इंटक को अपनी मुट्ठी में रखकर कर्मचारी विरोधी निर्णय ले रहा प्रबंधन, बायोमेट्रिक का विरोध और यूनिफॉर्म भत्ता की मांग: बीएमएस

रिटायर्ड कर्मचारियों के बेरोजगार बच्चों को बीएसपी की भर्ती में 50% तथा ठेका कार्यों में प्राथमिकता के आधार पर रोजगार दिया जाए।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात मजदूर संघ-बीएमएस ने एक बार फिर मान्यता प्राप्त यूनियन इंटक का नाम लिए बगैर ही हमलावर हुआ है। कार्यकारिणी की बैठक में पदाधिकारियों के अलावा संयंत्र के कर्मचारियों ने भी भाग लिया। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रबंधन एक विशेष यूनियन को अपनी मुट्ठी में रखकर कर्मचारी विरोधी निर्णय ले रहा है और वह यूनियन इसका विरोध भी नहीं कर पा रही है।

ये खबर भी पढ़ें:300 कर्मचारियों व अधिकारियों को जून में मिलेगा 60 ग्राम चांदी का सिक्का, एक-एक कर्मी के नाम होगा पक्का बिल

बीएमएस नेताओं ने कहा कि पहले तो ग्रेच्युटी सीलिंग का आदेश निकाला और अब ई-सहयोग से उसकी गणना को पोर्टल से हटा दिया। इसी प्रकार नई प्रमोशन पॉलिसी, जिसका हर विभाग में विरोध हो रहा है। यहां तक कि उसके पदाधिकारी भी दबी जुबान से इसका विरोध कर रहे हैं, उसके बाद भी वह यूनियन मेडिकल और टाउनशिप में भी एनईपीपी लागू करवा कर सभी को टेक्नीशियन और ऑपरेटर बनवाना चाह रही है। अगर यह लोग इतने ही ईमानदार है तो जूनियर इंजीनियर पदनाम के लिए एग्रीमेंट करें, जिससे लोगों का मान सम्मान समाज में बढ़ सकें।

ये खबर भी पढ़ें:भिलाई स्टील प्लांट में स्थानीय के अलावा कर्मचारियों के बच्चों को मिले नौकरी में 50 फीसद आरक्षण

मीटिंग में कार्यकारी अध्यक्ष चिन्ना केशवलू, महामंत्री रवि शंकर सिंह, धनंजय चतुर्वेदी, आरके पांडे, उपाध्यक्ष सोम भारती, शारदा गुप्ता, विनोद उपाध्याय, एबिशन वरगिस, संयुक्त महामंत्री अशोक माहोर, प्रदीप पाल, महेंद्र प्रताप सिंह, संजय प्रताप सिंह, सचिव अनिल गजभिए, आरडी पांडेय, नवनीत हरदैल, राजेश बघेल, सुधीर गरहेवाल मौजूद रहे।

इंटक की दोमुंही बातों से कर्मचारी उब चुके

पदाधिकारियों ने कहा कि आज कर्मचारी इंटक की इस दोमुंही बातों से ऊब गए हैं। और ऐसी यूनियन को सबक सिखाना चाहते हैं, जिसने वेज रिवीजन से लेकर स्थानीय स्तर पर भी लोगों का नुकसान किया है। बीएमएस ने उन्हें आश्वस्त किया कि कर्मचारी हित में हमारी यूनियन सदैव काम कर रही है। यूनियन मान्यता में आएगी तो सबसे पहले सभी लोगों से मुद्दों को लेकर प्रबंधन पर दबाव बनाकर उन्हें हल किया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें: रूस-यूक्रेन वार घटा रहा था बीएसपी का इस्पात उत्पादन, चार माह बाद चेकोस्लोवाकिया से आया हॉट ब्लास्ट वॉल्व, अब बढ़ेगा प्रोडक्शन

बीएमएस ने बायोमेट्रिक का विरोध संग की ये मांग …

  1. रिटायर्ड कर्मचारियों के बेरोजगार बच्चों को बीएसपी की भर्ती में 50% तथा ठेका कार्यों में प्राथमिकता के आधार पर रोजगार दिया जाए।
  2. रिटेंशन में ली जाने वाली 9 लाख की राशि को कम कर अधिकतम 5 लाख तथा उस पर एफडी की तरह ब्याज दिया जाए।
  3. ग्रेच्युटी की गणना ई-सहयोग में पुनः प्रारंभ की जाए।
  4. अधिकारियों की तरह सभी कर्मचारियों को यूनिफॉर्म भत्ता दिया जाए
  5. सभी कर्मचारियों को बीएसपी की सिम तथा हैंडसेट के लिए कम से कम 15000 दिए जाए।
  6. एचए पार्क्स में टैक्स के रूप में काटी गई राशि मे से 50% प्रबंधन के द्वारा भरा जाए तथा काटी राशि को वापस किया जाए।
  7. भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए तथा अच्छे रखरखाव के लिए क्वार्टर मरम्मत स्वैच्छिक किया जाए और कर्मचारी द्वारा दिए गए बिल का भुगतान प्रबंधन करें।
  8. बीएमएस बायोमेट्रिक से हाजिरी का विरोध करती है।
  9. बोरिया गेट शाम 6:30 बजे तक खुला रखा जाए, जिससे कर्मचारियों को बाहर निकलने में आसानी रहे।
  10. वेज रिवीजन के समय प्रबंधन ने कुछ लोगों का ट्रांसफर अन्य संयंत्र में कर दिया है, उन्हें भिलाई इस्पात संयंत्र में वापस किया जाए तथा जिन लोगों का सस्पेंशन हुआ है, उन्हें ज्वाइनिंग दी जाए।

ये खबर भी पढ़ें:Director’s Trophy Tournament 2022: आईआईटी बीएचयू, एनआइटी रायपुर और आईआईएम ने जीते लीग मैच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!