मर्चेंट मिल की कैंटीन अब संडे को भी खुलेगी, मिलेगा चाय-नाश्ता और खाना, बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने लिया श्रेय


बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने कहा-प्रयास सफल का सकारात्मक परिणाम आया।
सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट के मर्चेंट मिल में तीनों शिफ्ट में कर्मचारी सप्ताह के सातों दिन काम करते हैं, लेकिन मर्चेंट मेल का कैंटीन रविवार को पूर्णता बंद रहता था। इसकी वजह से कर्मचारियों को नाश्ता-खाना के लिए इधर-उधर भटकना पड़ता था। इस समस्या को बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने अपने प्रयासों से सुलझा लिया है और अब रविवार के दिन भी मर्चेंट मिल का कैंटीन खुला रहेगा। जहां पर कर्मचारियों के लिए चाय-नाश्ता एवं आवश्यकतानुसार भोजन की सुविधा मिलेगी।

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के मर्चेंट मिल प्रभारी विमल कांत पांडे ने बताया कि कर्मचारियों की परेशानी को देखते हुए सीजीएम इंचार्ज एमएंडयू एवं प्रबंधक कैंटीन सेल से विधिवत चर्चा की गई। बीएसपी वर्कर्स यूनियन के अतिरिक्त महासचिव टी. दिलेश्वर राव ने बताया कि मर्चेंट मेल का कैंटीन बंद होने की वजह से रविवार के दिन वायर राड मिल के कैंटीन पर अतिरिक्त दबाव आता था, क्योंकि उस एरिया में कई डिपार्टमेंट के लोग एक जगह एक कैंटीन में नाश्ता-चाय के लिए पहुंचते थे। जहां पर कोविड-19 के नियमों का भी पालन नहीं हो पा रहा था। लेकिन अब रविवार के दिन कर्मचारियों को मर्चेंट मिल कैंटीन की सुविधा मिलने से बहुत राहत मिलेगी।

कैंटीन संचालकों की शिकायत की जाएगी

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष उज्जवल दत्ता ने कहा है कि हमारी यूनियन का प्रतिनिधिमंडल गर्मी को देखते हुए प्लांट के अंदर सभी कैंटीनों का समय-समय पर निरीक्षण करेगा। जहां कर्मचारियों के लिए साफ-सफाई के साथ नाश्ता-पानी तथा हवा की व्यवस्था ठीक नहीं मिलेगी, संबंधित कैंटीन के संचालक की शिकायत कैंटीन सेल अधिकारियों के पास की जाएगी।

वातानुकूलित कैंटीनों की व्यवस्था होनी चाहिए

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के कार्यकारी महासचिव शिव बहादुर सिंह ने कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र के अंदर आज जरूरत है कि कर्मचारियों को ऐसी कैंटीन की सुविधा मिले, जहां पर वह अपनी इच्छा अनुसार भोजन तथा नाश्ता प्राप्त कर सकें। इसके साथ ही साथ भीषण गर्मी को देखते हुए वातानुकूलित कैंटीनों की व्यवस्था होनी चाहिए, जिसके लिए प्रबंधन को ध्यान देने की जरूरत है। जहां पर कम से कम कर्मचारी कैंटीन में ठंडी हवा में सुकून से बैठकर चाय नाश्ता कर सकें।

क्वालिटी और क्वांटिटी पर भी फोकस करें

यूनियन के महासचिव खूबचंद वर्मा ने कहा कि कैंटीन में जो भी व्यंजन बनाए जाते हैं, उनके गुणवत्ता पर तथा क्वांटिटी पर संचालकों को विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कर्मचारियों से लगातार शिकायतें मिलती रहती हैं कि कैंटीन की नाश्ता-चाय की एवं खाने की गुणवत्ता ठीक नहीं रहती है। कैंटीन सेल के साथ बैठक में प्रमुख रूप से यूनियन के अध्यक्ष उज्जवल दत्ता, अतिरिक्त महासचिव टी. डीलेश्वर राव, कार्यकारी महासचिव शिव बहादुर सिंह, सहायक महासचिव राजेश कांत फिरंगी,संदीप सिंह,प्रदीप सिंह, सचिव राजेश बारस्कर, राजेश यादव, सुजीत सोनी, तथा कैंटीन सेल के प्रबंधक जी विलियम एवं एन प्रभाकर राव आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!