दुर्ग जिले में कृष्ण कुंज जल्द लेगा आकार, जन्माष्टमी पर सीएम भूपेश बघेल करेंगे उद्घाटन

सूचनाजी न्यूज, दुर्ग। नगरीय निकायों में राज्य सरकार के एक एकड़ भूमि पर कृष्ण कुंज बनाने के निर्णय पर कार्यान्वयन आरंभ हो गया है। नगरीय निकायों के महत्वपूर्ण स्थलों में कृष्ण कुंज का चिन्हांकन किया गया है। शनिवार को कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने चिन्हांकित स्थलों का निरीक्षण किया। उनके साथ डीएफओ शशिकुमार भी थे। कलेक्टर ने शुरूआत पांच बिल्डिंग, दुर्ग में चिन्हांकित भूमि से की। यहां पर आरंभिक कार्य आरंभ कर दिया गया है। इसके बाद उन्होंने सुंदर विहार, भिलाई में चिन्हांकित भूमि देखी। फिर भिलाई चरौदा, कुम्हारी आदि में चिन्हांकित स्थल देखे।
कलेक्टर ने कहा कि कृष्ण कुंज को विकसित करने के पीछे शासन की मंशा है कि भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण माने जाने वाले पौधों की वाटिका तैयार हो सके, इन वृक्षों के तले सुकून का माहौल शहर के लोग बिता सकेंगे और यह बहुत सुंदर शांत जगह होगी, इस तरह से इसे विकसित करें। डीएफओ ने बताया कि एक एकड़ में लगभग 250 पौधों का रोपण होगा। इसमें बरगद, पीपल, नीम और कदंब जैसे पौधों का रोपण होगा। कृष्ण जनमाष्टमी के अवसर पर इनका रोपण आरंभ हो जाएगा।
कलेक्टर ने स्थानीय नागरिकों से भी बातचीत की। स्थानीय नागरिकों ने कहा कि शासन की यह बहुत महत्वपूर्ण पहल है और हमें खुशी है कि हमारी कालोनी को इसके लिए चुना गया है। सर्वोदय विहार के निवासियों ने कहा कि कृष्ण कुंज नाम से ही बहुत आध्यात्मिक और धार्मिक अनुभव हो रहा है। इसके विकास के बाद यह सुंदर जगह बन जाएगी और यहां आकर मन को सुकून का अनुभव भी हो सकेगा।
उन्होंने कहा कि यह कृष्ण कुंज इसलिए भी अहम है, क्योंकि पहली बार हमारी संस्कृति में चिन्हांकित पौधों को एक साथ रोपण किया जा रहा है। कलेक्टर ने कहा कि बरगद, पीपल जैसे पेड़ आक्सीजन भी बहुत ज्यादा देते हैं और बहुत दीर्घजीवी होते हैं। कृष्ण वाटिका के पौधे जब बड़े हो जाएंगे तो बहुत हरियाली भरा और बेहद सुंदर स्थल बन जाएगा।

सिकोला में हाइटेक नर्सरी तैयार, लोकार्पित करेंगे मुख्यमंत्री
सिकोला में हाइटेक नर्सरी तैयार हो गई है। इसका लोकार्पण मुख्यमंत्री करेंगे। हाइटेक नर्सरी का अवलोकन आज कलेक्टर डॉ. भुरे ने किया। डीएफओ ने बताया कि यहां फलदार पौधे तैयार किये जाएंगे। इसके लिए पाली हाउस बनाया गया है। यह बेहद हाइटेक तकनीक से बनाया गया है।
मातृछाया पथ भी जाएंगे मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री ने सिकोला में मातृछाया पथ में कृष्णकली का पौधा रोपित किया था। अब वो पौधा काफी बड़ा हो गया है। मुख्यमंत्री अपने भ्रमण के दौरान मातृछाया पथ भी देखेंगे। कलेक्टर ने आज मातृछाया पथ में लगाये गये पेड़ों का अवलोकन भी किया।
कुम्हारी में भूमिगत रिचार्ज के लिए ट्रीटमेंट पर काम तेज
मुख्यमंत्री ने अपने कुम्हारी भ्रमण के दौरान उद्यान के पास स्थित बांधा में वाटर रिचार्ज की संभावनाओं पर काम करने के निर्देश दिये थे। मुख्यमंत्री ने कहा था कि इस बांधा में मुरूम भूमि होने के कारण पानी ठहरता नहीं। यदि ट्रीटमेंट किया जाए तो भूमिगत जल का बढ़िया रिचार्ज हो सकता है। मुख्यमंत्री के निर्देश के तुरंत बाद यहां काम आरंभ किया गया और 60 लाख रुपए की लागत से यह कार्य किया जा रहा है।
सीमार्ट का किया अवलोकन
कलेक्टर ने भिलाई में सीमार्ट का अवलोकन भी किया। सीमार्ट का भी लोकार्पण शीघ्र ही किया जाएगा। कलेक्टर ने अगले पंद्रह दिनों में इसका काम पूरा करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि एसएचजी द्वारा बहुत अच्छे प्रोडक्ट बनाये जाते हैं। इनके डिस्प्ले को सुंदर तरीके से करें और मार्ट को बढ़िया तरीके से संवारे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!