कर्मचारी को खुर्सीपार में तीन साल बाद नसीब हुआ आवंटित मकान, कब्जेदार बेदखल, इधर-बीएसपी ने सात महीने में 277 मकान कराए खाली

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट के मकान से एक कब्जेदार को बेदखल कर दिया गया है। पिछले तीन साल से बीएसपी कर्मचारी आवंटित मकान में दाखिल होने के लिए दर-दर भटक रहा था। लेकिन कब्जेदार मकान खाली नहीं कर रहा था। संपदा न्यायालय के आदेश पर अब मकान खाली कराया गया है।

बीएसपी द्वारा खुर्सीपार में कार्यपालक मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की उपस्तिथि में कब्जेदार के खिलाफ कार्रवाई की गई। भिलाई इस्पात संयंत्र के नगर सेवाएं विभाग के प्रवर्तन अनुभाग ने खुर्सीपार के जोन-3 के सड़क-302 क़वाटर-14A को कब्जा मुक्त कराया गया।

ये खबर भी पढ़ें:एनजेसीएस सब-कमेटी बैठक से पहले प्रबंधन पर दबाव, वेतन समझौते को लेकर ठेका मजदूर संग सड़क पर उतरे नियमित कर्मी

पिछले तीन वर्षों से काबिज अवैध कब्जेधारी को बेदख़ल किया गया। भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा संपदा न्यालय में पारित डिक्री के अनुपालन में कार्यपालक मजिस्ट्रेट तथा खुर्सीपार थाना के पुलिस बल की उपस्थिति में प्रवर्तन अनुभाग तथा आवास अनुभाग की टीम द्वारा ने मकान खाली कराया। आवास बीएसपी कर्मी को अलॉट हो चुका था। बीएसपी द्वारा वर्तमान में कब्जेदारों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें:सेल कर्मचारियों को लगी एक और चपत, एसईएसबीएफ की ब्याज दर 8.65% से घटकर हुई 8.30%

पिछले दिनों खुर्सीपार में ही 21000 स्क्वायर फीट और 9000 स्क्वायर फ़ीट भूमि को पारित डिक्री के आधार पर सील किया गया था। रिसाली सेक्टर में ऑपरेशन नसीब के तहत अब तक 90 से अधिक आवासों को कब्जा मुक्त करवाकर अलॉटी तथा रखरखाव कार्यालय को सौंपा गया है। विशेष अभियान के तहत अब तक 277 बीएसपी आवास से अवैध कब्जेदारों को बेदख़ल किया जा चुका है।

ये खबर भी पढ़ें:कर्मचारियों के निलंबन और ट्रांसफर की उठी बात, प्रबंधन ने एक कान से सुनी, दूसरे से निकाली, प्रमोशन पॉलिसी पर चर्चा तक नहीं…

प्रवर्तन अनुभाग का कहना है कि कब्जेदारों के खिलाफ अभियान निरंतर जारी रहेगा। इस अभियान से भू माफियाओं, कब्जेदारों और दलालों में हड़कंप मच हुआ है। कब्जेदारों और उगाही करने वाले दलालों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई और एफआइआर तक कराया जा रहा है।

आत्महत्या करने ट्रेन के सामने कूदी महिला, फिल्मी स्टाइल में दौड़ते हुए बचाई जान, तीन ट्रेनों के लगे थे इमरजेंसी ब्रेक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!