अंतरिक्ष और सूचना प्रौद्योगिकी में भारत की ताकत दिखेगी रॉकेट्रीः दी नाम्बी इफेक्ट में, एक जुलाई को दुनियाभर के थिएटर में होगी रिलीज

रॉकेट्रीः दी नाम्बी इफेक्ट’ फिल्म भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व वैज्ञानिक तथा एयरोस्पेस इंजीनियर नाम्बी नारायणन के जीवन पर आधारित ड्रामा-फिल्म है।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने नई दिल्ली के सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में जल्द आने वाली फिल्म ‘रॉकेट्रीः दी नाम्बी इफेक्ट’ की विशेष स्क्रीनिंग का आयोजन किया। फिल्म की स्क्रीनिंग में ‘रॉकेट्री’ के लेखक, निर्माता, निर्देशक आर. माधवन की अगुवाई में पूरी टीम ने हिस्सा लिया। माधवन ने फिल्म में मुख्य पात्र का अभिनय किया है और इस फिल्म के साथ उन्होंने निर्देशन भी पहली बार किया है।

स्क्रीनिंग में पूर्व सीबीआई निदेशक डीआर कार्तिकेयन, सीबीआई के पूर्व आईजी पीएम. नायर, भारत सरकार के वरिष्ठ अधिकारी और फिल्म उद्योग से जुड़े हितधारक सम्मिलित हुए। दर्शकों ने पटकथा, सम्पादन, अभिनय और नाम्बी नारायणन के प्रेरणास्पद जीवन के चित्रण के लिए फिल्म की भरपूर सराहना की। इस अवसर पर आर. माधवन ने कहा कि यह फिल्म अंतरिक्ष और सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की प्रौद्योगिकीय शक्ति का उत्सव है। यह फिल्म दिग्गज नाम्बी नारायणन का अभिनंदन करती है, जिनका ‘विकास’ इंजन कभी नाकाम नहीं हुआ। फिल्म मानव संसाधन विशेषज्ञता और वैज्ञानिक उत्कृष्टता के क्षेत्र में विश्व को भारत की सौम्य शक्ति का संदेश भी देती है।

रॉकेट्रीः दी नाम्बी इफेक्ट’ फिल्म भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व वैज्ञानिक तथा एयरोस्पेस इंजीनियर नाम्बी नारायणन के जीवन पर आधारित ड्रामा-फिल्म है, जिन पर 1994 में जासूसी का आरोप लगा था। ‘रॉकेट्रीः दी नाम्बी इफेक्ट’ फिल्म का वर्ल्ड प्रीमियर 75वें कान्‍स फिल्म महोत्सव के दौरान किया गया था। कान्‍स फिल्म महोत्सव में फिल्म को हाथों-हाथ लिया गया था।

इस अवसर पर सूचना एवं प्रसारण सचिव अपूर्व चतुर्वेदी ने कहा कि यह फिल्म न केवल दर्शकों को बांधे रखती है, बल्कि उनके हृदय को भी छूती है। उन्होंने कहा कि फिल्म में नाम्बी नारायणन सहित हजारों वैज्ञानिकों का अभिनंदन किया गया है, जिन्होंने भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिये अपना पूरा जीवन होम दिया। सीबीआई के पूर्व आईजी पीएम. नायर ने कहा कि फिल्म मनोरंजक, दिलचस्प और बहुत अर्थपूर्ण है। यह विज्ञान, प्रौद्योगिकी और भावनाओं का सटीक मिश्रण है। उन्होंने कहा कि फिल्म का केवल भारत में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में स्वागत किया जाएगा।

फिल्म की शूटिंग दुनिया के कई देशों में हुई, जिनमें भारत, जियॉर्जिया, रूस, सर्बिया और फ्रांस शामिल हैं। फिल्म को तमिल, हिन्दी और अंग्रेजी में एक साथ बनाया गया है। इसके अलावा तेलुगू, मलयालम और कन्नड़ भाषाओं में डब करके भी इसे रिलीज किया जाएगा। दुनिया भर के थियेटरों में फिल्म को एक जुलाई 2022 को रिलीज करना निर्धारित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!