए भी च्वाइस हेतु उपलब्ध खाली आवासों की सूची डिस्प्ले की जाएगी। आवास परिवर्तन की समय सीमा अर्हता अब 6 वर्ष से घटाकर 4 वर्ष कर दी गई है।

ये खबर भी पढ़ें: बीएसपी के डिप्लोमा इंजीनियर ने थाईलैंड, फिनलैंड, बांग्लादेश और तुर्की के कलाकारों को दी मात, मिला नाट्य विभूषण का पुरस्कार

दो बार तक कर सकेंगे म्यूचुअल चेंज

म्यूचुअल चेंज के मामले में भी राहत दी गई है। समान प्रकार के आवास में पारस्परिक परिवर्तन (म्यूचुअल चेंज) अब एक बार की जगह दो बार तक किए जा सकेंगे। विभिन्न श्रेणियों के लिए आवास रेंट एवं पैनल रेंट को तर्कसंगत बनाया गया है। इन सब अहम प्रक्रियात्मक सुधारों के अलावा इस आवंटन नियमावली में कतिपय महत्वपूर्ण परिवर्तन समाहित किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!