Eco Mine Tourism: अंडरग्राउंड कोयला खदानों में अब आप भी घूम सकेंगे, कोल इंडिया-डब्ल्यूसीएल ने महाराष्ट्र सरकार से किया एमओयू

0
WCL CMD Manoj Kumar signing MoU with Directorate of Tourism
ईको माइन टूरिज्म के लिए वेकोलि एवं डायरेक्टरेट ऑफ टूरिज्म के मध्य एमओयू पर साइन किया गया। पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।
AD DESCRIPTION

सूचनाजी न्यूज, नागपुर। विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर इको माइन टूरिज्म को बढ़ावा देने के उद्देश्य से वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड एवं डायरेक्टरेट ऑफ टूरिज्म, महाराष्ट्र सरकार ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते के अनुसार वेकोलि के सावनेर भूमिगत खदान, गोंडेगांव खदान, अदासा खुली खदान, अदासा मंदिर तथा सावनेर के महात्मा गांधी इको पार्क का पर्यटन सरलता से संभव हो सकेगा।

इस समझौते पर वेकोलि के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक मनोज कुमार एवं डायरेक्टरेट ऑफ टूरिज्म के निदेशक मिलिंद बोरीकर, आयएएस, ने हस्ताक्षर किए। यह एमओयू महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री मंगलप्रभात लोढ़ा एवं पर्यटन मंत्रालय (महाराष्ट्र सरकार) के सहायक मुख्य सचिव नितिन करीर की उपस्थिति में मुंबई में आयोजित विश्व पर्यटन दिवस-2022 के विशेष समारोह में किया गया। इस अवसर पर वेकोलि के महाप्रबंधक (कार्मिक/प्रशासन) पी. नरेंद्र कुमार एवं मुंबई के आरएसएम आनंद टेंभूर्णीकर उपस्थित थे।

वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड एवं डायरेक्टरेट ऑफ टूरिज्म, महाराष्ट्र सरकार का यह समझौता 5 साल के लिए लागू होगा। इस एमओयू के अंतर्गत पर्यटकों की बुकिंग का दायित्व डायरेक्टरेट ऑफ टूरिज्म एवं उनके द्वारा अधिकृत कार्यालयों का होगा। एक बार में 6 से 20 पर्यटकों के समूह को पर्यटन स्थल का भ्रमण कराया जाएगा। इस समझौते से कोयला खनन के क्षेत्र में रुचि रखने वाले विद्यार्थियों तथा सामान्य जनमानस को खनन की प्रक्रिया, उसके विविध पहलू एवं उपयोग समझने में आसानी होगी।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION
AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here