भिलाई टाउनशिप में बार-बार बिजली गुल होना विद्यार्थियों के लिए बना जी का जंजाल, ऑनलाइन एग्जाम से टूटा संपर्क

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई टाउनशिप में कभी भी बिजली गुल होना, अब आम बात हो गई है। यह बिजली गुल की समस्या विद्यार्थियों के लिए अब बड़ी मुसीबत बनती जा रही है। विद्यार्थी ऑनलाइन में सामान्य क्लास अथवा परीक्षा दे रहे होते हैं, तभी बिजली गुल हो जाने से वाईफाई बंद हो जाता है। इसी के साथ ही ऑनलाइन क्लास अथवा परीक्षा के साथ संपर्क टूट जा रहा है। सेक्टर-5 में बिजली गुल होने की समस्या से त्रस्त विद्यार्थियों का गुस्सा सातवें आसमान पर है। सोमवार को भी कुछ ऐसा ही हुआ है। चेन्नई सहित दूसरे राज्यों के इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र भिलाई में बैठकर ऑनलाइन एग्जाम दे रहे थे, तभी बिजली गुल हो गई। इंजीनियरिंग छात्रों के होश उड़ गए। आनन-फानन में वैकल्पिक व्यवस्था करके लैपटॉप को ऑन रखा गया। इसी तरह कइयों का संपर्क ही टूटा रहा।
स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की छात्र नेत्रा अर्चना ध्रुव ने सूचनाजी.कॉम से कहा कि कोरोना का तीसरा वेव आकर गुजर जाने के बाद कुछ जगह पर ऑफलाइन क्लासेस शुरू किया गया है। किंतु अभी भी कई बड़ी संस्थाएं इस सत्र में ऑनलाइन पढ़ाई एवं ऑनलाइन एग्जाम ले रही हैं। ऐसे में पढ़ाई के वक्त बिजली का गुण हो जाना विद्यार्थियों के लिए जी का जंजाल बना हुआ है।

पर्याप्त नहीं होता है मोबाइल डाटा


छात्र नेता जयराज कहते हैं कि ऑनलाइन क्लास वाले विद्यार्थी घर में वाईफाई होने के बावजूद एक माह से लेकर 3 माह तक 1 से 2GB प्रतिदिन डाटा के साथ मोबाइल रिचार्ज करवा कर बैकअप प्लान रखते हैं। 2 से 3 घंटा बिजली गुल होने पर विद्यार्थी मोबाइल डाटा से काम चलाने लगते हैं, किंतु कई तरह के वीडियो एवं अन्य फाइल्स पर काम करने के चलते धीरे-धीरे करके मोबाइल डाटा खत्म होने लगता है। नेट स्लो होकर अक्सर ऑनलाइन क्लास अथवा परीक्षा से संपर्क टूट जाता है, विद्यार्थियों को इस परिस्थितियों से बचाने के लिए बीएसपी प्रबंधन को भी उचित कदम उठाना चाहिए।

स्पष्ट दिखता है योजना का अभाव


अर्चना ध्रुव ने कहा कि रविवार को स्कूल-कॉलेजों के लिए छुट्टी का दिन था। इस दिन भी बिजली विभाग ने कुछ काम किया एवं बचे हुए काम को भी उसी दिन अंजाम देकर सोमवार से शनिवार तक सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक अर्थात ऑनलाइन क्लास के समय बिजली सप्लाई को सुचारू रूप से जारी रखा जा सकता था। बिजली विभाग के कुछ लोगों से बात करने पर यह बात पता चली कि रविवार के किए हुए काम को रविवार के दिन ही पूरा तरीके दुरुस्त करने के बजाय सोमवार को 1 दिन के लिए पेंडिंग छोड़ देना ही सोमवार को ऑनलाइन क्लास अथवा परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों के लिए मुश्किल का कारण बना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!