बीएसपी हादसे में 85% झुलसे मजदूर के दोनों पैर-हाथ की सड़ी और जली स्किन का हुआ ऑपरेशन, मरीज को चाहिए खून, कीजिए रक्तदान

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट के एसजीपी में धमाका और आग से 85% झुलसे ठेका मजदूर परमेश्वर सिक्का की हालत नाजुक बनी हुई है। एक जून को हुए हादसे में एक मजदूर की मौत हो गई थी, जबकि परमेश्वर की जान बच गई। लेकिन 85 प्रतिशत जलने की वजह से सेहत में तेजी से सुधार नहीं हो पा रहा है। जली और सड़ी स्किन का ऑपरेशन शनिवार को किया गया। दोनों पैर का ऑपरेशन करके इंफेक्शन को फैलने से रोकने की कोशिश की गई ताकि जख्म तेजी से भर सके।

ये खबर भी पढ़ें:बीएसपी के एक ईडी, 2 सीजीएम, 8 जीएम संग 31 अधिकारी होंगे इसी माह रिटायर, जानिए सबके नाम

जटिल ऑपरेशन के दौरान खून की आवश्यक पड़ी। बीएसपी के कुछ कर्मचारी आगे आए और सोशल मीडिया पर रक्तदान करने की अपील शुरू की। आप भी रक्तदान कर ठेका मजदूर की जिंदगी को बचा सकते हैं। ऑपरेशन के दौरान ही 13 यूनिट ए-पॉजिटिव और 17 यूनिट एफएफपी और प्लेटलेट्स की आवश्यकता थी। बताया जा रहा है कि दस यूनिट ब्लड चढ़ चुका है। अगर, आप रक्तदान करना चाहते हैं तो सेक्टर-9 हॉस्पिटल के ब्लड बैंक से संपर्क कर सकते हैं। ठेका मजदूर का इलाज बर्न वार्ड में चल रहा है।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई स्टील प्लांट में हादसा रोकने सरकार का फरमान, मेंटेनेंस और ऑपरेशन में लगाएं सिर्फ स्किल्ड लेबर

जख्मी मजदूर परमेश्वर का छोटा भाई धरम ने सूचनाजी.कॉम को बताया कि सुबह दस बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक ऑपरेशन किया गया है। मंगलवार को बाएं हाथ का ऑपरेशन किया गया था। शनिवार को दोनों पैर की सड़ी और जली स्किन को ऑपरेशन करके निकाल दिया गया है। इस ऑपरेशन को डाक्टर उदय व उनकी टीम ने किया है। धरम के मुताबिक अस्पताल प्रशासन व बीएसपी पूरी मदद कर रहा है। इलाज को लेकर हर तरह की सहायता दी जा रही है।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई स्टील प्लांट हादसों की रिपोर्ट छत्तीसगढ़ सरकार ने बनवाई, पढ़ें हादसों के कारण…

बस, परमेश्वर जल्द से जल्द ठीक हो जाएं, यही ईश्वर से कामना है। बताया जा रहा है कि 85 प्रतिशत जलने की वजह से जख्म भरने में भी परेशानी हो रही है। इंफेक्शन को फैलने से रोकने के लिए पहले हैवी एंटीबायोटिक डोज दिया गया। इसके बाद सेहत में सुधार होते ही ऑपरेशन शुरू हुआ। मंगलवार को हाथ का ऑपरेशन किया गया था।

ये खबर भी पढ़ें:एसीसी-अंबूजा सीमेंट को टेकओवर करते छंटनी करने जा रहा अडानी ग्रुप!

ऑपरेशन के बाद होश आने में करीब तीन घंटे का समय लगता है। शरीर को खून की जरूरत है। जांघ के पास से स्किन को निकालकर ऑपरेशन वाले स्थान पर ड्राफ्टिंग की गई है। ताजा स्किन लगाने से जल्दी जख्म भरने की संभावना है। फिलहाल, हालत नाजुक बनी हुई है। खास यह कि डायरेक्टर अनिर्बान दासगुप्ता हर दिन इस मरीज का हालचाल लेने के लिए फोन करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!