भिलाई स्टील प्लांट के पांच सीजीएम को मिला ईडी का प्रमाण-पत्र, जानिए कॅरियर के बारे में

एमएम गद्रे कार्यालयीन कार्य से दौरे में होने के कारण उनका पदोन्नति आदेश उनकी पत्नी को प्रदान किया गया। इस अवसर पर श्रीमती पंडा भी उपस्थित थीं।


सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र के पांच मुख्य महाप्रबंधकों को कार्यपालक निदेशक के रूप में पदोन्नत कर दिया गया है। इस्पात भवन में आयोजित समारोह में निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता ने कार्यपालक निदेशकों तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में पदोन्नति आदेश सौंपे।

ये खबर भी पढ़ें:Rourkela Steel Plant: डायरेक्टर इंचार्ज अतनु भौमिक ने 4 सीजीएम को पहले सौंपा ईडी का सर्टिफिकेट, फिर भविष्य के रोडमैप पर किया मंथन

मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (वित्त एवं लेखा) डॉ. अशोक पंडा को बीएसपी के कार्यपालक निदेशक (वित्त एवं लेखा) के रूप में पदोन्नत किया गया हैं। इसी क्रम में मुख्य महाप्रबंधक (ओएचपी) बीएल चांदवानी को कार्यपालक निदेशक (वीआईएसएल) के रूप में, मुख्य महाप्रबंधक (एसएमएस-3) के.भट्टाचार्जी को दुर्गापुर इस्पात संयंत्र के कार्यपालक निदेशक (सामग्री प्रबंधन) के रूप में, मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (मिल्स) एमएम गद्रे को भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन) के रूप में तथा मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (माइंस एवं रावघाट) तपन सूत्रधार को बीएसपी के कार्यपालक निदेशक (माइंस) के रूप में पदोन्नत किया गया है। बोकारो इस्पात संयंत्र के मुख्य महाप्रबंधक (मेंटेनेंस) एस मुखोपाध्याय को भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्यपालक निदेशक (परियोजना) के रूप में भिलाई में स्थानांतरित किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें: राउरकेला स्टील प्लांट के मंच पर बीएसपी के कलाकारों ने जगजीत सिंह, सलमा आगा, किशोर और लता मंगेशकर की आवाज को किया जिंदा, अलॉय ने सात चक्र और दुर्गापुर ने दिखाई बंगाली संस्कृति

इस अवसर पर संयंत्र के निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता ने इन पदों के लिए योग्य नव-पदोन्नत कार्यपालक निदेशकों को बधाई दी। दासगुप्ता ने नव पदोन्नत अधिकारियों के प्रति विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि आप सभी को नयी जिम्मेदारियों का उसी प्रतिबद्धता के साथ बेहतर निर्वहन करते हुए संयंत्र और सेल को आगे ले जाना है। दासगुप्ता ने नव पदोन्नत कार्यपालक निदेशकों को पदोन्नति आदेश सौंपे। एमएम गद्रे कार्यालयीन कार्य से दौरे में होने के कारण उनका पदोन्नति आदेश उनकी पत्नी को प्रदान किया गया। इस अवसर पर श्रीमती पंडा भी उपस्थित थीं।

ये खबर भी पढ़ें:कब्जेदारों ने बीएसपी के 2 गार्ड पर किया जानलेवा हमला, धक्का-मुक्की में लगी दोनों पक्ष को चोट, भट्‌ठी थाने में अधिकारी-कर्मचारी को सुननी पड़ी गाली

अशोक पंडा का कॅरियर 1992 में राउरकेला से शुरू हुआ

डॉ. अशोक पंडा 1992 में सेल के राउरकेला इस्पात संयंत्र से कार्यसेवा प्रारंभ की थी। उन्होंने 1992 से 2018 तक आरएसपी के लिए विभिन्न विभागों जैसे टीएंडडी सेंटर, सीपीपी 1, कार्मिक, वित्त एवं लेखा तथा निदेशक प्रभारी सचिवालय में अपनी सेवाएं प्रदान की हैं। 2018 में महाप्रबंधक के रूप में पदोन्नत होकर वित्त विभाग के कॉर्पोरेट कार्यालय में स्थानांतरित हुए। वह जुलाई 2021 से बीएसपी के मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (वित्त एवं लेखा) के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

