DNB Day 2022: उम्मीद और सहारा देने वाली दवाओं से ज्यादा ताकतवर होती है अच्छे डॉक्टर की मौजूदगी

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। राउरकेला स्टील प्लांट के इस्पात पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट एवं सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में डीएनबी दिवस मनाया गया। समारोह में डॉक्टरों को आरएसपी के निदेशक प्रभारी अतनु भौमिक ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि ‘अच्छे डॉक्टरों के मुस्कुराते चेहरे रोग की डर को स्वास्थ्यलाभ के आशा में बदल देने की क्षमता होती हैं।’ इस अवसर पर कार्यपालक निदेशक (खान) एके.कुंडू, कार्यपालक निदेशक (वर्क्‍स) एसआर.सूर्यवंशी, और सीएमओ प्रभारी (एमएंडएचएस) डॉ. बीके.होता उपस्थित थे। समारोह में वरिष्ठ अधिकारी, चिकित्सक, प्रशिक्षार्थी, शिक्षक और कर्मचारी उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें: IISCO Burnpur Steel Plant Blast: ये अंगुली हादसे पर नहीं, जिम्मेदारों पर उठी, एक सप्ताह के भीतर कोक ओवन बैटरी-10 में दोबारा हादसा, दहशत में कर्मचारी…

निदेशक प्रभारी ने कहा कि एक अच्छे डॉक्टर की मौजूदगी सुकून देने और आश्वस्त करने का काम करती है, जो उम्मीद और सहारा देने वाली दवाओं से ज्यादा ताकतवर होती है। उनके द्वारा दी जा रही सहायता के मान्‍यता स्‍वरूप निदेशक प्रभारी ने डीएनबी डॉक्टरों को अस्पताल की रीढ़ हड्डी के रूप में संदर्भित किया। इनविक्टा (INVICTA) के अपराजित अर्थ का उपयोग करते हुए, श्री भौमिक ने कहा कि कोविड के समय डॉक्टरों द्वारा की गई निस्वार्थ सेवा ने न केवल बहुमूल्‍य जीवन को बचाने में मदद की है, बल्कि दुनिया भर में नेक पेशे के महत्व को भी दुरुस्त किया है।

ये खबर भी पढ़ें: हेल्थ इंश्योरेंस प्लान बचत को प्रभावित किए बिना मेडिकल खर्चों को करता है पूरा, तो प्लान नहीं है बुरा

निदेशक प्रभारी ने सदन को इस्पात उद्योग में मौजूदा मंदी के बारे में सूचित करते हुए आशा व्यक्त की, कि कल्याणकारी गतिविधियों को पूरा करने के लिए कर्मीसमूह के सामूहिक प्रयासों से वर्तमान चरण से निपटने में मदद मिलेगी। डाक्टर होता ने स्थापना के बाद से आईजीएच में डीएनबी डॉक्टरों के प्रशिक्षण के दौर पर प्रकाश डाला और विशेष रूप से महामारी के दौरान डीएनबी डॉक्टरों की भूमिका की सराहना की।

कार्यक्रम का शुभारंभ उप सीएमओ (एमएंडएचएस) डॉ. पुष्पा कुमारी द्वारा प्रस्‍तुत गणेश वंदना के साथ किया गया। इसके बाद नर्सिंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के छात्रों द्वारा प्रस्तुत एक मंगलाचरण गीत और स्वागत गान के बीच औपचारिक रूप से दीप प्रज्ज्वलित किया गया। समारोह के दौरान गणमान्यों ने अकादमिक उत्कृष्टता पुरस्कार के साथ इस कार्यक्रम के उपलक्ष्‍य में आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई टाउनशिप के कब्जेदारों की गुंडई का मामला सेफी लेकर पहुंचा इस्पात मंत्रालय

प्रारंभ में डॉ. पीके महापात्र ने स्वागत भाषण दिया और आईजीएच में डीएनबी की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। डीएनबी प्रशिक्षण के सचिव डॉ. राहुल अग्रवाल ने डीएनबी गतिविधियों की वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की, जबकि अध्यक्ष (डीएनबी प्रशिक्षण) डॉ. वेंकट एस.प्रसाद ने औपचारिक धन्यवाद ज्ञापित किया।
सांस्कृतिक संध्या में डॉ. प्रियंका और डॉ. राहुल द्वारा सोलो नृत्य प्रदर्शन, डॉ सत्यम परिडा द्वारा गीत और डॉ. जयंत आचार्य द्वारा बांसुरी वादन शामिल थे, जो इस शाम का मुख्य आकर्षण था।

ये खबर भी पढ़ें:  World Environment Day 2022: राउरकेला स्टील प्लांट का हॉट स्ट्रिप मिल-2 जीरो लिक्विड डिस्चार्ज कॉन्सेप्ट पर, नदी के पानी की जरूरत नहीं, 52 लाख पेड़ों ने बिछाई है हरियाली की चादर

उल्लेखनीय है कि, आईजीएच में मेडिसिन, एनेस्थीसिया, प्रसूति और स्त्री रोग, सर्जरी, नेत्र विज्ञान, पल्मोनरी और बाल रोग में डीएनबी पाठ्यक्रम पेश किए जाते हैं। वर्ष 2006 में आईजीएच में डीएनबी पाठ्यक्रम शुरू होने के बाद से अब तक 304 डॉक्टरों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!