इंटक का पलटवार, बीएसपी वर्कर्स यूनियन को बताया चुनावी मेंढक, कहा-बीडब्ल्यूयू नहीं चाहता कि कर्मचारियों को नॉन फाइनेंसियल मोटिवेशन स्क्रीम का गिफ्ट मिले


स्टील इम्प्लाइज यूनियन इंटक के कार्यालय में कार्यकारिणी की बैठक हुई, जिसमें भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों के मुद्दे पर चर्चा की गई।
सूचनाजी न्यूज, भिलाई। नॉन फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम के समारोह को लेकर इंटक और बीएसपी वर्कर्स यूनियन के बीच बयानबाजी थम नहीं रही है। बीएसपी वर्कर्स यूनियन के आरापों पर इंटक ने पलटवार किया है। स्टील इम्प्लाइज यूनियन इंटक के कार्यालय में कार्यकारिणी की बैठक हुई, जिसमें भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों के मुद्दे पर चर्चा की गई। महासचिव एसके बघेल ने कहा कि आज इंटक यूनियन की रणनीति का नतीजा है कि बेहतर वेतन समझौता हो पाया है।
चुनाव के समय चुनावी मेंढक की तरह उदयीमान यूनियन बीडब्ल्यूयू अपनी ओछी मानसिकता का प्रदर्शन करते हुए इंटक यूनियन के प्रयास से कर्मचारियों के लिए नॉन फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम के तहत कर्मचारियों को मिलने वाले गिफ्ट का विरोध कर रही है, जो यूनियन आज तक कभी हड़ताल का नोटिस न देकर हड़ताल में हमेशा प्रबंधन का साथ दिया है। वह इंटक यूनियन को बता रही है कि श्रमिकों के लिए क्या किया।
उप महासचिव पीवी राव ने कहा बीडब्ल्यूयू यूनियन, 2 साल तक कोविड-19 के संक्रमण के समय पूरी नदारद रही, उस समय इंटक यूनियन कर्मचारियों के बेहतर इलाज के लिए प्रयास कर रही थी।
उप महासचिव तुरिंदर सिंह ने कहा, इंटक यूनियन कर्मचारी हित में कार्य करती है, जिसके कारण आज भिलाई, राउरकेला, बर्नपुर में नंबर वन यूनियन है। बीडब्ल्यूयू यूनियन अपने अस्तित्व को बचाने के लिए उल्टा सीधा बयान दे रही है।

कर्मचारियों ने पांचवें स्थान पर सम्मान दिया था

वरिष्ठ सचिव सीपी वर्मा ने कहा बीडब्ल्यूयू यूनियन आज तक सिर्फ विरोध की राजनीति की है और आज तक वह श्रमिकों के लिए कोई कार्य नहीं करा पाई है, जिसके विरोध के कारण ही मार्च के बाद अभी तक नान फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम नहीं आई है। लेकिन इंटक यूनियन प्रयास कर रही है कि जल्द से जल्द फिर से चालू हो।
वरिष्ठ सचिव शिवशंकर सिंह ने कहा भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारी अच्छी तरह से जानते हैं कि सिर्फ चुनाव के समय बयानबाजी करने वाले यूनियन कैसी है। इसलिए उसे चुनाव में महज 1370 वोट देकर पांचवें स्थान में सम्मान दिया था।
कोषाध्यक्ष दीनानाथ सिंह ने कहा कि ऐसे पांचवें नंबर की यूनियन के विरोध करने से इंटक यूनियन सभी क्षेत्र में कर रहे कर्मचारी हित के कार्यों को रोकने वाली नहीं है। वह भिलाई इस्पात संयंत्र के श्रमिक हित में कार्य करती रहेगी।

अपने घटते जनादेश के कारण इंटक यूनियन का विरोध कर रही बीडब्ल्यूयू

उप महासचिव वंश बहादुर सिंह ने कहा बीडब्ल्यूयू आज इंटक यूनियन के कार्यों से बीएसपी कर्मचारी के समर्थन को देखकर परेशान होकर अपने घटते जनादेश के कारण इंटक यूनियन का विरोध कर रही है।
अतिरिक्त महासचिव संजय साहू ने कहा हमारे यूनियन के नेता भी कर्मचारी हैं, उसे भी सभी कर्मचारियों की भांति नान फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम का गिफ्ट दिया गया, उसमें बीडब्ल्यूयू को परेशानी नहीं होनी चाहिए।

पदनाम, एरियर और फिक्सेशन आर्डर पर भी चर्चा

इंटक यूनियन सेल प्रबंधन से मांग करती है कि जल्द से जल्द सम्मानजनक पदनाम कमेटी की बैठक बुलाकर सम्मानजनक पदनाम का समाधान किया जाना चाहिए। नया मूल वेतन का जल्द से जल्द फिक्सेशन ऑर्डर दिया जाना चाहिए। 39 महीने का एरियर, जल्द से जल्द दिया जाना चाहिए। बैठक में पीजूष कर, पूरण वर्मा, एसके बघेल, संजय साहू, मदन सिन्हा, रमेश तिवारी, एसके खिचरिया, सच्चिदानंद पांडे, चंद्रशेखर, पीवी राव, वंश बहादुर सिंह,तुरिंदर सिंह, शेखर शर्मा, अनिमेष पसीने, विपिन बिहारी मिश्रा, संतोष साव, जयंत बराठे, शिव शंकर सिंह, दीनानाथ सिंह, जीआर सुमन, धनेश प्रसाद, रेशम राठौर, सुरेश श्याम कुमार, एसबी सिंह, आर दिनेश, तरुण सैमुअल, राममूर्ति आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!