कोई कितना भी ज्ञानी क्यों न हो, अहंकार नहीं होना चाहिए: भूपेश बघेल

0
Vijayadashami cm bhupesh baghel
मुख्यमंत्री बोले-सत्य की विजय का पर्व विजयादशमी हमारे जीवन में मूल्यों की स्थापना का पर्व।
AD DESCRIPTION

चरोदा में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शामिल। आंध्रप्रदेश से आई आतिशबाजी की टीम ने सत्य की विजय के इस पर्व पर पूरा आकाश रोशनी से रंगीन कर दिया।

सूचनाजी न्यूज, दुर्ग। विजय दशमी पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल चरोदा में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। प्रभु राम की पूजा की और बुराई के प्रतीक रावण के पुतला दहन के साक्षी बने। उनहोंने कहा कि सत्य की विजय का यह पर्व कितने उल्लास का पर्व है और मूल्यों से जुड़ा है। आप सभी इतनी बड़ी संख्या में इस उत्सव को मनाने आए हैं, मैं आप सभी का स्वागत करता हूं।

ये खबर भी पढ़ें… गोधन न्याय योजना: पशुपालकों, महिला समूहों और गौठान समितियों के खाते में 6 को आएगा 8 करोड़ 13 लाख, सीएम बघेल के हाथों ऑनलाइन जारी होगी रकम

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

चरोदा एकता मंच द्वारा विजयादशमी के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यह बात कही। मुख्यमंत्री यहां हर वर्ष विजयादशमी के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेते हैं। इस मौके पर आंध्रप्रदेश से आई आतिशबाजी की टीम ने सत्य की विजय के इस पर्व पर पूरा आकाश रोशनी से रंगीन कर दिया।

ये खबर भी पढ़ें… राज्यपाल अनुसुईया उइके और सीएम भूपेश बघेल रंगे आस्था के रंग में, शस्त्र पूजा कर की सुख-समृद्धि की कामना

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि दशहरा का यह महान पर्व देश भर में उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह असत्य पर सत्य की जीत, अधर्म पर धर्म की जीत के रूप में मनाते हैं। कोई कितना भी ज्ञानी क्यों न हो, अहंकार नहीं होना चाहिए, इसलिए रावण का नाश हुआ। आज मैं अन्य उत्सवों में भी गया। आप सभी को दशहरा उत्सव की बधाई देता हूं। इस मौके पर महापौर निर्मल कोसरे, सभापति कृष्णा चंद्राकर, चैतन्य बघेल सहित अन्य अतिथि मौजूद रहे।

ये खबर भी पढ़ें… Chhattisgarhia Olympics 2022-23: गांव से शहर और युवा से बुजुर्ग तक होंगे प्रतिभागी, खेलों का नाम सुनकर हो जाएंगे दंग, सीएम बघेल 6 को दिखाएंगे झंडी

साथ ही श्रीश्रीश्री सार्वजनिक उत्सव दशहरा समिति चरोदा के अध्यक्ष डी विजय, एस वेंकट रमना, सुप्रिय टेमभुरकर, हार्मिक सिंह, सुखदेव सिंह सिद्धू, संदीप सिंह, खिलावन सिंह चौहान, पी चिरंजीवी सन्नी, मोनू मखीजा, आशीष बंजारी, प्रदीप सरकार, अशद अख्तर सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें… छत्तीसगढ़ राज्य अलंकरण प्रभु राम के ननिहाल की दिलाएगा याद, माता कौशल्या के नाम समेत दिए जाएंगे तीन नए पुरस्कार…

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here