भारतीय रेलवे ने सितंबर तक स्क्रैप की बिक्री से 2500 करोड़ रुपये से अधिक की आय अर्जित की

0
railway scrap
भारतीय रेलवे ने स्क्रैप का संग्रह करने और इसकी ई-नीलामी के जरिये बिक्री के माध्यम से संसाधनों के बेहतर उपयोग के लिए हर संभव प्रयास किये हैं
AD DESCRIPTION

सूचनाजी न्यूज,दिल्ली।भारतीय रेलवे ने वित्त वर्ष 2022-22 के पहले छह महीनों में स्क्रैप की उल्लेखनीय बिक्री दर्ज की है। इस बिक्री के जरिए भारतीय रेलवे ने सितंबर 2022 तक; पिछले वित्त वर्ष 2021-22 की इसी अवधि के 2003 करोड़ रुपये की तुलना में कुल 2582 करोड़ रुपये की आय अर्जित की है, जो 28.91 प्रतिशत अधिक है। वित्त वर्ष 2022-23 के लिए स्क्रैप की बिक्री से होने वाली आय का लक्ष्य 4400 करोड़ रुपये निर्धारित किया गया है।

ये खबर भी पढ़े …इस दिपावली सेल के अधिकारियों की झोली रहेगी खाली, नहीं मिलेगा एडवांस पीआरपी

ब्योरा

वित्त वर्ष 2021-22

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

(करोड़ रुपये में)

वित्त वर्ष 2022-23

(करोड़ रुपये में)

ये खबर भी पढ़े …SAIL Bonus Meeting Updates: सेल बोनस पर अब तक विवाद, पांच साल का फॉर्मूला आया सामने, लंच के बाद दोबारा होगी बैठक

लक्ष्य

4100

4400

ये खबर भी पढ़े …केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों से कोयला खदान की नीलामी, चौंसठ खानों की सफलतापूर्वक नीलामी हुई

सितंबर तक समानुपातिक लक्ष्य

1845

1980

ये खबर भी पढ़े …Share Market: शेयर मार्केट में Electronics Mart India लिस्टेड, दूसरे दिन भी धनवर्षा, कमाई का मौका…

सितंबर तक संचयी बिक्री

2003

2582

ये खबर भी पढ़े …सोशल मीडिया की अदालत में सेल बोनस पर बहस जारी, बोनस की रकम ₹…. पर फैसला 18 को

2021-22 के 3,60,732 मीट्रिक टन की तुलना में 2022-23 में 3,93,421 मीट्रिक टन लौह स्क्रैप का निपटान किया गया है। साथ ही 2022-23 में सितंबर, 2022 तक 1751 वैगनों, 1421 कोचों और 97 इंजनों का निपटान किया गया, जबकि 2021-22 में इसी अवधि के दौरान 1835 वैगनों, 954 कोचों और 77 इंजनों का निपटान किया गया था।

ये खबर भी पढ़े …बोकारो स्टील प्लांट में एयर टर्बो कंप्रेसर का उद्घाटन, इधर- बीएसएल में इन्वेंट्री चैम्पियन से कई सम्मानित

भारतीय रेलवे ने स्क्रैप का संग्रह करने और इसकी ई-नीलामी के जरिये बिक्री करने के माध्यम से संसाधनों के इष्टतम उपयोग के लिए हर संभव प्रयास किये हैं।

ये खबर भी पढ़े … सौ करोड़ से ज्यादा जमा कराया, लेकिन ब्याज एक रुपए न आया, आवास लाइसेंस और बिजली को लेकर बोकारो में प्रदर्शन

अनुपयोगी/स्क्रैप रेलवे सामग्री का जमा होना और इसकी बिक्री एक सतत प्रक्रिया है और इसकी निगरानी क्षेत्रीय रेलवे तथा रेलवे बोर्ड में उच्चतम स्तर पर की जाती है। निर्माण परियोजनाओं में, आम तौर पर गेज परिवर्तन परियोजनाओं से स्क्रैप पैदा होता है। स्क्रैप के लिए पेश की गयी सामग्री का रेल-मार्गों पर पुन: उपयोग नहीं किया जा सकता है। इनका निपटान रेलवे अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार किया जाता है।

ये खबर भी पढ़े … बोकारो स्टील प्लांट के नियमित कर्मचारियों व ठेका मजदूरों ने किया महाधरना, बोनस, एरियर पर दहाड़ा

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here