मेडिकल, टाउनशिप, फायर ब्रिगेड और शिक्षा विभाग में लागू करें नई प्रमोशन पॉलिसी, इंटक बोला-जहां पॉलिसी लागू वहां कर्मियों को हो रहा फायदा

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील इम्प्लाइज यूनियन इंटक के कार्यकारिणी की बैठक यूनियन कार्यालय में रविवार को हुई। आईडी एक्ट के तहत आगामी चुनाव की तैयारी के विषय पर चर्चा की गई। साथ ही प्रमोशन पॉलिसी को लेकर भी चर्चा की गई। यूनियनों के विरोध पर कटाक्ष किया गया। इसे चुनावी सोच करार दी गई।

उप महासचिव अनिमेष पसीने ने कहा कि मेडिकल विभाग एवं टाउनशिप, फायर ब्रिगेड एवं शिक्षा विभाग में तकनीकी पदों के अनुसार जल्द नान एग्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी लागू किया जाए। 36 विभागों में जहां पर नॉन एक्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी लागू की गई है। वहां के कर्मचारियों को जल्द पदोन्नति का लाभ मिल रहा है। रुके हुए प्रमोशन को चालू किया गया है। उप महासचिव विपिन बिहारी मिश्रा ने कहा कुछ यूनियन चुनाव को देखते हुए अपनी विपक्षी भूमिका अदा करने के लिए एनईपीपी का विरोध कर रहे हैं।

उप महासचिव पी. राव ने कहा की एनईपीपी संयंत्र के एसएमएस-3,ब्लास्ट फर्नेस, ओएचपी, सिंटरिंग प्लांट -2, यूआरएम, बीआरएम, मैकेनिकल जोन, इलेक्ट्रिकल जोन एवं सर्विसेस जोन जैसे विभागों में लागू की गई है। वहां के कर्मचारियों को पदोन्नति में अच्छा लाभ मिला है। कुछ यूनियनें चुनाव को देखते हुए पूरी जानकारी नहीं होने के कारण इसका विरोध कर रही हैं। जबकि डीपीसी के पूर्व वरिष्ठता सूची प्रकाशित कर सबको सूचित किया जाता है।

इसके बाद डीपीसी की जाती है और सभी को उनके ग्रेड के अनुसार से पदोन्नत किया जाता है, जो यूनियन इसका विरोध कर रही है। वह जहां पर एनईपीपी लागू हुआ है। वहां के कर्मचारी से पूछे कि इसमें नुकसान क्या है।

गुरुदेव ने कहा-25 साल बाद अब प्रमोशन मिलेगा

सचिव गुरुदेव साहू ने कहा कि मैं कोक ओवन में एस-10 ग्रेड के बाद भी ऑपरेटर पद पर हूं, लेकिन एनपीपी लागू होने से मेरा पदोन्नत होकर पदनाम मास्टर ऑपरेटर हो जाएगा। 25 साल नौकरी करने के उपरांत अभी तक मुझे कोई पदोन्नति नहीं मिली है। एनीपीपी लागू होने से कोक ओवन के अधिकतर लोगों का पदोन्नति हो जाएगा।
अतिरिक्त महासचिव संजय साहू ने कहा विपक्ष से प्रशंसा की उम्मीद नहीं की जा सकती। इसलिए चाहे वेतन समझौता हो या नान फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम, या नान एग्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी। अच्छा होने के उपरांत भी अन्य यूनियनें इसका विरोध कर रही है, जो यूनियन कर्मचारी हित में कुछ कार्य नहीं कर सकती। वह सिर्फ अच्छे कार्यों का विरोध करती है।

इंटक महासचिव ने गिनाई उपलब्धियां

-महासचिव एसके बघेल ने कहा कि इंटक यूनियन के 2 साल की मान्यता काल में 2 साल कोविड-19 संक्रमण का रहा। इसके बाद भी कर्मचारियों के हित में अनेक कार्य किए गए। वेतन समझौता कराया गया। पर्क्स चालू किया गया। ओपन एंडेड पे स्केल बनवाया गया। ईएल इनकैशमेंट चालू कराया गया। सेल पेंशन स्कीम लागू कराई गई।
-महासचिव ने उपलब्धि गिनाते हुए कहा कि बीएसपी के कर्मचारियों के लिए 50 लाख का दुर्घटना बीमा कराया गया है। स्वर्ग रथ की जगह 5 हजार रुपया भुगतान की व्यवस्था कराई गई। टाउनशिप के बड़े आवासों को डी-ग्रेड कराया गया, जिससे कि नए कर्मचारियों को बड़ा आवास मिल सके। आवास आवंटन में सब्जेक्ट टू वेकेशन प्रक्रिया चालू की गई। 400 स्क्वायर फीट तक के आवास को लाइसेंस स्कीम के तहत दिलाया गया।
-कोविड-19 के संक्रमण में बीमार कर्मचारियों एवं उनके परिजनों के लिए प्राइवेट अस्पताल में उपचार की व्यवस्था की गई। एनआरसी के तहत उपचार कराए गए मरीजों के बिलों का भुगतान कराया गया। कर्मचारियों का लंबे समय से रुके हुए पदोन्नति को चालू कराने के लिए एवं जल्द पदोन्नति के लिए नया प्रमोशन पॉलिसी लागू की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!