सेक्टर-9 अस्पताल में बीएसपी कर्मी के बेटे के गले में टूटा शीशे का इंस्ट्रूमेंट, पेट से निकाला बाहर

0
sector 9 hospital
भिलाई स्टील प्लांट के ईआरएस के कर्मचारी का 22 वर्षीय पुत्र तुषार को गले में इंफेक्शन है। इसका इलाज सेक्टर-9 अस्पताल में चल रहा है।
AD DESCRIPTION

-सेक्टर-9 अस्पताल में शुक्रवार सुबह का मामला।
-ईएनटी के डाक्टर अश्विन और डाक्टर गिरीश की टीम रही मौजूद।
-तुषार की जांच के लिए एक इंस्ट्रूमेंट गले में डाला गया था।
-डाक्टरों ने सक्रियता दिखाई। एक्स-रे, एंडोस्कोपी के बाद मिली कामयाबी।
-करीब घंटे तक पेट में पड़ा रहा टूटा हुआ इंस्ट्रूमेंट।
-चार घंटे तक ऑब्जर्वेशन में रखा गया था। सोमवार को फिर बुलाया गया है।

अज़मत अली, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट के जवाहर लाल नेहरू अनुसंधान एवं चिकित्सालय सेक्टर-9 से अच्छी खबर नहीं आ रही है। गले की जांच के दौरान शीशे का इंस्ट्रूमेंट टूट गया, जिसे मरीज गटक गया। करीब 5 एमएम साइज का टुकड़ा पेट में जाते ही हड़कंप मच गया। डाक्टरों के होश उड़ गए। मरीज भी बेचैन हो गया।

डाक्टरों ने सक्रियता दिखाते हुए एक घंटे के भीतर ही शीशे के टुकड़े को एंडोस्कोपी करके बाहर निकाल लिया। इससे के बाद मरीज को करीब चार घंटे तक आब्जर्वेशन में रखा गया। शाम को छुट्‌टी दे दी गई है। चिकित्सक मरीज के संपर्क में बने हुए हैं। सोमवार को दोबारा जांच-पड़ताल की जाएगी।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

भिलाई स्टील प्लांट के ईआरएस के कर्मचारी का 22 वर्षीय पुत्र तुषार को गले में इंफेक्शन है। इसका इलाज सेक्टर-9 अस्पताल में चल रहा है। वह जांच कराने के लिए शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे पहुंचा। ईएनटी के डाक्टर अश्विन और डाक्टर गिरीश की बारी थी।

तुषार की जांच के लिए एक इंस्ट्रूमेंट गले में डाला गया। जीभ को दबाकर जांच की जा रही थी, तभी वह टूट गया। जीभ दबी हुई थी। इसलिए टूटा हुआ टुकड़ा तुषार गटक गया। यह देखते ही हड़कंप मच गया।

तुषार ने सूचनाजी.कॉम को बताया कि गले में जांच के दौरान ही अनहोनी हो गई। गनीमत था कि डाक्टरों ने सक्रियता दिखाई। पहले एक्स-रे किया गया और फिर एंडोस्कोपी। करीब घंटे के भीतर ही टूटे हुए टुकड़े को बाहर निकाला लिया गया। डाक्टरों ने पूरी कोशिश की, जिसकी वजह से मेरी जान बच सकी। चार घंटे तक ऑब्जर्वेशन में रखा गया था। सोमवार को फिर बुलाया गया है।

प्रगति नगर निवासी बीएसपी कर्मी के परिवार में हर कोई इस वाक्या से हैरान है। बताया जा रहा है कि एंडोस्कोपी के जरिए इसे बाहर निकालते वक्त टुकड़ा फेफड़े में फंस गया था। काफी देर तक मशक्कत के बाद कामयाबी मिली। टुकड़े की साइज 5 एमएम के सर्कल में बताई जा रही है। इधर-इस बाबत बीएसपी जनसंपर्क विभाग के महाप्रबंधक का पक्ष भी आया है।

पढ़ें-बीएसपी प्रबंधन का पक्ष

बीएसपी के जनसंपर्क विभाग का कहना है कि सेक्टर-9 अस्पताल में ईएनटी विभाग में एक बालक की मिरर जांच की जा रही थी। इस दौरान गैग रिफ्लक्स के कारण अचानक मिरर टूट कर लड़के के मुंह में गिर गया। बच्चे के गटकने से मिरर लड़के के पेट में चला गया। डॉक्टरों ने त्वरित कार्रवाई करते हुए एक्स-रे करवाया,जिससे मिरर की वास्तविक स्थिति का पता लगाया जा सका। तत्पश्चात इसे निकालने हेतु तत्काल प्रयास प्रारंभ करते हुए लड़के की एंडोस्कोपी कर मिरर को सुरक्षित रूप से निकाल लिया गया। वर्तमान में बच्चे की स्थिति सामान्य है।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here