भिलाई टाउनशिप में शुद्ध पानी के लिए तीन साल में बदल गई 21 किलोमीटर की पाइपलाइन, 1500 लीकेज सुधरे, आप भी भेजिए पानी का सैंपल

पानी के रैंडम सैंपल लिए जा रहे हैं। जनवरी में 49, फरवरी में 102, मार्च में 101 और अप्रैल में 58 सैंपल लिए गए।


सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई टाउनशिप में शुद्ध पानी सप्लाई के लिए नगर सेवाएं विभाग ने पूरी ताकत झोंक दी है। हर सेक्टर के मेंटनेंस आफिस में सबको अलर्ट कर दिया गया है। टाउनशिपवासियों से अपील की गई है कि वे गंदे पानी की शिकायत में कोताही न बरतें। अपने-अपने सेक्टर के मेंटेनेंस आफिस में जरूर जानकारी दें। इसके अलावा विभागीय टीम हर सेक्टर में दौरा कर रही है। रैंडम सैंपल लिए जा रहे हैं।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई स्टील प्लांट के पास इन विभागों के कार्मिकों की आवाजाही की होगी कुंडली, कल से बायोमेट्रिक रीडर मशीन से अटेंडेंस

विभाग का कहना है कि शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए जनवरी से अब तक सभी 29 ओवर हेड टैंक के अलावा रिजर्व वायर की सफाई की गई है ताकि कहीं कोई गंदगी न रहने पाए। इस सिलसिले को जारी रखा गया है। बारी-बारी से सभी टैंकों की सफाई की जा रही है। जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के मुताबिक जनवरी से नौ मार्च तक 29 ओवर हेड टैंक, 8 रिजर्व वायर की पूरी तरह से सफाई की गई है। इसी तरह सप्लाई लाइन का नियमित निरीक्षण किया जा रहा है। लीकेज की जांच की जा रही है। जहां-जहां खामियां मिल रही है, उसकी मरम्मत की जा रही है ताकि पानी दूषित न होने पाए।

ये खबर भी पढ़ें: इस्को-दुर्गापुर स्टील प्लांट के डायरेक्टर इंचार्ज के बेटे से पुलिस पूछती रही घर से क्यों भागे, एक ही जवाब-सिर्फ बाप से करूंगा बात

वहीं, जांच के दौरान वाटर सप्लाई लाइन को पूरी तरह से क्लियर रखा जा रहा है। पानी के रैंडम सैंपल लिए जा रहे हैं। जनवरी में 49, फरवरी में 102, मार्च में 101 और अप्रैल में 58 सैंपल लिए गए। छोटे-बड़े लीकेज की शिकायत मिलते ही तत्काल एक्शन लिया जा रहा है।

खराब पानी पाइपलाइन को बदलने पर फोकस है। पिछले तीन साल की बात की जाए तो करीब 21 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन को बदला जा चुका है। लीकेज की 1500 शिकायत मिलने पर पाइपलाइन की मरम्मत की गई है।

ये खबर भी पढ़ें: सेल का कर्मचारी गांव से घर लौटा तो पत्नी के साथ कमरे में मिला कोई और, मारपीट में कर्मी जख्मी, किसी तरह बची जान, अस्पताल में भर्ती

जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग का कहना है कि वर्तमान में रा-वाटर महानदी-MRP से मिल रहा है। किन्तु उसकी मात्रा कम है। जल शोधन संयंत्र के द्वारा मानक गुणवत्ता के अनुकूल शोधित जल जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को उपलब्ध करा रहा है। जल शोधन संयंत्र में जल शोधन का कार्य निर्धारित मानकों के तहत विभिन्न नियमों एवं प्रक्रियाओं से नियंत्रित होने के पश्चात ही सुरक्षित पेयजल की आपूर्ति की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!