बीएसपी के पांच सीजीएम बने ईडी, छह महीने के लिए तपन सूत्रधार है ईडी माइंस, फिर होगी नए की तलाश, नए ईडी पीएंडए गद्रे की चुनौतियां बढ़ी

बीएसपी के एसएमएस-3 के सीजीएम किंशुक भट्‌टाचार्जी को दुर्गापुर स्टील प्लांट का ईडी एमएम चुना गया है। बीएसपी के सीजीएम इंचार्ज मिल्स एमएम गद्रे को बीएसपी का ईडी पीएंडए बनाया गया है।

अज़मत अली, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट के पांच सीजीएम व सीजीएम इंचार्ज ईडी बन गए। बधाइयों का तांता लगा हुआ है। समर्थकों के चेहरे खिल उठे। वर्क्स और नॉन वर्क्स से भरपूर प्रतिनिधित्व का मौका मिल गया। वहीं, ईडी माइंस के लिए सीजीएम तपन सूत्रधार को चुना गया है। इनका रिटायरमेंट दिसंबर में है। बावजूद, सेल प्रबंधन ने इन्हें ईडी बनाया है। छह महीने तक इनके अनुभवों का लाभ लेने के मकसद से ऐसा किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें:  विश्वेश्वरैया स्टील प्लांट को चार-चांद लगाने ईडी बीएल चांदवानी आए सामने, बीएसपी के सीजीएम से ईडी बने चांदवानी का पढ़ें पहला इंटरव्यू

राजहरा से लेकर भिलाई तक सक्रियता दिखाने वाले तपन सूत्रधार के बारे में बताया जा रहा है कि अगर, इनका चयन नहीं होता तो शायद इनके साथ नाइंसाफी होती। संकट के दौर में अकेले मोर्चा संभाला और करीब माह तक कार्यवाहक ईडी का भी कार्यभार संभाले थे। जबकि इंटरव्यू में माइंस से तपन सूत्रधार के अलावा समीर स्वरूप भी शामिल हुए थे, लेकिन मौका तपन को ही मिला।

ये खबर भी पढ़ें:  SAIL ED Interview: बीएसपी, राउरकेला, इस्को बर्नपुर, दुर्गापुर, अलॉय, सेलम, बोकारो, विश्वेश्वरैया और कारपोरेट आफिस को मिला ईडी का तोहफा, जानिए नाम, बोकारो में ईडी वर्क्स का पद रिक्त

बीएसपी के सीजीएम इंचार्ज फाइनेंस डाक्टर अशोक कुमार पंडा की जिम्मेदारी बढ़ गई है। लंबे समय से फाइनेंस का लेखा-जोखा संभालने वाले एके पंडा बतौर ईडी कामकाज संभालेंगे। बीएसपी के सीजीएम ओएचपी बीएल चंदवानी को विश्वेश्वरैया स्टील प्लांट का ईडी बनाया गया है। बीएसपी के एसएमएस-3 के सीजीएम किंशुक भट्‌टाचार्जी को दुर्गापुर स्टील प्लांट का ईडी एमएम चुना गया है। बीएसपी के सीजीएम इंचार्ज मिल्स एमएम गद्रे को बीएसपी का ईडी पीएंडए बनाया गया है।

ये खबर भी पढ़ें: कब्जेदारों को उखाड़ फेंकने बीएसपी करता रहा सुबह का इंतजार, साढ़े 5 बजे किया प्रहार, सुपेला रेलवे फाटक तक 70 दुकानें ध्वस्त

ईडी पीएंडए बनने के बाद एमएम गद्रे की चुनौतियां बढ़ चुकी है। बीएसपी के रेल मिल के अलावा प्लेट मिल, मर्चेंट मिल, वायर रॉड मिल का अतिरिक्त कार्यभार संभालने वाले गद्रे को अब कर्मचारियों से जुड़े विषयों पर सीधेतौर सामना करना है। एक तरफ जहां टाउनशिप पर बहुत काम करने की आवश्यकता है। वहीं, दूसरी तरफ हॉस्पिटल को भी संभालना है। कोरोना काल के बाद मेडिकल की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए बेहतर काम करने की जरूरत है।

ये खबर भी पढ़ें:  SAIL कर्मचारियों का ट्रेनिंग पीरियड 2003 से सर्विस में जोड़ने जा रहा प्रबंधन, किसी भी दिन जारी होगा सर्कुलर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!