दुर्गापुर स्टील प्लांट के मर्चेंट मिल ने 150% और बाकी सभी विभाग ने 100% से ज्यादा किया उत्पादन

104 प्रतिशत सिंटर, 105 प्रतिशत हॉट मेटल, 104 प्रतिशत कास्टर, 122 प्रतिशत सेक्शन मिल, 150 प्रतिशत मर्चेंट मिल, 103 प्रतिशत फिनिश्ड और 103 प्रतिशत सेलेबल स्टील में रिकॉर्ड बनाया गया है।

सूचनाजी न्यूज, दुर्गापुर। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल की इकाई दुर्गापुर स्टील प्लांट के कार्मिकों ने रिकॉर्ड कायम कर दिया है। हर यूनिट ने 100 प्रतिशत से ज्यादा का योगदान देकर अपनी ताकत का एहसास करा दिया है। शत-प्रतिशत से ज्यादा उत्पादन करने वाले विभागों का हौसला बढ़ाने के लिए डायरेक्टर इंचार्ज बीपी सिंह खुद पहुंचे। कर्मचारियों से मुलाकात की।

ये खबर भी पढ़ें: सेल में नई इंसेंटिव स्कीम का पोटेंशियल तैयार हो रहा 10500 रुपए का

मई में रिकार्ड तोड़ उत्पादन करने वाले विभागों में लक्ष्य से अधिक उत्पाद किया है। कुल उत्पादन लक्ष्य की बात की जाए तो 106 प्रतिशत का योगदान आया। 104 प्रतिशत सिंटर, 105 प्रतिशत हॉट मेटल, 104 प्रतिशत कास्टर, 122 प्रतिशत सेक्शन मिल, 150 प्रतिशत मर्चेंट मिल, 103 प्रतिशत फिनिश्ड और 103 प्रतिशत सेलेबल स्टील में रिकॉर्ड बनाया गया है। क्रूड स्टील, एमएसएम, मर्चंट मिल, फिनिश्ड स्टील, सेलेबल स्टील, स्पेशल स्टील, वैल्यू एडेड स्टील, डिस्पैच ने कामयाबी का झंडा फहराया है।

ये खबर भी पढ़ें: बीएसपी के ब्लास्ट फर्नेस-7 एसजीपी में हादसा, आग में झुलसकर एक मजदूर की मौत, दूसरा जख्मी, फायर ब्रिगेड ने चलाया रेस्क्यू ऑपरेशन, बीएसपी ने शुरू की जांच

सेक्शन मिल ने 13420 टन का उत्पादन किया है। एमएसएम ने 41490 टन और मर्चेंट मिल ने 36048 टन का उत्पादन किया। वहीं, एक्सपोर्ट के मामले में भी दुर्गापुर स्टील प्लांट ने बेहतर नतीजे दि है। 1400 टन एक्सपोर्ट और 27200 टन सड़क मार्ग से डिस्पैच किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें: Bhilai Steel Plant Accident: मौत के कुएं में भरी थी गैस, वेल्डिंग की चिंगारी से धमाका, पानी के टैंक में डुबकी लगाकर बची एक की जिंदगी, दूसरे ने तड़पकर दे दी जान, देखिए तस्वीरें

दुर्गापुर व इस्को बर्नपुर स्टील प्लांट के डायरेक्टर इंचार्ज अनिर्बान दासगुप्ता वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आरएमएचपी, सिंटर प्लांट, फर्नेस, स्टील मेल्टिंग शॉप, मर्चेंट मिल, सेक्शन मिल पहुंचे। कार्मिकों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि इस मुहिम को आगे भी जारी रखेंगे। वित्तीय वर्ष के नजीते तक इस मुहिम को बरकरार रखेंगे। दुर्गापुर के कर्मचारियों और अधिकारियों में क्षमता है कि वे पुराने सारे रिकॉर्ड को ध्वस्त कर दें। ऐसा करके दिखाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!