भिलाई स्टील प्लांट के बार एंड रॉड मिल में लगी भीषण आग, इलेक्ट्रिकल इक्यूपमेंट बाइपास कर छह घंटे में सरिया उत्पादन बहाल 

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के भिलाई स्टील प्लांट में भीषण अग्निकांड हुआ है। कर्मचारी बाल-बाल बच गए। आग की वजह से करीब छह घंटे तक उत्पादन ठप रहा। बार एंड रॉड मिल में बुधवार रात करीब नौ बजे आग लगी। आग फैलते ही कर्मचारी भाग खड़े हुए। अफरा-तफरी का माहौल बन गया। सूचना पर फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची। काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। उत्पादन को बहाल करने के लिए बीएसपी का पूरा अमला जुट गया था। आग को काबू करने के बाद जांच की गई। इलेक्ट्रिकल इक्यूपमेंट सबसे ज्यादा बर्बाद हो चुके थे। मैकेनिकल के पार्ट्स सुरक्षित होने से अधिकारियों ने राहत की सांस ली। अगर, इसे नुकसान हुआ होता तो उत्पादन को बहाल करना मुश्किल हो जाता। बताया जा रहा है कि रात करीब दो बजे इलेक्ट्रिकल इक्यूपमेंट को बाइपास कर उत्पादन को बहाल कर लिया गया है।

ये खबर भी पढ़ें: Breaking News: भिलाई स्टील प्लांट के नए ईडी पीएंडए एमएम गद्रे के ब्रेन में आया ब्लड, आईसीयू में भर्ती

बीएसपी जनसंपर्क विभाग के महाप्रबंधक सुबीर दरीपा का कहना है कि बार एंड रॉड मिल भिलाई इस्पात सयंत्र का एक अति आधुनिक इकाई है, जिसमे लेवल-2 का ऑटोमेशन है। इस मिल के आयल सेलर में सेन्टरीफुगल सेपेराटर नाम का एक उपकरण है, जिससे आयल या ग्रिज के साथ अगर पानी आ जाए तो उसे अलग किया जाता है। इसी इकाई में एक हीटर भी लगा हुआ है। यह उपकरण का उत्पादन से सीधे कोई संबंध नहीं है।

बीते रात इसी सेन्टरीफुगल सेपेराटर के स्विच और इसके इलेक्ट्रिकल पैनल में आग लगी थी, जिसे संयंत्र के अग्नि शमन विभाग ने तुरंत पहुंच कर बुझाया। आयल सेलर को कोई विशेष नुकसान नहीं हुआ है। आग लगने की वजह से एहतियात के तहत उत्पादन को लगभग पांच घंटे बंद रखा गया। चूंकि बार एवं रॉड मिल में लेवल-2 ऑटोमेशन है, इसलिए ऑटोमेशन व्यवस्थानुसर एक एक कर हर यूनिट को चेक करके ही उत्पादन शुरू करने का अनुमति मिलती है। रात एक बजे मिल को चालू कर दिया गया। तब से उत्पादन सामान्य है। आज पहली पाली में भी उत्पादन सामान्य रहा। जहां तक नुकसान की बात है, लगभग पांच घंटे मिल बंद रहने से जो उत्पादन का लॉस हुआ, उतना ही नुकसान हुआ है।

बीआरएम के कार्मिकों ने बताया कि बीजीबी लाइन-2 के सेलर में आग लगी। आग लगने का कारण शार्ट सर्किट बताया जा रहा है। हाइड्रोलिक, लुब्रिकेशन लाइन की पाइप भी जल गई है। आग की लपटों की चपेट में इलेक्ट्रिकल इक्यूपमेंट नष्ट हो गए। आग लगने से पहले 12 एमएम की सरिया का उत्पादन हो रहा था, जो ठप हो गया है। आग की बढ़ती लपटों को देख कर्मचारियों ने भी फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों के साथ आग को काबू में करने की कोशिश की।

ये खबर भी पढ़ें: Rourkela Steel Plant: स्टील मेल्टिंग शॉप-2 के चौथे स्लैब कास्टर और लैडल फर्नेस की पड़ी नींव, भारत-जर्मनी मिलकर करेगा कंस्ट्रक्शन

करीब एक घंटे बाद फायर ब्रिगेड की टीम ने आग का कंट्रोल कर लिया। ग्राउंड फ्लोर पर सेलर है, जो चहारदीवारी के अंदर है। आग लगने से हर तरफ धुआं फैल गया। इलेक्ट्रिकल और हाइड्रोलिक सिस्टम भी जल गया। कर्मचारियों के मुताबिक कंट्रोल पैनल में अगर ज्यादा नुकसान हुआ होता तो उत्पादन कई शिफ्ट तक ठप हो जाता।

ये खबर भी पढ़ें: 10 मिनट में तीन लाख तक इमरजेंसी और आधे घंटे में लीजिए 10 लाख का सामान्य लोन

इधर-पिछले दिनों स्टील मेल्टिंग शॉप और एसजीपी में हुए हादसों से बीएसपी प्रबंधन काफी तनाव में है। लगातार हादसों की वजह से कंपनी को नुकसान हो रहा है। वहीं, पिछले दिनों लगातार हुए चार हादसों में दो कर्मचारियों की मौत भी हो चुकी है। वहीं, करोड़ों का नुकसान भी हो चुका है।

ये खबर भी पढ़ें: डिप्लोमा इंजीनियर्स को साथ लेकर खदान का सेफ्टी रूल्स प्लांट में लागू करे सेल, वर्कमैन इंस्पेक्टर से थम जाएंगे हादसे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!