बीएसपी की 18 करोड़ की जमीन पर चल रहा था अवैध लोहा कारखाना, 18 साल बाद अब सील

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट की जमीन पर कब्जेदारों के तांडव पर अब नकेल कसी जा रही है। खुर्सीपार जोन-2 हाई-वे स्थित बीएसपी की 18 करोड़ की जमीन पर पिछले 18 साल से अवैध लोहा कारखाना संचालित किया जा रहा था, जिस पर अब कार्रवाई की गई है। बीएसपी के इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट की टीम ने कारखाना को सील कर दिया है। 18 साल बाद हुई कार्रवाई से बीएसपी प्रबंधन उत्साहित है। साथ ही कब्जेदारों को यह संदेश भी दे दिया है कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा।

Exclusive News: सेल चेयरमैन सोमा मंडल और डायरेक्टर इंचार्ज अनिर्बान दासगुप्ता को नहीं मिला पीआरपी, बोकारो के अमरेंदु प्रकाश व दुर्गापुर के बीपी सिंह को मिली कम राशि

कब्जेदारों के खिलाफ लगातार चलाए जा रहे अभियान के तहत भिलाई इस्पात संयंत्र के प्रवर्तन अनुभाग द्वारा एक और बहुत बड़ी कार्रवाई सोमवार को की गई। खुर्सीपार के जोन-2 के राष्ट्रीय राजमार्ग जीई रोड में विगत 18 वर्षों से अवैध रूप से काबिज लोहा कारोबारी को बेदख़ल किया गया।

संपदा न्यायालय ने 2004 में बेदखली का आदेश दिया था। इसके अनुपालन में प्रवर्तन अनुभाग तथा भूमि अनुभाग की टीम द्वारा लगभग 9000 स्क्वायर फ़ीट को सील कर संपदा न्यालय को सौंप दिया गया है। बीएसपी भूमि की डिक्री 2004 में पारित हुई थी। भूमि की मार्केट वैल्यू लगभग अठारह करोड़ रुपये आंकी गई है।

सेल के स्पोर्ट्स समर कैंप से हजारों को मिली नौकरी, क्रिकेटर राजेश चौहान, अमनदीप खरे व ओलंपियन राजेंद्र प्रसाद भी कैंप की उपज

इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट का कहना है कि प्रवर्तन विभाग द्वारा कुछ दिन पूर्व खुर्सीपार में ही 21000 स्क्वायर फ़ीट भूमि को पारित डिक्री के आधार पर सील किया गया था। प्रवर्तन अनुभाग द्वारा अवैध कब्जेदारों के विरुद्ध अभियान जारी रहेगा। इस अभियान से भू-माफियाओं, कब्जेदारों और दलालों में हड़कंप मचा हुआ है। कब्जेदारों और अवैध उगाही करने वाले दलालों के विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही तथा लगातार एफआइआर की कार्रवाई जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!