सेल, भेल और मारुति को नई पहचान दिलाने वाले पद्मश्री डाक्टर कृष्णामूर्ति नहीं रहे, भिलाई बिरादरी और सेफी ने दी श्रद्धांजलि

सेल के पूर्व चेयरमैन डाक्टर वी.कृष्णामूर्ति का 97 साल की उम्र में चेन्नई में निधन हो गया है। साल 1985 से 1990 तक सेल के चेयरमैन रहे।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल (Steel Authority of India Limited) में अधिकारियों को नई पहचान दिलाने वाले पूर्व चेयरमैन डाक्टर वी.कृष्णामूर्ति का 97 साल की उम्र में निधन हो गया है। साल 1985 से 1990 तक सेल के चेयरमैन रहे। लंबी बीमारी की वजह से चेन्नई में इनका निधन हो गया है। निधन की सूचना मिलते ही भिलाई स्टील प्लांट सहित सेल की सभी इकाइयों में शोक व्यक्त किया जा रहा है। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ‘सेल’ के पूर्व अध्यक्ष, पद्मविभूषण डाक्टर वी. कृष्णमूर्ति को भिलाई इस्पात संयंत्र के इस्पात भवन सभागार में संयंत्र बिरादरी ने श्रद्धांजलि एवं पुष्पांजलि अर्पित की। संयंत्र के निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता के नेतृत्व में इस्पात बिरादरी ने डाक्टर वी. कृष्णमूर्ति का स्मरण करते हुए अपनी पुष्पांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर संयंत्र के कार्यपालक निदेशक प्रभारी (कार्मिक एवं प्रशासन), केके सिंह, कार्यपालक निदेशक (वर्क्स) अंजनी कुमार, कार्यपालक निदेशक (माइन्स) तपन सूत्रधार, कार्यपालक निदेशक (परियोजना) एस मुखोपाध्याय सहित संयंत्र के मुख्य महाप्रबंधक और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
इस अवसर पर डाक्टर वी. कृष्णमूर्ति का स्मरण करते हुए सेल में उनके योगदान की चर्चा की गई। डाक्टर कृष्णमूर्ति 1985 से 1990 तक सेल के अध्यक्ष रहे। उन्होंने सेल के कायाकल्प में अपना अमूल्य योगदान दिया है। इसके अतिरिक्त डाक्टर कृष्णमूर्ति, देश के विभिन्न औद्योगिक संस्थानों, विभिन्न संगठनों के प्रमुख एवं सलाहकार रह चुके है। उन्हें पद्मविभूषण से सम्मानित किया जा चुका है।
इधर-बीएसपी आफिसर्स एसोसिएशन ने दी श्रद्धांजलि

सेल के पूर्व चेयरमेन, पद्म विभूषण डॉ. वी कृष्णमूर्ति के निधन पर सेफी व ओए-बीएसपी ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है। सेफी के चेयरमेन एनके. बंछोर ने कहा कि कृष्णमूर्ति ने सेल के कायाकल्प में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने अपने नेतृत्व में सेल का एक नई ऊंचाई देने में सफलता हासिल की। इसके साथ ही उन्होंने देश के विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के उत्थान व उन्नयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्हें इस्पात उद्योग व अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के कंपनियों में दिए गए उनके अपार योगदान के लिए हमेशा याद किया जाएगा। ओए-बीएसपी के महासचिव एवं सेफी सदस्य परविंदर सिंह ने भी उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी।

ये खबर भी पढ़ें: सेल चेयरमैन पद के सभी दावेदार धुरंधर, हादसों में भी सबकी बराबर की हिस्सेदारी, अब होगा श्रेष्ठ में सर्वश्रेष्ठ का खिताब

14 जनवरी 1925 में जन्म डाक्टर वी.कृष्णामूर्ति ने रविवार को अपोलो चेन्नई में आखिरी सांस ली। सेल, भेल सहित कई पब्लिक सेक्टर यूनिटों में अपनी सेवा देने वाले डाक्टर वी.कृष्णामूर्ति पद्म विभूषण से सम्मानित हो चुके हैं। सेल के अधिकारी इनके निधन पर शोक व्यक्त कर रहे हैं। सेल में किए गए उल्लेखनीय कार्य को याद कर रहे हैं। गुजरी बातों को शेयर कर रहे हैं। पद्मश्री, पद्म विभूषण डाक्टर वी.कृष्णामूर्ति सेल, भेल, मारुति उद्योग में भी सेवा दे चुके हैं। भारत सरकार के उद्योग विभाग के पूर्व सेक्रेटरी भी रह चुके थे।

ये खबर भी पढ़ें: सेफ्टी, टाउनशिप और अस्पताल का पोस्टमार्टम करेगी बीएसपी आफिसर्स एसोसिएशन की कमेटी, नेताजी और प्रशासनिक अधिकारियों से आवास खाली कराने पर जोर

सेल के अधिकारी बता रहे हैं कि भूतपूर्व चेयरमैन का तमिलनाडु के करौवेली में जन्म हुआ था। टेक्नीकल कॅरियर की शुरुआत सेकंड वर्ल्ड वार के दौर शुरू की थी। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिपलोमा किया था। मद्रास इलेक्ट्रीसिटी बोर्ड में सेवा दी। देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने इन्हें पॉवर प्रोजेक्ट में प्लानिंग कमीशन का चार्ज दिया। प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने इन्हें भारत हैवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड-भेल की कमान सौंपी। इसके बाद आटोमोबाइल इंडस्ट्री की तरफ रुख किया। मारुति 800 को लांच कराने वाले डाक्टर वी.कृष्णामूर्ति ही थे। उपलब्धियों की बात की जाए तो नेशनल मैन्युफैक्चरिंग कम्पीटिटीवीनेस काउंसिल-एमएमसीसी के चेयरमैन भी रहे। प्रधानमंत्री द्वारा गठित कमेटियों में भी शामिल रहे।

ये खबर भी पढ़ें: सेल में ई-1 से ई-7 ग्रेड के अधिकारियों को मिलेगा बंपर प्रमोशन, 30 को आएगा रिजल्ट, 2010 ई-0 बैच पर सबकी नजर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!