बोनस को लेकर बोकारो स्टील प्लांट के डिप्लोमा इंजीनियर्स उतरे सड़क पर, सेल पर तानाशाही का आरोप

0
bonus protest in bokaro steel plant 1
बोकारो इस्पात डिप्लोमाधारी यूनियन के बैनर तले बीएसएल के एडीएम बिल्डिंग के सामने कर्मचारियों ने विरोध-प्रदर्शन किया।
AD DESCRIPTION

सूचनाजी न्यूज़, बोकारो। बोकारो इस्पात डिप्लोमाधारी यूनियन के बैनर तले बीएसएल के डिप्लोमा इंजीनियर्स द्वारा शुकवार को सम्मानजनक बोनस और बोनस के लिए निश्चित फार्मूला बनाने की माँग को लेकर गाँधी चौक से एडीएम बिल्डिंग होते हुए वापस गाँधी चौक में प्रदर्शन किया गया।

ये खबर भी पढ़ें… सेलSAIL-बीएसपी कर्मी की बहन सेक्टर-5 से लापता, CCTV फुटेज में दिखी, तलाश जारी

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए यूनियन के महामंत्री एम.तिवारी ने कहा कि सेल प्रबंधन की तानाशाही रवैये के कारण इस वर्ष दुर्गा पूजा में सेल कर्मचारियों को बोनस का भुगतान नहीं हो पाया है, जिसके कारण सेल के सभी कर्मचारियों में काफी आक्रोश है। इसीलिए प्रत्येक इकाई में विरोध प्रदर्शन हो रहा है,बहुत अफसोस की बात है कि सेल कर्मचारियों से जुड़े सभी मुद्दों पर कर्मचारियों को विरोध प्रदर्शन करना पड़ता है।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें… सेल-बोकारो स्टील प्लांट लगवाएगा दिव्यांगों को कृत्रिम अंग, भारतीय कृत्रिम अंग निगम से किया एमओयू साइन

इसका प्रतिकूल प्रभाव कर्मचारियों के मनोबल पर पड़ रहा है, जिसके लिए प्रबंधन और एनजेसीएस समान रूप से जिम्मेदार है। इसलिए बोनस जैसे गंभीर मुद्दे को लटकाने के बजाय इसपर तुरंत फैसला करते हुए कर्मचारियों को जल्द से जल्द बोनस की राशि का भुगतान किया जाना चाहिए।

संदीप कुमार (अध्यक्ष) ने कहा कि वित्त वर्ष 20-21 की तुलना में वित्त वर्ष 21-22 में चार गुना लाभ हुआ है,जिसके अनुसार इस बार कम से कम 84 हजार रु बोनस मिलना चाहिए था,पर प्रबंधन और एनजेसीएस में दो बार मीटिंग होने के बाद भी समझौता नहीं हो पाया। इसका खामियाजा कर्मचारियों को भुगतना पड़ रहा है। कंपनी को मुनाफे में ले जाने के लिए अधिकारी और कर्मचारी दोनों का योगदान है।

ये खबर भी पढ़ें… वित्तीय वर्ष 2022-23: राउरकेला स्टील प्लांट ने अप्रैल-सितंबर की अवधि में हॉट मेटल, क्रूड स्टील और सेलेबल स्टील प्रोडक्शन में तोड़े पिछले सभी छमाही रिकॉर्ड

सभी लोगों के सामुहिक प्रयास से कंपनी मुनाफे में आई है। इस परिस्थिति में कर्मचारियों के साथ भेदभाव करना बिल्कुल ही सही नही है। इसी कारण बोनस के लिए पिछले वर्ष के प्रोडक्शन और प्रॉफिट को ध्यान में रखते हुए एक ऐसा निश्चित फार्मूला बनाने की आवश्यकता है, जिससे कर्मचारी को अपने काम और अपने कंपनी के प्रति गर्व महसूस हो।

कर्मचारियों के मुद्दे पर प्रबंधन और एनजेसीएस दोनों ही उदासीन रवैया अपनाता है। सालों से कुछ अहम मुद्दे जैसे, एरियर का भुगतान, नाईट अलाउंस में बढ़ोतरी, पदनाम आदि मुद्दों का समाधान नहीं हो पाना दोनों पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है। बहुत ऐसे मुद्दे हैं जिनका शीघ्र निराकरण आवश्यक है।

ये खबर भी पढ़ें…SAIL Bonus Formula Controversy: 45 हजार नहीं, महज 16826 रुपए आएगा खातों में, पढ़ें-बोनस फॉर्मूले की 10 खामियां…

प्रदर्शन में यूनियन के कार्यकारी सदस्य रवि शंकर, संयुक्त महामंत्री रत्नेश मिश्रा, सोनू शाह, पप्पू यादव, रितेश ओझा, आनंद रजक, अरुण कुमार,नरेंद्र दास, सूरज कंसारी ,नितेश कुमार, सिद्धार्थ सेन, चंदन द्विवेदी, प्रेमनाथ,राहुल सिंह, निखिल कुमार, अमन बास्की, संजीत कुमार,शिव नाथ, निरंजन कुमार आदि उपस्थित रहे।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here