सीआइएसएफ में भर्ती कराने के नाम पर ठगी करने वाला गैंग धराया, 6 गिरफ्तार

आरोपित आरक्षक जीडी परीक्षा में आवेदक के स्थान पर स्वयं उपस्थित होकर घटना को अंजाम देते थे। भर्ती के विभिन्न पायदानों में अलग-अलग लोगों को खड़ा कर करते थे धोखाधड़ी।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। फर्जी दस्तावेज के सहारे केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल-सीआइएसएफ भर्ती के नाम पर ठगी करने वाले दबोच लिए गए हैं। गैंग पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। मास्टर माइंस सहित छह आरोपित गिरफ्तार कर लिए गए हैं। उतई पुलिस ने सरगना सहित छह आरोपितों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से फर्जी आधार कार्ड और भर्ती से संबंधित फर्जी दस्तावेज और नकदी बरामद किया है।

आरोपित आरक्षक जीडी परीक्षा में आवेदक के स्थान पर स्वयं उपस्थित होकर घटना को अंजाम देते थे। भर्ती के विभिन्न पायदानों में अलग-अलग लोगों को खड़ा कर करते थे धोखाधड़ी।

आरोपित आरक्षक जीडी परीक्षा में आवेदक के स्थान पर स्वयं उपस्थित होकर घटना को अंजाम देते थे। भर्ती के विभिन्न पायदानों में अलग-अलग लोगों को खड़ा कर करते थे धोखाधड़ी। आरोपितों के कब्जे से फर्जी आधार एवं भर्ती से संबंधित फर्जी दस्तावेज एवं नकदी बरामद कर लिए गए हैं। आरोपितों ने स्वयं को छत्तीसगढ़ का निवासी बताने के लिए फर्जी आधार कार्ड व स्थायी निवासी प्रमाण पत्र बनवाया था।

ये खबर भी पढ़ें:Recruitment Drive-2022: बोकारो स्टील प्लांट ने पहले कराया आईटीआई, अब बजाज, टाटा, टीवीएस सहित इन कंपनियों में मिलेगा जॉब

पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने पूरे प्रकरण की जानकारी मीडिया से साझा की। उन्होंने बताया कि 18 मई को प्रार्थी लोकेश कुमार कुर्रे ने उतई थाना में शिकायत दर्ज कराई थी। उसने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल आरटीसी भिलाई में भर्ती बोर्ड आरक्षक जीडी 2021 की परीक्षा थी। 18 मई को टेस्ट के लिए रिपोर्ट किए गए अभ्यार्थीयों का बायोमेट्रिक्स टेस्ट हुआ था। इस दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल भोपाल द्वारा उपलब्ध कराए गए फिंगर प्रिंट और फोटो का मिलान नहीं हो पाया। पता चला कि भर्ती बोर्ड को धोखा देकर प्रार्थी को चयन प्रक्रिया में शामिल कराया गया था। इसके लिए कुछ लोगों ने उससे पांच लाख रुपये लिए थे।

ये खबर भी पढ़ें:सेक्टर-9 हॉस्पिटल में 15 और डाक्टरों की होगी भर्ती, ऑनलाइन होगी मेडिकल रिपोर्ट और प्रतिपूर्ति का भुगतान भी

यूपी और एमपी के हैं आरोपित

उतई पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ धारा 419, 420, 467, 468, 120 बी के तहत अपराध दर्ज किया है। आरोपितों में चन्द्रशेखर सिंह (20) निवासी गणेश कालोनी आगरा थाना ताज गंज, वीर निषाद (20) निवासी उमरायपुरा थाना पिठोरा जिला आगरा, महेन्द्र सिंह (19) निवासी ग्राम-रामपुर थाना निवोहरा जिला आगरा, अजीत सिंह (19) निवासी ग्राम-एतमापुर अजनेरा थाना समसाबाद जिला आगरा,दुर्गेश सिंह(31) निवासी खान्द कपरा थाना अम्बा जिला मुरैना (म.प्र) व हरिओम (25) निवासी रामनरी थाना फिडोरा जिला आगरा को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई।

Rourkela Steel Plant: खेल की पाठशाला में निखार रहे एक-एक बच्चे को, भारतीय हॉकी टीम में शामिल होने का चढ़ा जुनून

जानिए खुलासा करने वालों के नाम

समस्त कार्यवाही में एसडीओपी देवांश सिंह राठौर, थाना प्रभारी निरीक्षक नवी मोनिका पाण्डेय, उपनिरीक्षक केएल गौर, सउनि राजकुमार देशमुख, चंद्रशेखर सोनी, आरक्षक सुरेन्द्र सिंह चौहान, आकाश तिवारी, महेश देवांगन, दुष्यंत लहरे, मुकेश यादव, अमर नायक, विजय कुर्रे का सराहनीय योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!