नॉन एक्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी में इतने छेद की इंटक वाले भी कतरा रहे, हर जगह एक ही सवाल-कब मिलेगा एरियर

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात मजदूर संघ के पदाधिकारियों की एक टीम जनसंपर्क अभियान के तहत मशीन शॉप-1 व फाउंड्री शॉप पहुंची। कर्मियों के सवालों के जवाब दिए। सभी जगह एक ही सवाल था कि 39 महीने का एरियर कब मिलेगा।

उन्होंने नई प्रमोशन पॉलिसी पर सवाल उठाते हुए बताया कि जिस पॉलिसी को इंटक अच्छी बता कर साइन की है, उसमें इतने छेद है कि खुद इंटक के पदाधिकारी मशीन शॉप-1 में लागू करवाने से डर रहे हैं, क्योंकि उन्हें पता है कि लागू होने के बाद कितने ही कर्मियों का चार्जमैन पद खतरे में पड़ जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें: तीन मासूम बच्चे और मां-पत्नी का निवाला मौत ने छीना, इधर-परमेश्वर है घर में इकलौता कमाने वाला, शादी को 6 माह ही गुजरा, आज जिंदगी मौत से जूझ रहा…

इसी प्रकार फाउंड्री के कर्मचारियों का सवाल था कि सेवा के द्वारा पिछले वर्ष 4500 बगैर कर्मचारियों की सहमति से काट दिया। पूछने पर कहते हैं कि कोरोना काल में मृत कर्मियों के परिवारों को दिए, उनका प्रश्न था कि सेवा का कार्यकाल बहुत पहले खत्म हो चुका है। ऐसे में उनके पदाधिकारियों को एकतरफा निर्णय लेने का अधिकार किसने दिया।

ये खबर भी पढ़ें: इस्पात मंत्री का कार्यकाल खत्म होने से पहले अधिकारियों का मामला हल कराने दिल्ली पहुंचा सेफी, 3 करोड़ से ज्यादा का बकाया और एरियर पर फोकस

उन्होंने मांग की है कि सेवा को तत्काल भंग किया जाए और नया चुनाव कराया जाए। जितने कर्मियों का पैसा काटा गया है, उसे तत्काल वापस किया जाए। लोगों ने प्रबंधन पर भी प्रश्न उठाया कि कोरोना काल में संयंत्र की सेवा करते हुए शहीद हुए परिवारों के लिए प्रबंधन को उनकी मदद स्वरूप खुद से राशि देनी चाहिए थी, न कि कर्मियों से कटौती करवाते, क्योंकि यदि सब कुछ सेवा के मेंबर ही देंगे तो फिर प्रबंधन का अपना योगदान क्या है।

इंटक की सदस्यता लेने वाला यशजीत बीएमएस का सदस्य नहीं

इंटक के द्वारा कोई यशजीत चौहान को बीएमएस का सदस्य बताकर इंटक में प्रवेश बताया गया है। इस पर भिलाई इस्पात मजदूर संघ के अध्यक्ष आईपी मिश्रा ने कहा कि इस नाम का कोई भी कर्मी बीएमएस का प्राथमिक सदस्य नहीं रहा है। इसलिए हमारी यूनियन इसका खंडन करती है। आगाह करती है कि इस प्रकार की झूठी खबरें न फैलाई जाए। प्रचार अभियान के दौरान कार्यकारी अध्यक्ष चन्ना केशवलू, महामंत्री रवि शंकर सिंह, हरिशंकर चतुर्वेदी, शारदा गुप्ता, उमेश मिश्रा, विनोद उपाध्याय, अशोक माहौर, रवि चौधरी, महेंद्र सिंह, वशिष्ठ वर्मा, प्रदीप पाल, श्रीनिवास मिश्रा, सीपी सिंह, केआर सिंह, संजय प्रताप सिंह, प्रकाश अग्रवाल, राज नारायण सिंह, संदीप पांडे, वीरेंद्र मुरकुटे, एसपी चौबे, आरबी सिंह आदि थे।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई टाउनशिप में कब्जे की राजनीति का फैसला होगा सीएम भूपेश बघेल के दरबार में, कर्मचारी-अधिकारी करेंगे मुलाकात

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!