मूलनिवासी कला, साहित्य और फिल्म फेस्टिवल भिलाई में, नेहरू सांस्कृतिक सदन सेक्टर-1 में होगा जमावड़ा

0
film festival
आयोजन में देश भर के प्रतिष्ठित विचारक लेखक शामिल होंगे। वहीं मूलनिवासी बहुजन समाज से जुड़े विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर इस दौरान चर्चा होगी।
AD DESCRIPTION

12 एवं 13 नवंबर को होने वाले इस आयोजन में पेंटिंग्स, फोटोग्राफ, विभिन्न शिल्प की कला प्रदर्शनी तथा कविता पोस्टर प्रदर्शनी लगाई जा रही है।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। सामाजिक आर्थिक बदलाव के लिए कार्यरत गैर राजनीतिक संस्थाओं एवं व्यक्तियों के स्वस्फूर्त संयुक्त प्रयास से मूलनिवासी कला साहित्य और फिल्म फेस्टिवल -2022 का आयोजन भिलाई में होने जा रहा है। स्थानीय स्तर पर इसकी तैयारियां जोरों पर चल रही है। इस महत्वपूर्ण आयोजन में देश भर के प्रतिष्ठित विचारक लेखक शामिल होंगे। वहीं मूलनिवासी बहुजन समाज से जुड़े विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर इस दौरान चर्चा होगी।

ये खबर भी पढ़े …सेल-भिलाई स्टील प्लांट में फिर हादसा, उत्पादन ठप, जानिए अब क्या हुआ

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

आयोजन की तैयारियों को लेकर रविवार को हुई बैठक में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई और आयोजन से जुड़े ब्रॉशर का विमोचन किया गया। संयुक्त आयोजन समिति की ओर से एल उमाकांत व सुनील रामटेके ने बताया कि कोविड संक्रमण की वजह से बीते 2 साल में यह आयोजन स्थगित रहा।

ये खबर भी पढ़े … भिलाई के लक्ष्मण तालाब में बनेगा भगवान सूर्य देव का मंदिर, व्रतधारियों से विधायक देवेंद्र ने की मुलाकात, लिया आशीर्वाद

Amazon(Amazfit Zepp E Stylish Smart Watch CircleVersion , Health and Fitness Tacker with Heart Rate)

ये खबर भी पढ़े … वाह…! SAIL की 205 करोड़ की 24 एकड़ जमीन और 434 मकानों से खदेड़े गए कब्जेदार, BSP इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट ने रचा कीर्तिमान

इस वर्ष भिलाई में यह चौथा मूल निवासी कला साहित्य और फिल्म फेस्टिवल का आयोजन होने जा रहा है। नेहरू सांस्कृतिक सदन सेक्टर-1 में 12 एवं 13 नवंबर को होने वाले इस आयोजन में पेंटिंग्स, फोटोग्राफ, विभिन्न शिल्प की कला प्रदर्शनी तथा कविता पोस्टर प्रदर्शनी लगाई जा रही है। अपनी तरह के एक अलग तरह के इस मूलनिवासी फेस्टिवल में नृत्य कला और गीत-गायन के साथ साथ हमारे आम जन जीवन पर शार्ट फिल्मों का प्रदर्शन सहित विविध आयाम तय किए गए हैं।

ये खबर भी पढ़े …राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव व राज्योत्सव का शेड्यूल तय, 1500 कलाकार दिखाएंगे आदिम संस्कृति, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन होंगे गवाह

संयुक्त आयोजन समिति की ओर से एल.उमाकांत व सुनील रामटेके ने बताया कि इस दो दिवसीय आयोजन में देश भर के कई प्रमुख विद्वान चिंतक उपस्थित होंगे और मूलनिवासी बहुजन समाज से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय रखेंगे। पोस्टर विमोचन के अवसर पर एल उमाकांत, सुनील रामटेके के साथ बहुत से मूलनिवासी कार्यकर्ता और बुद्धिजीवी उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़े …मूलनिवासी कला, साहित्य और फिल्म फेस्टिवल भिलाई में, नेहरू सांस्कृतिक सदन सेक्टर-1 में होगा जमावड़ा

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here