INTUC OFFICE LIVE: चुनावी घाट पर पदाधिकारियों का जमघट, पदाधिकारी बयां कर रहे दिनभर का संघर्ष

यूनियन दफ्तर लाइव की पहली कड़ी पेश की जा रही है। मंगलवार को एक और यूनियन की लाइव स्टोरी आप पढ़ सकेंगे।

अज़मत अली, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट का यूनियन चुनाव चंद दिनों में होने वाला है। दिलों की धड़कन बढ़ती जा रही है…। सियासी समीकरण बनाने और बिगाड़ने का दांव खेलने के साथ ही आत्ममंथन का दौर भी तेज हो चुका है। प्लांट से लेकर यूनियन दफ्तरों तक क्या है माहौल? ऊंट किस ओर बैठेगा और किसकी टांग खिंची जा रही है। यह जानने के लिए सूचनाजी.कॉम मान्यता प्राप्त यूनियन स्टील इम्प्लाइज यूनियन-इंटक के सेक्टर-3 कार्यालय पहुंचा। यूनियन दफ्तर लाइव की पहली कड़ी पेश की जा रही है। मंगलवार को एक और यूनियन की लाइव स्टोरी आप पढ़ सकेंगे। सोमवार दोपहर एक बजे यूनियन दफ्तर की लाइट, कूलर और पंखे चालू हालत में मिले। कोई चाय-बिस्कुट का इंतजाम करता रहा…। तो कोई कार्यालय को तपती धूप से बचाने और उमस से निजात दिलाने की व्यवस्था में मशगूल दिखा।

प्लांट में चुनाव प्रचार करके लौटे पदाधिकारियों ने अपना-अपना लेखा-जोखा साझा किया। एनजेसीएस सदस्य व उप महासचिव वंश बहादुर सिंह पदाधिकारियों के साथ एजेंडे पर बिंदुवार चर्चा में मगन रहे। वहीं, कार्यालय सचिव रेशम राठौर कम्प्यूटर जॉब समेटने के बाद मंथन में शामिल हुए। दिनभर के खर्च और बैनर-पोस्टर, हैंडबिल आदि का ब्यौरा कम्प्यूटर में फीड करते दिखे। कोई सीटू में चल रहे खिंचतान तो कोई बीएमएस में गए इंटक परिवार के सदस्यों की 80 फीसद संख्या पर कटाक्ष करता रहा।

पिछले दो साल के कार्यकाल में इंटक द्वारा किए गए 40 कार्यों की पूरी कुंडली पीले रंग के पर्चे समाहित है। इसके अलावा सेल कर्मचारियों के लिए पे-पॉकेट से लेकर आवास तक के लिए 20 बिंदु तय किए गए हैं, जिसे हल कराने का दावा किया गया है। चुनाव जीतने के लिए इसे हथियार बनाया गया है ताकि कर्मचारियों तक यह संदेश पहुंच सके। लंबित मुद्दों को हल कराने पर सबसे ज्यादा फोकस किया गया है।

बैठक में देरी से पहुंचे ब्लास्ट फर्नेस से वरिष्ठ सचिव जयंत बरहाटे और सचिव सुरेश श्याम कुंवर ने कार्यस्थल पर वोटरों को समझाने और समर्थन मांगने की जानकारी दी। कार्यालय में मौजूद पदाधिकारियों को बताया कि बकाया एरियर और पे-स्केल पर सबसे ज्यादा चर्चा प्लांट में हो रही है।

उप कोषाध्यक्ष जीआर सुमन ताल ठोकते रहे कि अगर 650 स्क्वायर फीट तक का बीएसपी आवास रिटेंशन में दिला दिया जाए तो चुनाव जीतने से कोई रोक नहीं सकेगा। मर्चेंट मिल के कर्मचारी व यूनियन के सचिव सीपी वर्मा ने एचआर से जुड़े सवालों और उसके समाधान पर दिल की भड़ास निकालते रहे और प्रबंधन को कोसने से नहीं चूके।

कोक ओवन के कर्मचारी एवं यूनियन के उप महासचिव शेखर शर्मा पैर पर पैर चढ़ाए सीटू सहित विरोधी यूनियनों को जुबानी तीर से घायल करते रहे। उप सचिव जसबीर सिंह और डीपी खरे ने टाउनशिप के मुद्दों पर चर्चा करते दिखे। पानी जैसे मुद्दों को लेकर प्रबंधन से गुहार लगाने और टार फेल्टिंग के लिए जी-हुजूरी करने तक की नौबत पर कटाक्ष किया। उप महासचिव मेडिकल अनिमेष पसीने ने चिकित्सा सुविधा पर चर्चा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!