ये खबर भी पढ़ें:सेल कर्मचारियों को 60 नहीं 45 ग्राम मिलेगा तनिष्क का चांदी सिक्का

बीएल चांदवानी प्लांट से माइंस तक रहे सक्रिय

बीएल चांदवानी 1989 में मैनेजमेंट ट्रेनी (टेक्नीकल) के रूप में सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र में शामिल हुए। उन्होंने सीओ एंड सीसीडी, एसएमएस-1, आयरन ओर कॉम्पलेक्स, ब्लास्ट फर्नेस-मैकेनिकल विभाग में अपनी सेवाएं दी। उन्हें 2018 में महाप्रबंधक के रूप में पदोन्नत कर, बीएसपी के ओर हैंडलिंग प्लांट में स्थानांतरित कर दिया गया। वह अब तक मुख्य महाप्रबंधक (ओएचपी) के रूप में कार्यरत थे।

ये खबर भी पढ़ें:SAIL ED: बोकारो स्टील प्लांट ने नारी शक्ति को किया आगे, सेल ईडी का प्रमाण पत्र पत्नियों को सौंपा, देखें फोटो

के. भट्‌टाचार्जी का कॅरियर बोकारो से हुआ शुरू

ईडी के. भट्टाचार्जी, 1988 में बोकारो इस्पात संयंत्र में मैनेजमेंट ट्रेनी (टेक्नीकल) के रूप में सेल में शामिल हुए। फिर उनका स्थानांतरण दुर्गापुर इस्पात संयंत्र में किया गया, जहां उन्होंने बीबीएम, बीओएफ एंड सीसीपी और स्टील मेल्टिंग शॉप विभागों में अपनी सेवाएं दी। उन्हें 2018 में महाप्रबंधक के रूप में पदोन्नत कर भिलाई इस्पात संयंत्र में स्थानांतरित कर दिया गया। सितंबर 2019 में वे मुख्य महाप्रबंधक (एसएमएस-3) पद पर पदोन्नत हुए और तब से इसी पद पर वे अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई स्टील प्लांट के कर्मचारी प्रबंधन से परेशान, सांसद से की पहल की मांग, प्लांट का दौरा करेंगे विजय बघेल

एमएम गद्रे को 1984 से प्लेट मिल व रेल मिल का अनुभव

एमएम गद्रे, 1984 में सेल-बीएसपी में शामिल हुए। उन्हें 2 दशकों तक प्लेट मिल में कार्य करने का लंबा अनुभव है। संयंत्र के प्रोजेक्ट्स, व यूनिवर्सल रेल मिल विभाग में काम करते हुए 2018 में महाप्रबंधक (प्लेट मिल) के रूप में पदोन्नत हुए। सितंबर 2019 में उन्हें मुख्य महाप्रबंधक (आरएसएम, आरटीएस और आरपीडीबी) के पद पर पदोन्नत किया गया। जनवरी, 2022 से मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (मिल्स) के रूप में फिनिशिंग मिल का प्रभार दिया गया।

ये खबर भी पढ़ें:बीएसपी के नए ईडी पीएंडए के नाम है कीर्तिमानों की फेहरिस्त, रेल मिल और प्लेट मिल गवाह

तपन सूत्रधार की सेवा माइंस से शुरू हुआ और ईडी माइंस तक पहुंचे

ईडी माइंस तपन सूत्रधार, 1986 में सेल-बीएसपी में शामिल हुए। उन्होंने दल्ली-राजहरा सहित माइन्स विभाग में कार्य करते हुए जून, 2018 में महाप्रबंधक (माइन्स एवं आईओसी) का प्रभार दिया गया। वह जनवरी 2021 से मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (माइंस एवं रावघाट) के रूप में कार्यरत हैं।

ये खबर भी पढ़ें:सेल प्रबंधन ने कर ली बहुत ढिलाई, कर्मचारी बोले-बकाया एरियर, इंसेंटिव और पदनाम से करें भलाई, कल सड़क पर उतरेंगे कर्मी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!